यह है दुनिया का इकलौता ऐसा गांव, जहां कभी बारिश नहीं होती

1352

बारिश सभी को अच्छी है क्योंकि यह ताजगी का एहसास दिलाती है। जब हम सूर्य द्वारा गर्म हुई भूमि पर वर्षा की बूंदों को गिरते हुए देखते हैं, तो ऐसा लगता है जैसे पृथ्वी पुनर्जीवित हो रही है। भारत के मेघालय राज्य के मौसिनराम गांव में दुनिया में सबसे ज्यादा बारिश होती है।

लेकिन दुनिया में एक ऐसा गांव भी मौजूद है जहाँ बारिश ही नहीं होती। चौंक गए न, आज इस पोस्ट में हम इसी अनोखे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं, तो चलिए जानते हैं

कहाँ पर है ये जगह

इस गांव का नाम अल-हुतैब (Al-Hutaib) है। यह यमन की राजधानी सना के पश्चिम में एक पहाड़ी गांव है। यह गांव ज़मीन से 3200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस गांव में पहाड़ियों में बने कई खूबसूरत घर हैं।

इस गांव में बारिश के बादल गांव के निचले स्तर पर बनते हैं, इसलिए कहा जाता है कि यहां बारिश नहीं होती है। एक तरह से यह बादलों में बसा गांव है। पर्यटक अक्सर यहां आते देखे जाते हैं और शानदार नजारों का आनंद भी लेते हैं।

इस गांव के आसपास का माहौल काफी गर्म होता है। वैसे तो सर्दी के दिनों में सुबह का माहौल काफी ठंडा रहता है, लेकिन जैसे ही सूरज उगता है, लोगों को गर्मी का सामना करना पड़ता है।

ग्रामीण और शहरी विशेषताओं के साथ प्राचीन और आधुनिक वास्तुकला दोनों को मिलाने वाला यह गांव अब ‘अल-बोहरा या अल-मुकर्मा‘ लोगों का गढ़ है। इन्हें यमनी समुदाय कहा जाता है।

इनका नेतृत्व मोहम्मद बुरहानुद्दीन ने किया था। यह मुसलमानों के बीच एक इस्माइली (मुस्लिम) संप्रदाय था और बुरहानुद्दीन मुंबई में रहते थे। 2014 में उनका निधन हो गया। लेकिन अंत तक वे हर तीन साल में इस गांव में आते थे।

यह भी पढ़ें :-