हम में से बहुत से अपने जीवन में कई संयोग देखते हैं। कुछ ऐसी संयोग की घटनाएं भी होती हैं जो हमें सवाल करने पर मजबूर कर देती हैं कि “ये कैसे हो सकता है?” खैर, कुछ सवालों के जवाब नहीं होते । कुछ लोग संयोगों को ईश्वर का चिन्ह मानते हैं जबकि अन्य इन संयोगों को अनदेखा कर देते हैं। यहां हम इतिहास में से कुछ आश्चर्यजनक संयोग की सूची दे रहे है:

जन्म से बिछड़े जुड़वाँ भाइयों की हैरतअंगेज दास्ताँ


घटना है 1940 की. दो जुड़वाँ भाइयों जिम लेविस और जिम स्प्रिन्जेर को जन्म से ही अलग कर दिया गया और उन्हें अलग अलग परिवारों द्वारा पाला गया. संयोगवश, दोनों परिवारों ने लड़कों का नाम जेम्स रखा। दोनों ने कानून प्रवर्तन में प्रशिक्षण किया, दोनों ही यांत्रिक ड्राइंग और बढ़ईगीरी में दक्ष थे, और दोनों ने ही लिंडा नाम की महिलाओं से शादी की। संयोग से दोनों के बेटे हुए, और इनमें से एक का नाम जेम्स एलन रखा और दूसरे का नाम जेम्स एलान रखा गया। दोनों ही भाइयों ने अपनी अपनी पत्नियों को तलाक दिया और अन्य महिलाओं से शादी की. दोनों ने ही जिन महिलाओं से शादी की उनका नाम बेट्टी था. अलग अलग रहते हुए भी उन दोनों ने अपने-अपने कुत्ते को टॉय(toy) नाम दिया था।

जन्म से जुदा हुए जुड़वाँ भाईयों की अविश्वसनीय कहानी

गोली का 20 साल बाद बदला

1883 में टेक्सास, अमेरिका के हेनरी ज़ीग्लैंड(Henry Ziegland) ने अपनी प्रेमिका के साथ रिश्ता तोड़ दिया. प्रेमिका ने दुखी होकर आत्महत्या कर ली. लड़की के भाई ने गुस्से में आकर ज़ीग्लैंड को गोली मार दी. ज़ीग्लैंड की हत्या करने के अपराध बोध में लड़की के भाई ने अपने आप को गोली मार ली. हालांकि, वास्तव में ज़ीग्लैंड की मौत हुई ही नहीं थी. बुलेट ने केवल उसके चेहरे को छुआ और एक पेड़ में घुस गई. कई सालों बाद, ज़ीग्लैंड ने उस पेड़ को काटने का फैसला किया, जिसमें अभी भी गोली थी। विशाल वृक्ष को काटना इतना कठिन था कि उसने इसे डायनामाइट के साथ उड़ाने का फैसला किया. जब डायनामाइट विस्फोट हुआ तो वही गोली निकल कर ज़ीग्लैंड के सिर में जा लगी, जिससे वहीँ पर उसकी मौत हो गई. इस तरह गोली ने 20 साल बाद बदला पूरा किया. पढ़ें पोस्ट

एक टैक्सी और जुड़वां भाइयों की त्रासद मौत


1975 में हैमिल्टन, बरमूडा में एक 17 साल का लड़का मोपेड की सवारी कर रहा था. उसे अचानक एक टैक्सी ने टक्कर मारी और वह वहीँ पर मर गया। एक साल बाद, उस के सगे भाई की मौत भी उसी तरह हो गई। वास्तव में, वह भी अपने भाई की तरह उसी मोपेड पर सवारी कर रहा था। हैरानी की बात थी कि मोपेड को हिट करने वाली यह वही टैक्सी थी और उसे चलाने वाला ड्राईवर भी वही था और यहाँ तक की उस टैक्सी में बैठा पैसेंजर भी वही था और जहाँ दुर्घटना हुई वह गली भी वही थी.

पुनर्जन्म: अविश्वसनीय संयोग?

यह थोड़ा आश्चर्यजनक है कि कैसे जेनिफर लॉरेंस क्लासिक की शकल मिस्री अभिनेत्री जुबैदा थरवट से इतनी ज्यादा मिल रही है. आंखों से होंठों तक, चेहरे की संरचना तक सब कुछ एक जैसा है- यह कैसे संभव है?!

फेरारी के संस्थापक एंजो फेरारी की 1988 में मृत्यु हो गई थी। बस एक महीने बाद, फुटबॉल स्टार मेसुट ओज़ील का जन्म हुआ था। यह बहुत अजीब है कि वे हैरतअंगेज तरीके से एक जैसे कैसे दिखते हैं – क्या यह पुनर्जन्म का प्रमाण है? यह समानता असत्य जैसी लगती है.

