अखबार बेचने वाले ने खोजा “रोल बॉल” खेल

राजू दाभाडे, एक अखबार बांटने और बेचने उस शख्स का नाम है जिन्होंने अब अंतरराष्ट्रीय तौर पर प्रसिद्ध हो चुके “रोल बॉल” खेल का आविष्कार किया है। राजू दाभाडे रोलर स्केट्स को अखबारों को बांटने करने के लिए प्रयोग करते थे।

उन्होंने रोलर स्पीड स्केटिंग कैरियर से रिटायर होने के बाद, एक फिजिकल ट्रेनर के तौर पर काम किया।रोल बॉल

हालांकि, कॉम्पीटिशन वाली सोच को उन्होंने कभी नहीं छोड़ा. इसका नतीजा यह निकला कि उन्होंने एक ऐसे खेल का अविष्कार करने की सोची जिससे लोग ‘भारत के खेल के रूप में पहचान दिलाने का गौरव हासिल करने का अवसर प्रदान कराये”

2003 में एक दोपहर उनके मन में “रोल बॉल” खेल का अविष्कार करने का विचार तब आया जब एक  कहीं से एक बास्केटबॉल स्केटिंग क्लास के दौरान उनसे टकराया।

“रोल बॉल” का यह खेल रोलर स्केटिंग, हैंडबॉल और बास्केटबॉल का एक मिश्रण है। केवल 12 साल में ही विश्व कप चरण में पहुंच गया है। यह पूर्णता: ‘Made in India’ का एक परिपूर्ण खेल मॉडल है।

मुंबई के राजू दाभाडे को रोल बॉल के अविष्कार के लिए कई पुरूस्कार मिल चुके हैं. इस खेल तो अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मशहूर करने के लिए उन्होंने निजी तौर पर खर्चा किया और कई देशों की यात्रायें की. इसमें उन्हें सफलता तब मिली जब पहले वर्ल्ड कप नीदरलैंड की टीम विजेता बनी.

Comments