मीर उस्मान अली खान – अब तक के सबसे अमीर भारतीय !

1426

जब भी आप किसी से भारत के सबसे अमीर व्यक्ति के बारे में पूछते हैं, तो जो नाम सबसे पहले दिमाग में आते हैं, वे हैं टाटा और बिरला जैसे उद्योगपतियों के।

हालांकि, किसी को भी यह जानकर आश्चर्य नहीं होगा कि अब तक के सबसे अमीर भारतीय (मुद्रास्फीति के लिए एडजस्टेड नेटवर्थ), देश के अपने समय के वे राजा हो सकते हैं, जिन्होंने औपनिवेशिक शासन से पहले भारत के कुछ हिस्सों पर शासन किया था। बाद में देश एक लोकतंत्र बना। लेकिन इनमें से कौन सा राजा सबसे धनी रहा?

1911 से 1948 तक हैदराबाद पर शासन करने वाले मीर उस्मान अली खान निजाम अब तक के सबसे अमीर भारतीय थे उन्होंने 37 वर्षों तक शासन किया।

लेकिन वह वास्तव में कितने अमीर थे और पिछले कई दशकों में मुद्रास्फीति के हिसाब से आज उनकी संपत्ति कितनी होगी? ये सब जानेंगे हम इस लेख के माध्यम से, तो चलिए जानते हैं :-

1948 में रियासत को भारतीय लोकतांत्रिक तह में ले जाने से पहले हैदराबाद के अंतिम निज़ाम, मीर उस्मान अली खान एक अमीर व्यक्ति थे। वे इतने अमीर थे कि कल्पना करना भी मुश्किल है।

वह 1911 में हैदराबाद के निज़ाम के रूप में अपने पिता के उत्तराधिकारी बने और लगभग चार दशकों तक शीर्ष पर रहे। वे महबूब अली खान के दूसरे पुत्र थे।

एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल के नवीनतम अनुमानों से पता चलता है कि मुद्रास्फीति एडजस्ट करने के बाद, मीर उस्मान अली खान की कुल संपत्ति आज 17.47 लाख करोड़ रुपये (230 बिलियन डॉलर या 17,57,36,56,000.00 रुपये) से अधिक होती।

यह वर्तमान में दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति, टेस्ला और स्पेसएक्स के संस्थापक एलन मस्क की कुल संपत्ति 250 बिलियन डॉलर के करीब है।

पेपरवेट की जगह हीरे का इस्तेमाल

कहा जाता है कि निजाम ने पेपरवेट की जगह हीरे का इस्तेमाल किया था। हैदराबाद स्टेट बैंक नामक उनका अपना बैंक था, जिसे उन्होंने 1941 में स्थापित किया था।

बाद में इसका नाम बदल कर स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद और 2017 में, भारतीय स्टेट बैंक में विलय कर दिया गया। निज़ाम भव्य उपहारों के लिए प्रसिद्ध थे, और कहा जाता है कि उन्होंने ब्रिटिश राजकुमारी एलिजाबेथ को उनकी शादी में हीरे के गहने उपहार में दिए थे।

लोक कल्याण के लिए कार्य

निज़ाम ने अपने राज्य का विकास बिजली, रेलवे, सड़क और हवाई मार्ग बनाकर किया। उन्हें शिक्षा पर केंद्रित परोपकार के लिए भी जाना जाता था, जामिया निजामिया, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और दारुल उलूम देवबंद जैसे कुछ प्रमुख विश्वविद्यालयों को बहुत दान दिया।

इसके आलावा हैदराबाद स्टेट के लगभग सभी सार्वजनिक भवनों की स्थापना का श्रेय भी उनको ही जाता है, उदाहरण के लिए हैदराबाद हाई कोर्ट, उस्मानिया जनरल अस्पताल, यूनानी अस्पताल (गवर्नमेंट निज़ामिआ जनरल हॉस्पिटल), असेंबली हॉल, असफिया पुस्तकालय आदि।

मीर उसमान को “आधुनिक हैदराबाद का आर्टिटेक्ट” के रूप में भी जाना जाता था। उनका निधन 24 फरवरी 1967 को हुआ था।

यह भी पढ़ें :-