दो राष्ट्रपति, अलग-2 समय, पर एक जैसा जीवन

इब्राहीम लिंकन और जॉन एफ कैनेडी दोनों ही लोकप्रिय अमेरिकी राष्ट्रपति थे. अब्राहम लिंकन और जॉन एफ कैनेडी के बीच के अभूतपूर्व संयोग अब भी अमेरिकी समाज में सर्वाधिक चर्चित कथाओं में से हैं। ये संयोग इतने अधिक हैरानीजनक और लोकप्रिय हैं इन पर कई टीवी शोज मे चर्चा हुई और इनको लेकर कई शोध और कॉन्टेस्ट हो चुके हैं। इनमें से कुछ ऐसे हैं:

  • दोनों राष्ट्रपतियों को सिर में गोली मारी गई थी
  • दोनों राष्ट्रपतियों को शुक्रवार को गोली मारी गयी थी।
  • लिंकन को फोर्ड के एक थिएटर में शूट किया गया था जबकि कैनेडी को एक फोर्ड कार में गोली मार दी गई थी जिसका नाम “लिंकन लिमोजन” था।
  • लिंकन का कैनेडी नाम का एक सेक्रेटरी था जिसने उसे थिएटर में न जाने के लिए कहा था। वहीं कैनेडी की एवलिन लिंकन(जिनके पति हेरोल्ड का उपनाम अबे Abe था) नाम की सेक्रेटरी थी और जिसने उन्हें Dallas न जाने की चेतावनी दी थी जहां उनकी हत्या हुई।
  • दोनों के हत्यारों “ओस्वाल्ड” Oswald और “बूथ” Booth की सुनवाई से पहले ही हत्या कर दी गई थी।
  • “लिंकन” Lincoln और “कैनेडी” Kennedy प्रत्येक में 7 letters हैं।
  • दोनों के हत्यारों के full name John Wilkes Booth और Lee Harvey Oswald में 15 letters हैं।

पढ़ें पूरी पोस्ट: सौ साल के अंतराल में बने दो अमेरिकी राष्ट्रपति जो जिए एक जैसा जीवन!

पिता-पुत्र की बांध की साइट में दुःखद मौत

20 दिसंबर, 1921 को बांध के लिए सर्वेक्षण करने गया एक दल बाढ़ में फंस गया और जॉन ग्रेगरी टिर्नी नाम का एक आदमी इस पहले हादसे में कोलाराडो नदी में हमेशा के लिए खो गया। फिर 20 दिसंबर, 1935 में, 14 साल बाद,  साइट को इसकी अपनी अंतिम दुर्घटना का सामना करना पड़ा, जब एक कर्मचारी पैट्रिक विलियम टिर्नी की ब्लैक कैन्यन की एरिज़ोना साइड में लगे दो टावरों में से एक के गिरने से मृत्यु हो गई. यह आदमी पैट्रिक विलियम टिर्नी, जॉन ग्रेगरी टिर्नी का एकमात्र बेटा था.

ऐनी हैथवे और शेक्सपियर के हमशक्ल

ऐनी हैथवे के पति, एडम शलमन की शकल विलियम शेक्सपियर से मिलती हैं.  मजे की बात ये है कि, विलियम शेक्सपियर की ऐन हैथवे नाम की महिला से शादी हुई थी.

अगस्तस – रोम के पहले और आखिरी सम्राट

रोमूलस नामक व्यक्ति द्वारा रोम की स्थापना की गई थी. रोमन साम्राज्य के पहले सम्राट को अगस्तस कहा जाता था.  अजीब बात है, रोम के आखिरी सम्राट का नाम रोमोलस अगस्टस था.

तीन सबसे बड़े समुद्री जहाज हादसों की एकमात्र गवाह

वायलेट कॉन्स्टेंस जेसोप – Violet Constance Jessop (2 अक्टूबर 1887 – 5 मई 1971) एक आयरिश अर्जेण्टीनी ओशन लाइनर की परिचारिका और नर्स थी, जो क्रमशः 1912 और 1916 में, आरएमएस टाइटैनिक और शिप एचएमएचएस मैथेनिक दोनों की विनाशकारी डूबने की दुर्घटनाओं से बचने के लिए जानी जाती है।

दरअसल वह पिछली शताब्दी की तीन सबसे प्रसिद्ध जहाजों की दुर्घटनाओं के दौरान वह इन तीनों ही जहाजों में मौजूद थी और वह हर बार दुर्घटना में बच निकलीं. पहली बार जब 20th September 1911 को आरएमएस ओलंपिक RMS Olympic एचएमएस हॉक HMS Hawke से टकराया। दूसरी बार जब 14-15 April 1912 को टाइटैनिक एक हिमखंड के साथ टकराया और डूब गया और तीसरी बार जब 21 November 1916 को एचएमएचएस ब्रिटानिक HMHS Britannic एक खदान से टकराया और डूब गया, तीनो वक़्त जोसफ जहाज़ में मौजूद थी और बचा ली गयी।

110. Bad Luck of Brothers

2002 में, सबसे असामान्य सड़क दुर्घटनाओं में से एक हेलसिंकी के उत्तर में 600 किलोमीटर की दूरी पर हुई थी. राजमार्ग को पार करने का प्रयास करते समय एक सत्तर वर्ष का बूढ़ा ट्रक की टक्कर से मारा गया. बाद में पता चला कि एक बिल्कुल ऐसी ही दुर्घटना दो घंटे पहले वहां से 1.5 किलोमीटर दूर हुई थी. वहां भी राजमार्ग पार करने की कोशिश करते हुए एक 70 साल के बूढ़े व्यक्ति को एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी। आगे की जांच से पता चला कि न केवल इन दोनों व्यक्तियों की आयु 70 वर्ष थी, बल्कि जुड़वाँ भाई थे। क्या यह सामूहिक आत्महत्या थी या सयोंगवश एक सुखद/दुःखद पुनर्मिलन?