जानिए कृष्णा नदी का सबसे लम्बा सफर

33

कृष्णा नदी भारत की चौथी सबसे बड़ी नदी है। यह नदी कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश से होकर बहती है। इस नदी पर स्थित सबसे बड़ा शहर विजयवाड़ा है। महाभारत में इस नदी को कृष्णवेणा कहा गया है। आइए जानते है कृष्णा नदी के बारे में कुछ और बातें:

कृष्णा नदी का सफर

यह नदी महाराष्ट्र राज्य के महाबलेश्वर पर्वत से बहना शुरू होती है। उसके बाद यह नदी कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, विजयवाड़ा से होकर गुज़रती है और दक्षिण-पूर्व से होती हुई बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। इस नदी की लम्बाई 1290 कि.मी. और समुद्र तल से उंचाई 1337 मीटर है।

विजयवाड़ा में इस नदी का सफर

विजयवाड़ा इस नदी के तट पर स्थित सबसे बड़ा शहर है। इस शहर के पास आ के यह नदी एक डेल्टा बनाती है। इस डेल्टा पर 20 फुट ऊँचा बाँध बनाकर कुछ नहरें निकाली गई हैं, जिससे 10,00,000 एकड़ भूमि की सिंचाई होती है। विजयवाड़ा में इस नदी की चौड़ाई लगभग 1300 गज है।

लोगों की इस नदी से जुड़ी है धार्मिक भावनाएं

पुराणों के अनुसार कृष्णा नदी को विष्णु का अंश माना गया है। हजारों श्रद्धालु कृष्णा नदी की पूजा और दर्शन करने के लिए आते है। जिन जिलों से यह नदी गुज़रती है, वहां के मंदिरों में देवी, देवताओं की पूजा अराधना होती है। नवरात्रि के दिनों में विजयवाड़ा में बहुत ज्यादा संख्या में श्रद्धालु पूजा करने के लिए आते हैं।

कृष्णा नदी की सहायक नदियां

तुंगभद्रा, मूसी, अमरावती, भीमा, कोयना और पंचगंगा इस नदी की सहायक नदियां हैं। भीमा नदी सबसे लम्बी सहायक नदी है।

यह भी पढ़ें :

जानिए कैसे बने अब्राहम लिंकन अनेक असफलताओं के बाद इतने सफल इंसान

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: लौहपुरुष की अदभुत प्रतिमा के बारे रोचक तथ्य!

Comments