गुड़गांव की 7 डरावनी और सच्ची भुतहा घटनाएं!

महानगर दिल्ली से सटा गुड़गांव (अब गुरुग्राम) शहर भारत के बड़े शहरों में से एक है. इस शहर के बारे में कुछ ऐसी खौफनाक और रहस्यमयी भुतहा बातें हैं, जो एक से अधिक बार लोगों के साथ घट चुकी हैं. कुछ ऐसी असाधारण घटनाएँ, जिनके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं, लेकिन जो जानते हैं, वही इनकी भयावहता को महसूस कर सकते हैं. इस लेख में गुड़गांव शहर में घटित कुछ डरावनी और सच्ची कहानियां रखी गयी हैं, जिन्हें पढ़ कर आपके रौंगटे खड़े हो जायेंगे।

एम.जी. रोड – वीरान सड़क में औरत का भूत

women-in-white-sari-gurgaon
गुड़गांव शहर का एम.जी. रोड, गुड़गांव का सबसे सुनसान और भयावह रोड है. इस सड़क पर ड्राइव करने वालोंका मानना है कि उन्होंने कई बार इस सड़क पर सफेद साड़ी पहने औरत को देखा है, जो गाड़ियों के साथ-साथ भागती है. उसकी जीभ बांह जितनी लंबी और बाहर की तरफ उबली हुई आँखें हैं. कहते हैं कि इस औरत की मौत कुछ साल पहले इसी एरिया में हुई थी.(पूरी Post पढ़ें :-गुरूग्राम का एम.जी. रोड़ जहाँ सफ़ेद साड़ी में चुड़ैल गाड़ी के पीछे भागती है!!)

[adinserter block=”2″]

सैफरन बीपीओ, गुड़गांव : गुड़गांव की सबसे भुतहा जगह

saffron-bpo-gurgaon-most-haunted-place
कब्रिस्तान के ऊपर बना गुड़गांव का सैफरन काल सेंटर (BPO) गुड़गाँव की सबसे भुतहा जगह मानी जाती है. कहा जाता है इस बीपीओ में रोज(Rose) नाम की समयनिष्ठ (punctual) और मेहनती लड़की काम करती थी. वह कई महीनों तक लगातार “Employee of the Month” का ख़िताब जीतती रही. एक दिन अचानक फ़ोन पर बहुत लम्बी बातचीत करने के बाद उसने लम्बी छुट्टी ले ली, जो आश्चर्यजनक रूप से बढती चली गयी. उसके सह-कर्मियों ने उसके मकान-मालिक से बात की तो पता चला कि वहां इस नाम की कोई लड़की नहीं रहती थी. बहुत खोजबीन के बाद उसके परिवार को ढूँढा गया, जिन्होंने बताया की रोज़ आठ साल पहले मर चुकी थी! उसके दोस्त और सहकर्मी महीनों तक सदमे और दहशत की स्थिति में रहे, और अभी तक भी यह राज कायम है.(पूरी Post पढ़ें:- कब्रिस्तान पर बना हुआ एक कॉल सेंटर, जहां भूत करते है काम)

[adinserter block=”3″]

अशोक-विहार फ्लाईओवर – आत्मा जो बहकाती है

ashok-vihar-flyover-haunted
गुड़गांव के अशोक विहार फ्लाईओवर पर रात के 1:00 बजे से 4:00 बजे सफेद साड़ी पहने हुए एक औरत मिलती है, जो आने जाने वाली गाड़ी के चालकों से रास्ता पूछती है. कोई ड्राईवर अगर उस औरत के पास रास्ता बताने के लिए गाड़ी रोकता है, तो अजीब ढंग से उसकी गाड़ी की ब्रेक्स फेल होने लगती है और गाड़ी गोल-गोल घूमती रहती है. अगर आप रात को इस फ्लाईओवर पर सफेद साड़ी पहने हुए किसी औरत को देखें तो भाग लें, इसी में आपकी भलाई है!

[adinserter block=”4″]

सेक्टर-7, गुडगाँव – घर जो आपको पागल कर देगा

gurgaon-the-haunted-apartment-that-turns-residents-mad

गुड़गांव के सेक्टर 7 में अपार्टमेन्ट के ग्राउंड फ्लोर भुतहा समझा जाता है. इस अपार्टमेंट के आस-पास रहने वालों को रात के समय बाथरूम में नल और शावर के चलने की आवाजें सुनाई देती हैं. खास कर इस घर में रहने वालों के साथ तो और भी बुरा अनुभव सुनने में आया है. यहाँ रहने वालों को बुरे स्वप्न और मानसिक परेशानियो के अलावा कुछ साए भी नज़र आते हैं.  कहा जाता है इस फ्लैट के बाथरूम में कई वर्ष एक व्यक्ति की निर्मम हत्या कर दी गयी थी, जिसकी वजह से यह अपार्टमेंट भुतहा बन गया।

[adinserter block=”5″]

सेक्टर 56, गुड़गांव- असाधारण गतिविधि

sector-56-gurgaon-paranormal-activity

यहाँ की रहने वाली पूजा सिंह ने बताया जब उनका परिवार इस सेक्टर के अपार्टमेंट में रहने के लिए आया, तो उनको पहले दिन से ही अपार्टमेंट में असाधारण गतिविधियों का सामना करना पड़ा. जैसे कि आधी रात को दरवाज़ा खटखटाना और लाइट्स का अपने आप जलना-बुझना. हद तो तब हुई जब घर में एक रिमोट से चलने वाली बड़ी कार अपने आप चलने लगी और बेकाबू हो गयी. इसके बाद उन्होंने फ्लैट बदलने में ही भलाई समझी.(पूरी Post पढ़ें:- गुड़गांव का एक भूतहा घर, जहां अपने आप चलती है खिलौने वाली कार)

[adinserter block=”6″]

सेक्टर 15, गुड़गांव – घोस्ट कार

sector-15-gurgaon-ghost-car-that-kills
सर्दियों में धुंध भरी रात के समय में गुड़गांव के सेक्टर 15 के रोड पर न चलने की सलाह दी जाती है.  इन हादसों की वजह यहाँ पर रात को चलने वाली एक घोस्ट कार है, जो अत्याधिक तेज़ी से आपके समीप से गुज़रती है. अधिकतर जोशीले लोग इस कार का पीछा करते हैं और अंत में एक बैरीकेड से टकरा जाते हैं, जबकि वह कार दूर-दूर तक नज़र नहीं आती.

[adinserter block=”7″]

साइबर सिटी, गुड़गांव

गुडगाँव की साइबर सिटी के पास बन रहे एक स्कूल के मालिकों को निर्माण सामग्री की निगरानी के लिए चौकीदार ढूँढने में बहुत परेशानी का सामना पड़ा. कहते हैं कि यहाँ रात के समय पुरुष, स्त्री, और बच्चों की दर्द और पीड़ा में रोने की आवाजें सुनाई देती थी, लेकिन ढूँढने पर कोई नहीं मिलता था. सुबह होते ही सभी चौकीदार ऐसे सरपट भागे कि अपनी दिहाड़ी लेने भी नहीं आये. इस समस्या से निपटने के लिए स्कूल में पूजा रखवाई गयी, तो मामला कुछ शांत हुआ.

[adinserter block=”8″]

मिलते-जुलते लेख भी पढ़ें: