ऐसी बिल्डिंग जिसके बीच में से गुजरता है हाईवे जानिए क्या है खासियत

323

ऐसी बिल्डिंग जिसके बीच में से गुजरता है हाईवे जानिए क्या है खासियत

वैसे तो दुनिया में कई बड़ी-बड़ी खूबसूरत इमारतें हैं, जिनको देखर अक्सर हम लोग हैरानी में पड़ जाते है और सोचते है कि इसको बनाने वाले ने कितना दिमाग लड़ाया होगा।

इसी खूबसूरती और खासियत की वजह से वह इमारतें दुनियाभर में मशहूर हो जाती है। आज हम जिस इमारत की बात कर रहे है वो है जापान के ओसाका में स्थित गेट टावर बिल्ड़िंग।

यह दुनिया की पहली ऐसी बिल्डिंग है जिसके बीच में से एक्सप्रेस हाईवे गुजरता है और उसके ऊपर-नीचे लोग रहते है। गेट टॉवर दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारत संरचनाओं में से एक है।

दरअसल, यह जापान के ओसाका के फुकुशिमा-कू में 16 मंजिल का एक कार्यालय भवन है, जो इमारत से गुजरने वाले राजमार्ग के लिए उल्लेखनीय है।

यह इमारत 236 फीट ऊंची है। इसके पांचवें, छटवें और सातवें माले के बीच से “हैंशिन एक्सप्रेसवे” सिस्टम नामक हाईवे गुजरता है।

इस इमारत को “अजूसा सेकेई” और ” यमामोटो-निशिहारा केंचिकु सेकेई जिमुशो” ने डिजाइन किया है। इस इमारत में दोहरा कोर निर्माण है, जिसमें एक गोलाकार क्रॉस सेक्शन है। बिल्डिंग के तीन मंजिलों पर लिफ्ट नहीं रुकती, जिससे राजमार्ग गुजरता है।

ये हाईवे अपने आप में अनोखा है, आपको ये जानकर आश्चर्य होगा की इस हाईवे से सैंकड़ों गाड़ियां प्रतिदिन गुजरती हैं। वहीं इस बिल्डिंग में काफी लोग भी रहते हैं।

बिल्डिंग के नीचे बना ब्रिज हाईवे को सहारा देता है, गाड़ियों के शोर और वाइब्रेशन को बिल्डिंग में जाने से रोकने के लिए हाइवे के आस-पास एक खास स्ट्रक्चर बनाया गया है। इस इमारत की छत पर एक हेलीपैड बनाया गया है।

बिल्डिंग की खासियत

इस बिल्डिंग की खासियत यह है कि इसकी लिफ्ट इन तीन मालो पर नहीं रुकती है, जिससे यहां पर कोई न उतरे और न एक्सीडेंट हो।

अब आप सोच रहे हैं कि जब यहां पर हाईवे बना है, तो बिल्डिंग बनाने की अनुमति क्यों दी गई, तो यह भी काफी दिलचस्प है।

दरअसल, इस इमारत का डिजाइन 1982 में तैयार किया गया था, लेकिन इसको परमिट नहीं मिला, क्योंकि इस  जगह पहले से हाईवे बन रहा था लेकिन यह जमीन जिसकी थी, उसने इसके खिलाफ केस कर दिया।

पांच वर्षों तक हैंशिन एक्सप्रेसवे निगम के साथ उनका विवाद जारी रहा, लेकिन भवन के संपत्ति अधिकार धारकों ने हार नहीं मानी और कानून से इस बिल्डिंग को बनवाने की अनुमति लें ली और 1989 में उन्हें मंजूरी मिल गई ।

इसके बाद 1992 में यह बिल्डिंग बनी, लेकिन मालिक को तीन मालों की जगह हाईवे के लिए छोड़नी पड़ी। इसका कारण यह है कि यहाँ राजमार्ग बनाने की योजना पहले से ही थी।

गेट टॉवर बिल्डिंग जापान की पहली इमारत है जिसके पास से राजमार्ग गुजरता है और ऊपर व नीचे लोग रहते है। जगह के इस्तेमाल के कारण प्रशासन बिल्डिंग के मालिक को इन तीन मंजिलों का किराया चुकाता है।