जानिए दुनिया की सबसे खतरनाक नदियों के बारे में!

993

नदियां हमारे जीवन का आधार होती हैं, लेकिन क्या होगा जब यह नदियां ही जानलेवा बन जाए। आज हम इस पोस्ट में आपको बताने जा रहे हैं दुनिया की सबसे खतरनाक नदियों के बारे में :-

येलो रिवर चाइना

चीन से होकर बहने वाली यह नदी लम्बाई के हिसाब से विश्व में सातवां स्थान रखती है। यह दुनिया की सबसे खतरनाक जानलेवा नदियों में से एक है। यह नदी अपने बहाव क्षेत्र में,अपने रास्ते को कुल 27 बार बदलती है।

- Advertisement -

इसमें हर साल तेज़ बाढ़ आती है। अगर यह नदी अपना रौद्र रूप धारण कर ले तो इसके रास्ते में आने वाली हर चीज को यह मिटा देती है।

हर साल आने वाली बाढ़ के कारण यहाँ के हजारों लोगों को जान व् माल का भारी नुकसान होता है। जिसके कारण इस नदी को चीन में “दुःख की नदी” भी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें :-भारत की 10 सबसे लम्बी नदियाँ

कांगो रिवर अफ्रीका

कांगो नदी को अफ्रीका में अंधकार का हृदय भी कहा जाता है। यह नील नदी के बाद अफ्रीका की सबसे बड़ा नदी है और उतनी ही ज्यादा खौफनाक भी है।

कांगो नदी को सबसे गहरी नदी माना जाता है। इसकी संपूर्ण लंबाई 2,900 मील है। नदी के पास 75 मील-लंबी घाटी है, जिसे “गेट्स ऑफ नरक” कहा जाता है।

यह भी पढ़ें :-रोचक तथ्य- म.प्र. और गुजरात की जीवन रेखा नर्मदा नदी

नील रिवर अफ्रीका

नील नदी दुनिया की सबसे लम्बी नदी है, जिसकी लम्बाई 6650 किलोमीटर है,लेकिन इस नदी के पीछे छिपे खतरे को अक्सर हम नजरअंदाज कर देते है।

इस नदी में दुनिया के सबसे खतरनाक जीव निवास करते हैं। जिसमें जहरीले सांप, खतरनाक मकड़ियां शामिल है, साथ ही इस नदी में विशालकाय मगरमच्छ एवं जहरीले मच्छर भी पाए जाते हैं जो कि बहुत ज़यादा जानलेवा हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-भारत की सबसे लम्बी नदियों में से एक है ताप्ती नदी

अमेज़न नदी

यह दक्षिण अमेरिका की दूसरी सबसे बड़ी नदी है, जो कि 6400 किलोमीटर यात्रा के दौरान मुख्य रूप से जंगलो के बीचो-बीच से होकर गुजरती है।

जहाँ न जाने कितने जीव जंतु रहते हैं जिनसे हम आज भी अनजान है और जिन जीवों से हम परिचित है, वे बहुत खतरनाक है।

इस नदी में विशालकाय अनाकोंडा रहता है जो हम इंसानो को जिन्दा ही निगल जाने में सक्षम है। इस नदी में खून की प्यासी मछली भी पाई जाती है, जो किसी भी इंसान को पल भर में मौत की नीद सुला सकती है।

यह भी पढ़ें :-धरती की विशालकाय नदी अमेज़न के बारे में रोचक तथ्य

सीतारम नदी इंडोनेशिया

इसे दुनिया की सबसे दूषित नदियों में एक गिना जाता है। दूर से देखने पर आपको लगेगा कि जैसे आप कोई कूड़े का ढेर देख रहें हो लेकिन इस कूड़े के ढेर के नीचे एक नदी भी बहती है।

इस नदी का पानी बेहद दूषित और बैक्टीरिया से भरी हुई है लेकिन इसके बावजूद यहाँ के स्थानीय लोग इस नदी के पानी को नहाने एवं कुछ लोग तो इस पानी को घरेलू कामों में भी इस्तेमाल करते हैं ।

इंडोनेशिया सरकार ने हाल ही में इसकी सफाई के लिए अभियान तो शुरू किया है लेकिन इसके कोई अच्छे परिणाम जमीनी स्तर पर नजर नहीं आ रहे हैं।

यह भी पढें :-आखिर क्या है गंगा नदी के पवित्र होने का रहस्य

रिओ तिन्तो रिवर स्पेन

स्पेन में बहने वाली इस नदी को खूनी लाल नदी भी कहा जाता है, क्योकि इस नदी का ज्यादातर हिस्सा लाल रंग का दिखाई पड़ता है, इसकी सबसे बड़ी वजह है कि यह नदी सोने, चांदी, ताम्बा एवं कई अन्य धातुओं के खदानों से होकर गुजरती है इसलिए इस नदी में धातु की मात्रा काफी ज़्यादा पाई जाती है। जिसकी वजह से इसका पानी पीने में जान भी जा सकती है।

यह भी पढ़ें :-कर्नाटक के ब्रह्मगिरि पर्वत से बहती कावेरी नदी

रेड रिवर अमेरिका

अमेरिका के दक्षिणी भाग में बहने वाली यह नदी काफी खूबसूरत है लेकिन यह नदी जितनी खूबसूरत है उतनी ही डरावनी भी है क्योंकि इस नदी का बहाव अपने मन की मालिक है, इस नदी का बहाव रातो -रात बदल जाता है।

इस नदी में सबसे खतरनाक है इसका भवर, जो कि इस नदी के तकरीबन हर हिस्से में देखने को मिलता है जिसकी चपेट में अगर कोई इंसान आ जाए तो उसका बच पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। इस नदी के आसपास बहुत सारे दलदलीय क्षेत्र भी पाए जाते है।

यह भी पढ़े :-जानिए कृष्णा नदी का सबसे लम्बा सफर

पराना रिवर

पराना नदी दक्षिण मध्य अमेरिका में बहने वाली एक नदी है। पराना नदी का मतलब है- ‘समुद्र जैसी विशाल.’ यह ब्राजील, पैराग्वे और अर्जेंटीना में बहते हुए 4880 किमी का सफर तय करती है।

पराना नदी में मजबूत धाराएं होती हैं और लगातार बाढ़ पैदा होते है। बाढ़ उन लोगों की मुसीबतें बढ़ा देती हैं जो नदी के किनारों या आसपास में बसे हैं। अक्सर बाढ़ के दौरान यह नदी काफी जान-माल का नुकसान करती है।

यह भी पढ़ें :-

जानिए गोदावरी नदी के अनेक नामों की विशेषता के बारे में

आखिर क्या है गंगा नदी के पवित्र होने का रहस्य

सिंधु नदी – हजारों साल पुरानी सभ्यता की गवाह नदी

आखिर क्यों नर्मदा नदी ने हमेशा अविवाहित रहने का प्रण लिया