ये है दुनिया का सबसे छोटा योग प्रशिक्षक, बनाया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड!

1432

बच्चे गीली मिट्टी के समान होते हैं उन्हें जैसा आकार दो वो वैसे ही आकार में ढल जाते हैं। ऐसा ही एक कारनामा 9 साल के बच्चे ने कर दिखाया है। उसने अपने नाम एक ऐसी उपलब्धि हासिल की है जिसे जानकर हर भारतीय का सिर गर्व से उठ जाएगा। गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के अनुसार 9 साल की उम्र के रेयांश सुरानी ने दुनिया के सबसे कम उम्र के सर्टिफाइट योग प्रशिक्षक बन गए हैं।

चलिए जानते हैं इस पोस्ट के माध्यम से रेयांश सुरानी के बारे में:-

छोटी उम्र से शुरू किया अभ्यास

दरअसल रेयांश अपने माता-पिता के साथ दुबई में रहते हैं। रेयांश ने चार साल की उम्र में योग का अभ्यास करना शुरू कर दिया था, वे अपने माता-पिता को योग करते देखा करते थे और उनके साथ योग में हिस्सा लिया करते थे।

एक योग्य प्रशिक्षक बनने के लिए रेयांश की राह तब शुरू हुई जब उन्हें पता चला कि उनके माता-पिता भारत के ऋषिकेश में एक योग शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में भाग ले रहे हैं तब उन्होंने एक योग्य प्रशिक्षक बनने के अपने सपने को आगे बढ़ाने का फैसला किया।

200 घंटे का प्रशिक्षण पूरा किया

प्रशिक्षण के दौरान आयुर्वेद के महत्वपूर्ण हिस्सों से भी रेयांश का परिचय हुआ। उन्होंने 200 घंटे का योग शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम पूरा किया और उन्होंने ने 27 जुलाई, 2021 को आनंद शेखर योग स्कूल से अपना प्रमाण पत्र प्राप्त किया।

जब उन्हें यह प्रमाण पत्र दिया गया तो उनकी उम्र 9 साल 220 दिन थी। इस तरह वे दुनिया के सबसे कम उम्र के सर्टिफाइड योग प्रशिक्षक बन गए।

दुबई में रहने के बावजूद रेयांश ने बिना आधुनिक सुख-सुविधाओं वाली जीवनशैली के रहना बहुत जल्द सिख लिया था। नया माहौल उन्हें प्रकृति के और करीब ले आया।

उन्होंने बताया कि पहले उन्हें लगता था कि योग केवल शारीरिक व्यायाम और सांस लेने के बारे में है लेकिन प्रशिक्षण कार्यक्रम के बाद उन्हें अहसास हुआ कि यह सिर्फ बाहर ही नहीं बल्कि अंदर तक असर करता है।

आनंद शेखर योग स्कूल में 200 घंटे का योग शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम चार सप्ताह तक चलने वाला गहन आवासीय कार्यक्रम है।

शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के दौरान रेयांश का दैनिक कार्यक्रम:-

6:30 – प्राणायाम और क्रिया
7:30 – अष्टांग विनयसा/संरेखण प्रवाह
9:00 – नाश्ता
10:00 – योग दर्शन
12:00 – आयुर्वेद / षट्कर्म / योग-शरीर रचना
13:00 – लंच
14:00 – आराम और असाइनमेंट
15:00 – संरेखण कार्यशाला / शिक्षण पद्धति
17:00 – टी ब्रेक
17:30 – हठ प्रवाह और ध्यान
19:30 – रात का खाना

योग कक्षाएं

वर्तमान में कोरोना प्रतिबंधों के चलते रेयांश 10-15 सीखने वालों को लेकर योग कक्षाएं चलाते हैं। हालांकि अभी योग शिक्षक के तौर पर उन्होंने भविष्य की कोई योजना नहीं बनाई है लेकिन वे कहते हैं कि योग सिखाना उन्हें संतुष्टि प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें :-