जानिए नवरात्रि  के इस शुभ पर्व पर कैसा रहेगा इन 12 राशियों पर प्रभाव

65

हिन्दू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व होता है। नवरात्रि मां नवदुर्गा की उपासना का पर्व है। इस बार नवरात्रि का शुभ पर्व 17 अक्टूबर से शुरू हो रहा है। नवरात्रि का शुभ पर्व हर साल श्राद्ध खत्म होते ही शुरू होता है, लेकिन इस बार नवरात्रि 25 दिन देरी से शुरू हो रहें है।

नवरात्रि का शुभ मुहूर्त

इस बार सर्वार्थसिद्धि योग में नवरात्र शुरू हो रहा है। नवरात्रि के पहले दिन घट स्थापना शुभ मुहूर्त में होगी। ज्योतिष शास्त्र में इस योग को बेहद शुभ माना जाता है, जो पूजा उपासना में अभीष्ट सिद्धि देगा।

साथ ही दशहरे तक खरीदारी के लिए त्रिपुष्कर, सौभाग्य और रवियोग जैसे खास मुहूर्त भी रहेंगे। इन शुभ संयोग में प्रॉपर्टी, व्हीकल, फर्नीचर, भौतिक सुख-सुविधाओं के सामान और अन्य तरह की मांगलिक कामों के लिए खरीदारी करना शुभ रहेगा।

जानें किस तारिख को किस देवी की होगी पूजा

  • 17 अक्टूबर- मां शैलपुत्री पूजा, घटस्थापना
  • 18 अक्टूबर- मां ब्रह्मचारिणी पूजा
  • 19 अक्टूबर- मां चंद्रघंटा पूजा
  • 20 अक्टूबर- मां कुष्मांडा पूजा
  • 21 अक्टूबर- मां स्कंदमाता पूजा
  • 22 अक्टूबर- षष्ठी मां कात्यायनी पूजा
  • 23 अक्टूबर- मां कालरात्रि पूजा
  • 24 अक्टूबर- मां महागौरी दुर्गा पूजा
  • 25 अक्टूबर- मां सिद्धिदात्री पूजा

जानिए राशियों पर कैसा रहेगा नवरात्र का प्रभाव

मेष– इस राशि के लिए विवाह के योग बन सकते हैं। प्रेम में सफलता मिल सकती है। नवरात्रि में नौ दिनों तक मां की आराधना जरूर करें। आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी और आप अपने संबंधों के बल पर जीवन में नई ऊंचाइयां छूने वाले हैं। मेष राशि के जातक ऊं दुं दुर्गायै नमः मंत्र का पाठ नवरात्रि में करेंगे तो आपकी सारी मनोकामनाएं अवश्य पूरी होंगी।

वृष– वृषभ राशि वाले लोगों को शत्रुओं पर विजय मिलेगी। रोगों में लाभ होगा। नवरात्रि में कलश स्थापना कर मां की उपासना करें। आपके आकर्षण प्रभाव में वृद्धि होगी और आपको कोई विशेष सम्मान प्राप्त हो सकता है। शारदीय नवरात्रि में वृषभ राशि के जातक देवी दुर्गा के अष्टभुजा स्वरूप की पूजा करेंगे तो हर तरह से लाभ ही लाभ होगा।

मिथुन– संतान सुख मिलने के योग हैं। नौकरी में प्रमोशन और धन लाभ मिल सकता है। संभव हो तो इस बार आप नवरात्रि व्रत रखें। नए वस्त्र-आभूषणों की प्राप्ति होगी। वैवाहिक जीवन में खुशियां आएंगी। मिथुन राशि के जातक नवरात्रि में प्रतिदिन दुर्गा चालीसा का पाठ करें।

कर्क– माता से सुख मिलेगा। वैभव बढ़ेगा। कार्यों में सफलता के साथ सम्मान मिलेगा। दुर्गा चालीसा का सुबह शाम पाठ करें। इस राशि के जातक नवरात्रि में कन्याओं को भोजन करवाकर उनके मनपसंद उपहार भेंट करें।

सिंह– आपका पराक्रम अच्छा रहेगा। आशा के अनुरूप फल प्राप्त होंगे। भाई से मदद मिलेगी। नवरात्रि में संभव हो तो जवारे बोएं। खर्च की अधिकता जरूर रहेगी, लेकिन फिर भी कोष में वृद्धि करने में कामयाब होंगे। दुर्गा सप्तशती का पाठ नियमित करें।

कन्या– स्थाई संपत्ति से लाभ हो सकता है। धन वृद्धि के योग बन रहे हैं। कन्या पूजन कर उसे हरे फल दान करें। नवरात्रि में प्रतिदिन मंदिर जाकर देवी दुर्गा के दर्शन करें। यथाशक्ति कन्याओं को उपहार-भेंट दें, भोजन करवाएं।

तुला– इस राशि के लिए प्रसन्नता बनी रहेगी। सोचे हुए काम समय पर पूरे होंगे। नवरात्रि में व्रत रखें और 3 वर्ष की कन्या की पूजा करें।  देवी दुर्गा पर लाल फूल अर्पित करें। आप किसी धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं। शत्रुओं के नाश और सर्वत्र रक्षा के लिए दुर्गा सप्तशती का नियमित पाठ करें। इसके बाद सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ भी करें।

वृश्चिक– अनावश्यक व्यय होगा। कमाई कम हो सकती है। घर-परिवार से संबंधित चिंताजनक समाचार मिल सकता है। देवी को शहद का भोग अर्पित करें। पारिवारिक जीवन के संकटों का समाधान इस बार की नवरात्रि दे कर जाएगी। मां दुर्गा की पूर्ण कृपा पाने के लिए प्रतिदिन देवी को एक गुलाब का पुष्प अवश्य अर्पित करें।

धनु– आपके लिए ये नवरात्रि लाभदायक रह सकती है। आय में बढ़ोतरी होने के योग हैं। मां दुर्गा को खोपरा चढ़ाएं और काली चींटी को मिश्री डालें। नया वाहन खरीदने के योग भी बनेंगे। जो युवक-युवतियां अविवाहित हैं वे नवरात्रि में प्रतिदिन शिव की पूजा करें और देवी को मिष्ठान्न का नैवेद्य लगाएं।

मकर– इन लोगों के लिए नवरात्रि अत्यंत शुभ है। मां दुर्गा के मंदिर में पांच प्रकार के फल चढ़ाएं। धर्म, ज्योतिष, योग, अध्यात्म के क्षेत्र से जुड़े लोगों को अपने क्षेत्र में आगे बढ़ने के अनेक अवसर मिलेंगे। इनसे आपकी आर्थिक पारिवारिक स्थिति भी मजबूत बनेगी। नवरात्रि में गरीबों को भोजन करवाएं, वस्त्र भेंट करें। संभव हो तो नवरात्रि के उपवास रखें।

कुंभ– इस राशि के लिए भाग्य वृद्धि का समय है। साथियों की मदद प्राप्त होगी l काम पूरे होंगे। सफलता का समाचार मिलेगा। मां दुर्गा के 32 नाम दोनों समय पढ़ें। नवरात्रि में नया व्यापार प्रारंभ करेंगे। पुराने बिजनेस को आगे बढ़ाएंगे। परिवार के साथ धार्मिक यात्रा पर जाएंगे। प्रतिदिन ऊं दुं दुर्गायै नमः मंत्र की पांच माला जाप करें। जो चाहेंगे वह पूरा होगा, देवी की पूर्ण कृपा आएगी।

मीन– आपको वाहन प्रयोग में सावधानी रखनी होगी। दुर्घटना होने के योग बन रहे हैं।  शत्रुओं की वजह से परेशानी हो सकती है।  देवी मां को चुनरी और ध्वजा चढ़ाएं। धन, पद, प्रतिष्ठा, सम्मान, सुख, वैभव में वृद्धि होगी। नवरात्रि के अंतिम दिन देवी की स्वरूप नौ कन्याओं का पूजन कर भोजन करवाएं और वस्त्र भेंट करें।