भारत के इतिहास के 10 सबसे बड़े सांप्रदायिक दंगे

33178

भारत में साम्प्रदायिक दंगों का इतिहास बहुत पुराना है. भारत में साम्प्रदायिक दंगों की शुरुआत संभवत: कज्हुहुमालाई(Kazhuhumalai) और सिवाकासी(Sivakasi) में सन 1895 और 1899 होने वाले दंगों से शुरू हुई. भारत विभाजन से पहले कोलकाता में सन 1946 में जातिगत हिंसा हुई जिसको “सीधी कार्रवाई दिवस(Direct Action Day)” से भी जाना जाता है. इसके अलावा नागपुर के दंगे (सन 1927), विभाजन के दंगे (सन 1947), रामनाद दंगे (सन 1957) और 2006 में महाराष्ट्र में घटित दलित दंगे शामिल हैं. यह है भारत में अब तक हुए सबसे त्रासदीपूर्ण जातिगत दंगों की सूची जिन्होंने भारत की एकता और सांप्रदायिक सदभाव को बुरी तरह प्रभावित किया.

1कलकत्ता के दंगे(Calcutta Riots), सन 1946

सन 1946 में कलकत्ता में हुए इन दंगों को “डायरेक्ट एक्शन दिवस” के नाम से भी जाना जाता है. यह दंगे भारत में हिंदू-मुस्लिम समुदाय में होने वाली हिंसा के परिणामस्वरूप हुए थे. उस समय भारत ब्रिटिश शासन के अधीन था. इन दंगों में 4,000 लोगों ने अपनी जानें गंवाई थी और 10,000 से भी ज्यादा लोग घायल हुए थे.

wordpress

यह भी पढ़ें: भारतीय इतिहास की 12 भयंकर प्राकृतिक आपदाएं

Back

LEAVE A REPLY