इतिहास की दस सबसे बड़ी गलतियाँ !

2452

इंसान गलतियों का पुतला है, यह तो हमने बहुत बार सुना है, पर आज हम आपको बताएंगे कुछ ऐसी गलतियाँ, जो इतिहास में हुई है।

1हैरी पॉटर किताब को अस्वीकार करने की गलती

जे.के. रोलिंग द्वारा लिखी गयी मशहूर किताब हैरी पॉटर को पहले 12 बार अस्वीकार किया गया था. बाद में  Blumsberg कंपनी की आठ वर्षीय अध्यक्ष एलिस ने इस किताब को प्रकाशित करने के लिए स्वीकार कर लिया. तब इस किताब को 60 भाषाओँ में प्रकाशित किया गया था जिससे जे.के. रोलिंग ने 60 अरब रुपए की कमाई की थी.

2 बिटकॉइन पोर्टफोलियो (Bitcoin Portfolio) को फेंकना

बिटकॉइन को ऑनलाइन भुगतान के लिए इस्तेमाल किया जाता है. जेम्स होवेल्स ने 2009 में 7,500 बिटकॉइन खरीदे थे. उस समय उन बिटकॉइन की कीमत कुछ भी नहीं थी. यह सोचकर जेम्स होवेल्स ने बिटकॉइन अपनी कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव के साथ फेंक दिए. बाद में 2013 में एक बिटकॉइन की कीमत 61,000 रुपए तक पहुंच गयी. जिससे जेम्स के 7,500 बिटकॉइन की कीमत 45,00,00,000 रुपए बन गयी थी. बाद में जेम्स होवेल्स को अपनी गलती का एहसास हुआ. अगर वह बिटकॉइन कचरे में ना फेंकते तो आज वह अरबपति होते। आज वह बिटकॉइन 5 फीट ऊँचे कचरे के ढेर के नीचे दफ़न हैं।

3 शुरुआत में गूगल को कम आंकने की गलती

गूगल सर्च इंजन के संस्थापक लैरी पेज और सेर्गेई ब्रिन ने पहले गूगल को सिर्फ 60 लाख रुपए में बेचने की पेशकश की थी. जब दोनों गूगल को बेचने के लिए एक्साइट कंपनी के सीईओ जॉर्ज बिल के पास पहुंचे. तब लैरी ब्रिन और उसके साथी संस्थापक ने गूगल सर्च इंजन जॉर्ज को सिर्फ 48,00,000 रुपए में ही देने की पेशकश कर दी थी. लेकिन जॉर्ज बिल ने गूगल सर्च इंजन को खरीदने से मना कर दिया था। आज गूगल सर्च इंजन की कीमत 23,36,326 करोड़ रुपए है.

4 हिटलर को गोली नहीं मारने की गलती

1914 में, प्रथम विश्व युद्ध के दौरान हेनरी टांडे, जो सबसे बढ़िया पायलट था, को युद्ध के दौरान हिटलर को मारने का मौका मिला था. हिटलर उस समय निहत्था ठीक उसके सामने खाई में गिरा हुआ था. लेकिन वह किसी कारण से हिटलर को गोली नहीं मार पाया. हालांकि इस घटना को अफवाह भी कहा जाता है.

5 61,000 शेयरों को सिर्फ 1 येन(50 पैसे) में बेचना

2005 में, मिजुहो सिक्योरिटी, एक जापानी ट्रेडिंग कंपनी के व्यापारी ने 61,000 शेयरों की कीमत गलती से सिर्फ 1 येन(50 पैसे) ही रख दी थी. असल में उसने एक शेयर की कीमत 3 लाख रुपए रखनी थी, जो गलती से 1 येन हो गयी थी. जब तक उसे अपनी गलती का एहसास हुआ, स्टॉक एक्सेचेंज में ये ऑर्डर पास हो गया था और कंपनी को 225 मिलियन डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा.

6 चंगेज खान को क्रोधित करना

13वीं सदी में मंगोल साम्राज्य के शासक चंगेज खान ने अपने पड़ोसी ख्वारेज्मिद साम्राज्य (आधुनिक ईरान/इराक) से राजनयिक और व्यापार लिंक खोलने की मांग की थी. लेकिन ख्वारेज्मिद के शासक ने चंगेज खान के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया और चंगेज खान के 2 राजनयिक जो प्रस्ताव लेकर आये थे उनका गला काट कर मार डाला. इस बात से चंगेज खान इतना क्रोधित हुआ कि उसने अपने सम्राज्य के 2,00,000 योद्धाओं को भेज कर ख्वारेज्मिद सम्राज्य को तबाह कर दिया.

7फेसबुक द्वारा ब्रायन ऐक्टन और जेन कौम को नौकरी से निकालना

फेसबुक ने 2009 में ब्रायन एक्टन और जेन कौम को इंटरव्यू में नहीं चुनने की गलती की थी. फिर बाद में इन दोनों ने व्हटसएप (whatsapp) का निर्माण किया था, जिसे हाल ही में फेसबुक ने 980 करोड़ रुपए में खरीदा था.

8 चौड़ी रेल-गाड़ियों के आदेश की गलती

फ्रेंच रेल एस.एन.सी.ऍफ़. ने $15 अरब(774 करोड़ रुपए) की नई रेल गाड़ियाँ खरीदी थी. लेकिन इन रेल गाड़ियों की चौड़ाई ज्यादा थी. इस समस्या को सुलझाने के लिए उनको 350 करोड़ रुपए की कीमत देनी पड़ी. यह तो वही बात हुई कि आपने गाड़ी तो बड़ी खरीद ली, लेकिन गेराज आपका छोटा निकला.

9 साइनिंग ब्रायन पूल और ट्रेमेलोस

1962 में, रिकॉर्ड लेबल डेका नाम की कंपनी ने 2 बैंड ग्रुप का सिलेक्शन किया और फिर दोनों चुने हुए बैंड ग्रुप में उन्होंने लन्दन में प्रतियोगिता करवायी. इसमें एक बैंड ग्रुप को चुन लिए गया और जिसको नहीं चुना गया था. वह बाद में जाकर मशहूर बीटल्स बैंड ग्रुप बना.

10 कंपनी के नाम के गलत स्पेलिंग

ब्रिटिश सरकार ने एक कंपनी के नाम के गलत स्पेलिंग लिखने वाले पर लगभग 9 करोड़ रुपए का जुर्माना लगा दिया था. जिसने कंपनी के नाम में स्पेलिंग की गलती की थी, उसने सिर्फ कंपनी के नाम में सिर्फ “एस” शब्द गलती से लिख दिया था.

यह भी पढ़ें :

कुत्ते अपनी सोने वाली जगह पर चक्कर लगाकर क्यों सोते हैं?

Comments