रसोईघर का राजा ‘प्याज’ जाने चमत्कारी फायदें !

1231

प्राचीन काल से रसोईघर का राजा प्याज को सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है। हैजा और प्लेग जैसी महामारी के दौरान प्याज को ऐतिहासिक रूप से एक निवारक दवा के रूप में इस्तेमाल किया गया था।

प्याज का इस्तेमाल ईसा पूर्व 4000 से होता रहा है। इसमें प्राकृतिक चीनी, विटामिन ‘ए’, ‘बी 6’, ‘सी’ तथा ‘ई’ और सोडियम, पोटेशियम, लोहा जैसे खनिज सहित और फाइबर शामिल हैं।

प्याज फोलिक एसिड का भी एक अच्छा स्रोत है। प्याज की कई किस्में होती हैं जैसे लाल, हरा और पीला। अलग-अलग रंगों के प्याज का आकार भी अलगअलग होता है।

दूसरे विश्व युद्ध के दौरान प्याज का इस्तेमाल सैनिकों के जख्मों के उपचार के लिए किया गया। कई खबियों के कारण प्याज को ‘रसोईघर का राजा‘ भी कहा जाता है।

विशेषज्ञ इस तथ्य को स्वीकार करते हैं कि प्याज अस्थमा, एलर्जी ब्रोंकाइटिस, आम सर्दी से संबंधित खांसी आदि के रोगियों को बहुत राहत प्रदान करता है।

[adinserter block=”1″]

प्याज के चमत्कारी फायदें:-

मधुमेह को रोकता है

प्याज में मौजूद बायोटिन स्वास्थ्य पर कई सकारात्मक प्रभाव डालता है, जिनमें से एक टाइप 2 मधुमेह से जुड़े लक्षणों को कम करता है।

प्याज में क्रोमियम भी होता है, जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है और मांसपेशियों और शरीर की कोशिकाओं को धीमा, क्रमिक ग्लूकोज जारी करता है।

बेहतर प्रतिरक्षा के लिए

प्याज में महत्वपूर्ण मात्रा में मौजूद फाइटोकैमिकल्स शरीर के भीतर विटामिन ‘सी’ के उत्तेजक के रूप में कार्य करते हैं। जब आप प्याज खाते हैं तो विटामिन ‘सी’ और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली का असर बढ़ जाता है क्योंकि यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को विषाक्त पदार्थों और अन्य हानिकारक तत्वों से लड़ने में बेहतर बनाता है जो रोग और बीमारी को जन्म दे सकते हैं।

मुंह की सेहत के लिए

कच्चे प्याज को 2 से 3 मिनट तक चबाने से मुंह, गले और होंठ जैसे स्थानों में मौजूद सभी रोगाणु खत्म हो सकते हैं।

त्वचा रोगों और गठिया में राहत

स्वस्थ त्वचा के लिए भी बायोटिन महत्वपूर्ण है। उपचार के लिए शहद या जैतून के तेल के साथ मिश्रित प्याज का रस सबसे अच्छा इलाज माना जाता है।

प्याज सूजन-विरोधी सब्जी है, इसलिए इसमें सक्रिय यौगिक लाली और सूजन को कम कर सकते हैं जो आमतौर पर मुंहासे जैसी त्वचा की समस्या के लिए जिम्मेदार होते हैं। यह गठिया से जुड़े दर्द और सूजन को भी कम करने में मदद करता है।

खांसी का उपचार

प्याज के रस और शहद के बराबर मिश्रण से गले की समस्याओं और खांसी के लक्षणों को दूर करने में मदद मिल सकती है।

[adinserter block=”1″]

कैंसर को रोकता है

प्याज क्वरसिटिन में समृद्ध है, जो बहुत ही शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट यौगिक है जो लगातार रोकथाम या कैंसर के प्रसार को कम करने से जुड़ा है। विटामिन ‘सी’ भी एक मजबूत एंटीऑक्सीडेंट है, जिससे पूरे शरीर में मुक्त कणों की मौजूदगी और प्रभाव कम हो सकता है।

यौन स्वास्थ्य के लिए

प्याज यौन क्षमता बढ़ाने में मदद करने के लिए भी जाना जाता है। इस मामले में सफेद प्याज बेहतर है।

पाचन के लिए

प्याज में अधिक फाइबर है, जो स्वस्थ और नियमित पाचन तंत्र को बनाए रखने के लिए अच्छा है। फाइबर अपच से होने वाले दर्द को भी रोकता है। प्याज के दुष्प्रभाव :

  • प्याज अधिक खाने से पेट में परेशानी हो सकती है।
  • प्याज को गर्भवती या बच्चों को स्तनपान करवाने वाली महिलाओं में समस्या पैदा करने के लिए जाना जाता है।
  • प्याज का अत्यधिक सेवन आंत के कामकाज में बाधा पहुंचा सकता है और अक्सर विभिन्न स्वास्थ्य मुद्दों जैसे गैस, भारीपन, उल्टी आदि का कारण बन सकता है।
  • कुछ लोगों को प्याज से एलर्जी हो सकती है और इसके रस को त्वचा पर लगाने से जलन, दाने हो सकते हैं।

पंजाब केसरी से साभार………..

यह भी पढ़ें :-