केले का फूल है मधुमेह का रामबाण इलाज, जाने कैसे करें सेवन

567

मधुमेह एक तेजी से बढ़ती गंभीर समस्या है जिसका कोई स्थायी इलाज नहीं है। लेकिन इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि बेहतर डाइट के जरिए इसे कंट्रोल किया जा सकता है।

विशेषज्ञ इस बात से सहमत हैं कि साधारण जीवनशैली में बदलाव जैसे व्यायाम करना, फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन ब्लड शुगर को नियंत्रित कर सकता है।

शुगर की कई तरह की दवाएं हैं, लेकिन इसके लिए आप कुछ घरेलू या आयुर्वेदिक नुस्खे भी आजमा सकते हैं। मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए केले का फूल एक बेहतर उपाय साबित हो सकता है।

माना जाता है कि केले के फूलों का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। इसके अलावा इसमें फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा अधिक होती है, जिसके कारण यह शुगर को नियंत्रित करने के लिए बेहतर है।

ये बैंगनी फूल टाइप 2 मधुमेह को रोकने और नियंत्रित करने के लिए फायदेमंद माने जाते हैं क्योंकि यह शरीर में रक्त शर्करा को नियंत्रित करता है।

पोषक तत्व

केले के फूलों में एंटीऑक्सिडेंट, खनिज और प्रोटीन सहित कई पोषक तत्व होते हैं। 3.5-औंस (100 ग्राम) केले के फूल में कैलोरी: 23, कार्ब्स: 4 ग्राम, फैट: 0 ग्राम और प्रोटीन: 1.5 ग्राम होता है।

यह पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, लोहा, जस्ता और तांबे जैसे खनिजों का खजाना भी है। ये खनिज आपके शरीर के कई कार्यों में सहायता करते हैं।

रक्त शर्करा को नियंत्रित करने वाले फाइबर

वे कैलोरी में कम लेकिन फाइबर में उच्च होते हैं। एक अध्ययन के अनुसार, इसमें पाए जाने वाले घुलनशील फाइबर शरीर में कोलेस्ट्रॉल और रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं, जबकि अघुलनशील फाइबर कब्ज और अन्य पाचन समस्याओं को रोकने में मदद कर सकते हैं।

केले के फूलों में वे सभी आवश्यक अमीनो एसिड होते हैं जिनकी आपके शरीर को जरूरत होती है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें केले के फल और अन्य उष्णकटिबंधीय फलों की तुलना में कम प्राकृतिक चीनी होती है, जिसके कारण यह मधुमेह रोगियों के लिए एक बेहतर विकल्प है।

कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर को एक साथ खत्म करें

केले के फूलों में कई यौगिक होते हैं जो उच्च कोलेस्ट्रॉल और रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकते हैं। एक अध्ययन में पाया गया कि जिन चूहों को केले के फूल का पाउडर दिया गया था, उनमें कोलेस्ट्रॉल और रक्त शर्करा का स्तर कम था।

एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि केले के फूल में ‘क्वेरसेटिन‘ और ‘कैटेचिन‘ जैसे एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो खाने के बाद ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकते हैं। ये एंटीऑक्सिडेंट कार्ब्स को अवशोषित करने वाले एंजाइम को अवरुद्ध करके काम कर सकते हैं।

आंतों को स्वस्थ और मजबूत बनाता है

घुलनशील और अघुलनशील फाइबर से भरपूर, केले के फूल पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकते हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि फाइबर के सेवन से आंत के माइक्रोबायोम में सुधार हो सकता है जो कोलन कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। फाइबर पेट में अच्छे बैक्टीरिया की संख्या बढ़ाने में मदद करने के लिए प्रीबायोटिक के रूप में भी काम करता है।

कैसे करें उपयोग

आपको बता दें कि केले के फूल उतने ही फायदेमंद होते हैं जितने कि केले। केले की तरह इसमें भी वे सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर के बेहतर कामकाज के लिए जरूरी होते हैं।

केले के फूल न सिर्फ डायबिटीज बल्कि कई गंभीर बीमारियों से भी बचाव करने की क्षमता रखते हैं। केले के फूल को आप कच्चा या पका कर खा सकते हैं। इसके अलावा आप इसे सलाद या सूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-