क्या सचमुच राजा सिकंदर ने जीता था दुनिया को?

2510

आज हम आपको दुनिया के उस राजे के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने पूरी दुनिया जितने का सपना देखा और वह उसको पूरा करने में नाकाम रहा था. जी आप जान गए होंगे कि हम दुनिया के प्रसिद्ध राजा सिकंदर की बात कर रहे हैं. आपको यह भी बता दें कि सिकंदर राजा ही एक ऐसा राजा था, जिसका अंग्रेजी और हिंदी दोनों में नाम अलग-अलग था. अंग्रेजी में उसका नाम ‘Alexander’ था और हिंदी में ‘सिकंदर’ था. आइये जानिए सिकंदर के बारे में वो बातें जो आपने आज तक नहीं सुनी होगी।


सिकंदर राजा का जनम

आपको बता दें कि सिकंदर फिलिप मकदूनिया के राजा का बेटा था, और उसका जनम 356 ईस्वी में ग्रीक में हुआ था. जब सिकंदर की उम्र 19 साल की थी, जब उनके पिता का देहांत हो गया था. पिता के मरने के बाद सिकंदर ने राजा बनने के लिए अपने भाईओं को मार दिया था।

गुरु ने दिखाया रास्ता

जैसे कि हम सब जानते हैं कि सिकंदर का दुनिया जितने का बहुत बड़ा सपना था, तो आपको बता दें कि यह सपना उसको उसके गुरु अरस्तु ने दिखाया था. अरस्तु एक महान इंसान थे, आज-कल की पुस्तकों में भी अरस्तु के विचारों का उल्लेख जरूर होता है।

विजयपथ का सफर

सिकंदर ने अपने विजयपथ के दौरान सबसे पहले अपने राज्य के आसपास क्षेत्रों को जितना शुरू किया था। फ़ारसी राज्य को जितने के लिए सिकंदर को 10 साल का समय लग गया था. इसके बाद वह अपनी सेना को लेकर एशिया की तरफ चला गया था।

पोरस के साथ हुआ भयंकर युद्ध

आपको बता दें कि जब सिकंदर राजा भारत आया तो उसने छोटे-छोटे राज्य को जितना शुरू कर दिया था, लेकिन जब उसका युद्ध पोरस के साथ हुआ तो उसकी सेना को काफी ठेस पहुंची थी, और अंत उसने पोरस के राजा पुरु सिंध को युद्ध रोकने को कहा और वह उनके बीच यह समझौता हुआ की जिस राज्य को सिकंदर जीतेगा उस पर पोरस का कब्ज़ा होगा।

नदी के किनारे से वापिस घर लोटा सिकंदर

सिकंदर की सेना युद्ध करते-करते थक चुकी थी और वह जब व्यास नदी पर पहुंची, तो उनको सन्देश मिल चूका था कि नदी के पार नंदवंशी राजा के पास सैनिकों की संख्या बहुत ज्यादा है, और उनको एहसास हुआ कि वह नंदवंशी को हराना बहुत मुश्किल है, तो सिकंदर को अपनी सेना के साथ नदी के किनारे से ही वापिस लौटना पड़ा था।

सिकंदर की मौत

सिकंदर का सबसे बड़ा सपना था विश्व विजेता बनने का, जो कि पूरा नहीं हो सका था. इसके पश्चात वह उदास रहने लगा और शराब का सेवन भी ज्यादा करने लग गया था. अंत 33 साल की उम्र में मलेरिया की वजह से उसकी मौत हो गई थी।

यह भी पढ़ें:-‘लक्ज़म्बर्ग सिटी’ यूरोप के दूसरे स्विट्जरलैंड के कुछ रोचक तथ्य

यह भी पढ़ें:-राजस्थान के मशहूर किले और महल