विश्व के 10 सर्वाधिक वर्षा वाले स्थान

21981

वर्षा ऋतु जिसमें चारों और सब हरा भरा हो जाता है. यह वह समय होता है जब जीवन जैसे मंद-गतिमय व आनंद का मिला-जुला स्वरुप बन जाता है. गरमा-गर्म चाय-पकौड़ा, हंसी मजाक और बारिश में भीगना सब को भाता है. प्रकृति की लीला कुछ ऐसी है कि कहीं तो साल भर में अत्यधिक वर्षा होती है कहीं पर नाम-मात्र छींटे पड़ते है. आईये जानते हैं विश्व के 10 स्थानों के बारे में जहाँ साल भर में सबसे अधिक बारिश होती है.

1चेरापूंजी, भारत (वर्षा 498 इंच)

मेघालय के पूर्वी खासी हिल्स जिले के तहत इस जगह को भी दुनिया की बारिश राजधानी कहा जाता है. चेरापूंजी के आसपास घाटियों में उपोष्णकटिबंधीय जंगलों सहित पौधों की कई स्थानिक प्रजातियों के अलावा समृद्ध वनस्पति पाई जाती है. भारत सरकार ने इस जगह में कई बारिश सैरगाह (Rain Resorts) विकसित किये हैं. यह एक अच्छा पर्यटन स्थल है.

बाद में पढ़ेंचेरापूंजी में इतनी अधिक वर्षा क्यों होती है?

2मासिनराम, भारत (वर्षा 468 इंच)

इस स्थान को विश्व में सबसे अधिक वर्षा वाले स्थान के रूप में जाना जाता है. वैसे यह बहस का विषय रहा है कि चेरापूंजी में अधिक बारिश होती है या मासिनराम में. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के अनुसार, मासिनराम में वर्ष 1985 में कुल 1000 इंच बारिश दर्ज की गयी थी. यह चेरापूंजी से मात्र 15 किमी दूर स्थित है.

यह भी पढ़ें: मासिनराम में इतनी बारिश क्यों होती है?

3वैयलील (Waialeale), संयुक्त राज्य अमेरिका (वर्षा 451 इंच)

हवाई द्वीप पर स्थित और पर्वत वैयलील के नाम की जगह वैयलील में 451 इंच सालाना वर्षा होती है. अधिक बारिश के कारण यहाँ पर Astelia waialealae, Melisope waialealae और Dabutia waialealae जैसे पौधों की नई प्रजातियाँ यहाँ पैदा हुई हैं. यहाँ एक सुंदर झील भी है जो वर्षा के पानी का भण्डारण करती है. “वैयलील” का अर्थ हैं अत्यधिक पानी.

4देबद्शचा(Debudscha), कैमरून (वर्षा 404.6 इंच)

अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट कैमरून के आधार पर स्थित इस गाँव में 404.6 इंच तक सालाना वर्षा होती है. दक्षिण पश्चिमी क्षेत्र में स्थित यह गांव दक्षिण अटलांटिक महासागर के ठीक सामने है. माउंट कैमरून पहाड़ी (4095 मी) काले बादलों को रोक लेती है जिससे यहाँ इतनी बारिश होती है.

यह भी पढ़े: महासागरों के 4 सबसे खतरनाक हिस्से जो आपकी जान भी ले सकते हैं

5क़ुइब्दो (Quibdo), कैमरून (वर्षा 404.6 इंच)

कोलंबिया की हरी घाटी और चोको विभाग की राजधानी यह शहर पृथ्वी पर सर्वाधिक बारिश वाले स्थानों में पांचवें नंबर पर है. यहाँ 353.9 इंच एक वार्षिक वर्षा होती है. यह शहर अत्रातो (Atrato) नदी  के तट पर स्थित है.

6बेलेंदें केर (Bellenden  Ker), क्वींसलैंड, ऑस्ट्रेलिया (वर्षा 340 इंच)

उत्तर पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के माउंट Bellenden केर की तलहटी पर स्थित इस स्थान पर 340 इंच सालाना औसत वर्षा होती है. इस जगह के नाम पर एक पर्वत श्रृंखला है. रसेल नदी दक्षिण पूर्वी भाग में तो दक्षिण पश्चिम तट पर Mulgraves नदी बहती है. भारी वर्षा के कारण इस स्थान पर बहुत सारे झरने हैं जिनमें Kearneys Falls, Fishery falls, Josephine Falls, Tchupala Falls, Silver Creek Falls, Wallicher Falls, Nandroya Falls, Whites Falls and Clamshell Falls प्रमुख हैं.

flickr

यह भी पढ़ें: दिलचस्प तस्वीरें जो आपके दिल को छू लेंगी।

7यंदागोया (Andagoya), कोलंबिया (वर्षा 281 इंच)

पश्चिम-मध्य भाग में स्थित, स्पेनिश आक्रान्ता “पास्कुअल डे अन्दगोया”(Pascual de Andagoya) के नाम पर स्थित इस गांव में 300 इंच से कुछ कम वर्षा होती है. पोखरों से भरी जगह इस 281.0 इंच हर वर्ष दर्ज की जाती है. स्थानीय निवासी हालाँकि बारिश के पानी के सरंक्षण के लिए प्रयासरत हैं.

camargom

8हेंडरसन झील, कनाडा (वर्षा 256 इंच)

ब्रिटिश कोलंबिया के वैंकूवर द्वीप में स्थित हेंडरसन झील पृथ्वी पर सबसे अधिक वर्षा वाले स्थानों में से है. यहाँ मछली अभयारण्य है. यह कनाडा का सबसे नम स्थान भी है.

wordpress

यह भी पढ़ें: भारत के उच्च न्यायालयों से जुड़ीं कुछ दिलचस्प बातें!

9किकोरी(Kikori), पापुआ न्यू गिनी (वर्षा 242.9 इंच)

किकोरी नदी के डेल्टा में स्थित इस जगह सालाना 242.9 इंच औसत दर्ज की जाती है. यहाँ पर घने जंगल है और डेल्टा में तेल के खनन केंद्र भी हैं. दलदली मिट्टी से भरी नदियाँ खतरनाक है। Kutubu तेल संयुक्त उद्यम द्वारा यहाँ अपनी पहली व्यावसायिक तेल भंडार पाए गये थे जिसके लिए पापुआ की खाड़ी से तेल पाइप लाइन की स्थापना की गयी.

google

10तवोय(Tavoy), म्यांमार (वर्षा 214.6 इंच)

दक्षिण-पूर्व एशिया में स्थित यह स्थान सालाना 214.6 इंच औसत वर्षा दर्ज करता है. यह जगह अंडमान सागर में गिरती तवोय(Tavoy) नदी के ठीक ऊपर है. यह तटीय व्यापार का केंद्र है। बिलौकतौंग(Bilauktaung) श्रृंखला की तलहटी पर स्थित यह पहाड़ी क्षेत्र म्यांमार और थाईलैंड के बीच की सीमा भी बनाता है. चावल यहां की मुख्य फसल है.

islandsafarimergui

यह भी पढ़ें: भारत के सर्वप्रिय पारंपरिक लोक-नाच

Comments