Home OMG!! भारत में अब तक के 10 सबसे बड़े घोटाले

भारत में अब तक के 10 सबसे बड़े घोटाले

0
16809
waqf-land-scam

खेद का विषय यह है कि भारत में नित नए घोटाले सामने आते रहतें है। अधिकतर घोटालों में गुनेहगार अभी तक क़ानून की पकड़ से बाहर है। इसका मुख्य कारण यह है कि भ्रष्टाचार के अधिकतर मामले भारतीय अदालतों में लंबित पड़े हैं।  यहाँ प्रस्तुत है, अनगिनत घोटालों में से चुनिंदा घोटाले, जो भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अंत्यंत घातक रहें है।

1भारतीय कोयला आबंटन घोटाला

इस घोटाले में कोयले का गलत तरीके से आबंटन हुआ था। बिना किसी बोली-प्रक्रिया के कोयले के ब्लॉक की नीलामी की गई, जिससे 1.86 लाख करोड़ का नुक्सान हुआ था। मनमोहन सिंह नीत कांग्रेस गठबंधन सरकार के समय यह घोटाला हुआ था।

यह भी पढ़ें: न्यूयॉर्क शहर की कुछ अदभुत तस्वीरें

22जी स्पेक्ट्रम घोटाला

2G-scam

2g स्पेक्ट्रम बहुत बड़ा घोटाला था। इसमें यूनिफाइड एक्सेस सर्विस लाइसेंस का आबंटन हुआ था। इस घोटाले से 1.76 लाख करोड़ का नुकसान बताया जाता है। 2g घोटाला कोयले घोटाले से 5 वर्ष पहले हुआ था, जब भारत मंदी के दौर से गुज़र रहा था। अब भी इस घोटाले को ले कर कई लोगों के ऊपर अदालती करवाई चल रही है।

यह भी पढ़ें: भारत में किये जाने वाले 5 सबसे ‘अवांछित’ जॉब्स

3वक्फ बोर्ड लैंड घोटाला

waqf-land-scam

इस घोटाले में कर्नाटक की वक्फ बोर्ड के अधीन जमीन को गलत तरीके से आबंटन किया गया। वक्फ बोर्ड एक मुस्लिम चैरिटेबल ट्रस्ट है, जो गरीब मुसलमानों की मदद के लिए बनी थी। एक रिपोर्ट में पता चला है कि लगभग 50% जमीन गलत तरीके से सरकारी काम करने वालों ने ले ली। इससे 1.5 से 2 लाख करोड़ का नुक्सान हुआ था।

यह भी पढ़ें: शीर्ष भारतीय मसाले और उनके स्वास्थ्य लाभ

4कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला

कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला भारत के इतिहास में एक और बड़ा घोटाला था। अंदाजा था कि 70,000 करोड़ कॉमनवेल्थ की गेम्स में लगाना था। लेकिन इसका 50% ही खेलों और उससे सम्बंधित गतिविधिओं में लगाया गया। यह घोटाला एक तरह की सीधी लूट थी। पैसा उन लोगों को दिया गया, जो असल में थे ही नहीं। मशीनों को तय मूल्यों से दोगुनी कीमत में खरीदी दिखाया गया था।

यह भी पढ़ें: भारतीय इतिहास की 12 भयंकर प्राकृतिक आपदाएं

5तेलगी घोटाला

अब्दुल करीम तेलगी नाम के शख्स ने नकली टिकट पेपर बनाने में महारत हासिल की थी। उसने नकली स्टाम्प पेपर को बैंकों को और कई संस्थाओं को बेचा। उसने नकली स्टाम्प पेपर्स का कारोबार भारत के 12 राज्यों में फैला दिया था।  आकलन के अनुसार नकली स्टैम्प्स की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था को 20,000 करोड़ का नुक्सान हुआ था।

यह भी पढ़ें: दुनिया के 10 अद्भुत पेड़ पर बने मकान

6सत्यम घोटाला

satyam

सत्यम घोटाला भारत के कॉर्पोरेट्स जगत में सबसे बड़ा घोटाला था, जिसमें 14000 करोड़ का नुक्सान हुआ था। सत्यम के चेयरमैन रामालिंगा राजू ने सब को अंधेरे में रखा। इस घोटाले ने उन निवेशकों को हिला के रख दिया, जिन्होंने सत्यम कम्पनी में निवेश किया था। बाद में टेक महिंद्रा ने सत्यम कंपनी को खरीद लिया था।

यह भी पढ़ें: विलुप्त हो रही प्रजातियाँ जिनके बारे में आपको नहीं पता

7बोफोर्स घोटाला

2G-scam


बोफोर्स तोप घोटाला 1980 और 1990 के दशक में हुआ था। स्वीडन की बोफोर्स एबी कम्पनी ने भारत को 155 एमएम होवित्ज़र तोप सौदे के लिए भारत सरकार के राजनीतिज्ञों को रिश्वत दी। इस घोटाले में 1 करोड़ 60 लाख डॉलर की रिश्वत कथित तौर पर सत्तासीन कांग्रेसी नेताओं और राजीव गाँधी को दी गई बताई गयी है।

यह भी पढ़ें: विस्मयकारी शीर्ष 10 तकनीकी खोजें

8चारा घोटाला

1996 के चारा घोटाले में 900 करोड़ का नुक्सान हुआ था, जो की उस समय में बहुत बड़ी रकम थी। इस घोटाले में बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव मुख्य आरोपी है। पक्के सबूत मिलने के बाद उन्हें हिरासत में लिया गया था, परन्तु बाद में जमानत पर छोड़ दिया गया, मामला अदालत में लंबित पड़ा है।

यह भी पढ़ें: ये हैं साल 2015 की 10 बड़ी खोजें!

9हवाला स्कैंडल

हवाला स्केंडल में 100 करोड़ रुपयों का नुक्सान हुआ था। यह घोटाला 1996 में सामने आया था, इसमें उन लोगों का नाम सामने आया, जो सरकार को चला रहे थे। जो ह्वाला के दलालों से रिश्वत ले रहे थे। इस घोटाले में लालकृष्ण अडवाणी का भी नाम आया, जो उस समय विरोधी पार्टी के सदस्य थे।

यह भी पढ़ें: अपने आप को बेहतर बनाने के 10 टिप्स!

10स्टॉक मार्किट घोटाला

harshad-mehta

निवेशक 4,000 करोड़ के घोटाले को अपने दिलों दिमाग से कभी नहीं भुला सकते कि कैसे शेयर दलाल हर्षद मेहता ने उनके पैसे डूबा दिए थे। एक अन्य शेयर दलाल सी.आर. भंसाली ने 1,200 करोड़ एफडी, म्यूचुअल फंड के माध्यम से जनता से उगाहे और अस्तित्वहीन फर्मों के माध्यम से डिबेंचर और व्यक्तिगत लाभ के लिए उन्हें शेयरों में निवेश कर दिया। अन्य शेयर दलाल केतन पारेख ने शेयरों की कीमतों में हेरफेर करने के लिए बैंकों से उधार के पैसे के माध्यम से चयनित शेयरों में सर्कुलर ट्रेडिंग की जिसे 900 का घाटा हुआ था।

NO COMMENTS

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

RSS18
Follow by Email
Facebook0
X (Twitter)21
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram20
WhatsApp