सीखिए खेल-खेल में ‘इंटरनेट’ पर सुरक्षित रहना

613

इंटरनेट हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। जैसे हवा बिना हम एक पल भी नहीं जी सकते, ठीक वैसे ही आज इंटरनेट के बिना एक कदम उठाना भी मुश्किल हो रहा है। इंटरनेट एक विशाल नेटवर्क सिस्टम का कनेक्शन है जो दुनिया भर में फैला है।

इंटरनेट का उपयोग करके हम दुनिया भर के लोगों के सम्पर्क में आ सकते हैं, किसी भी देश या किसी भी विषय के बारे में अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं, नए दोस्त बनाने और विभिन्न संस्कृतियों को जानने, जानकारी खोजने, अध्ययन करने आदि के लिए भी इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं।

बेशक इंटरनेट ने हमारे जीवन को आसान और अधिक सुविधाजनक बना दिया है लेकिन जहां इसके फायदे हैं तो वहीं कुछ नुक्सान भी हैं।

इंटरनेट पर सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि वहां पर कई खलनायक भी होते हैं – जैसे कि हैकर्स, फिशर्स, साइबर बुलीज या फिर स्कैमर्स

ये तुम्हें अपना शिकार न बना सकें, इसके लिए गूगल का एक गेम है जिससे खेल-खेल में आप इंटरनेट सेफ्टी टिप्स जान सकते हैं। बच्चों को इंटरनेट के सेफ यूज के लिए और जागरूक करने के लिए गूगल ने एक गेम डिजाइन कर रखा है, जो है ‘इंटरलैंड‘।

यह एक ऐसी यात्रा है जिसमें आपको हैकर्स, फिशर्स, वन-अपसाइबर बुलीज से बचते हुए एक खोजी बनना होता है। इस गेम में चार देशों की एक काल्पनिक दुनिया है, जहां समय समय पर प्रत्येक लैवल के अंत में आवश्यक जानकारी मिलती है। इस गेम को आकर्षक ढंग से डिजाइन किया गया है, जहां तुम्हें अच्छा डिजीटल यूजर बनने के लिए प्रेरित किया जाता है।

पहला लैवल : ‘काइंड किंगडम’

इंटरलैंड‘ को चार मिनी गेम्स में बांटा गया है, जिनमें से पहला है ‘काइंड किंगडम‘, यानी ऐसी जगह जहां पर साइबर बुलीज का आतंक है। यहां आपको उनको रोकना है साथ में अन्य इंटरनॉट्स की हैल्प भी करनी है।

आपको यहां ऐसे इंटरनॉट्स मिलेंगे, जो दुखी और रो रहे हैं और आपको उन्हें ‘हार्ट‘ या ‘लिटिल लव‘ देकर दया फैलाने का काम करना है। काइंड किंगडम में तीन अचीवमैंट्स हैं।

एक बार जब आप पर्याप्त दयालुता फैला लेते हो और खतरों को रोक लेते हो तो राज्य पर तुम्हारी जीत हो जाती है और आप ‘इंटरनैट काइंड‘ बन जाते हो।

सीख : इंटरनेट की व्यापक पहुंच वाली ताकत का सहारा ‘सकारात्मकता’ फैलाने में लेना चाहिए।

दूसरा लैवल : ‘रियलिटी रिवर’

इसके बाद ‘रियलिटी रिवर’ लैवल आएगा जो सच और सुनी-सुनाई बातों से भरी एक नदी है। यहां आपको अपनी सही निर्णय क्षमता का इस्तेमाल करते हुए रैपिड्स को पार करना है। इस दौरान फिशर्स की हरकतों से खुद को बचाना भी है।

यहां प्रश्न पूछे जाते हैं, जिनके तीन विकल्प होंगे, जैसे फिशर्स कौन लोग हैं। आपके कजिन से आपको कोई अटैचमैंट मिला है, क्या आप उस पर भरोसा करेंगे? हर सही उत्तर से आप रैपिड्स को पार करते जाओगे और ‘इंटरनेट अलर्ट‘ बन जाओगे।

सीख : इस लैवल की सीख है कि कैसे हो फिशिंग की पहचान?

तीसरा लैवल : ‘माइंडफुल माऊंटेन’

तीसरा चरण ‘माइंडफुल माऊंटेन‘ है। यहां आपको बताया जाएगा कि किस तरह की चीजें, कैसे लोगों के साथ शेयर करनी चाहिएं?

जैसे स्कूल में होने वाले किसी डांस प्रोग्राम की जानकारी दोस्तों के साथ शेयर करने, खुद को लगी किसी चोट की जानकारी अपने घर वालों के साथ शेयर करने, अपने ई-मेल खाते का पासवर्ड लॉक बाक्स में रखना आदि।

सीख : इस लैवल से किसी भी सूचना को उसके सही गंतव्य तक पहुंचाने की सीख मिलती है।

चौथे लैवल में ‘पासवर्ड बनाने की सीख’

टावर आफ ट्रैजर‘ अंतिम चरण होता है। इसमें एक टाऊन टावर है, जो खुला है। कुछ कीमती सामान खतरे में हैं। उन सामानों को सेफ (सुरक्षित) करने के लिए आपको अपर केस, लोअर केस, नम्बर्स, सिंबल्स का उपयोग करते हुए एक मजबूत पासवर्ड बनाना है।

यहां भी तीन अचीवमैंट्स होंगे, जिनको आनलॉक करना है। जब आपको यहां सारे ब्लॉक्स प्राप्त हो जाएंगे और हैकर की पहुंच से दूर वाला पासवर्ड बना लेंगे तो आप एक ‘स्ट्रांग इंटरनेट’ यूजर बन जायेंगे।

सीख : इस लैवल की सीख है कि पासवर्ड कम से कम 8 लैटर्स का होना चाहिए। वह याद रहने लायक और अक्षर, संख्याओं, प्रतीकों, सबसे मिल कर बना हो।

सर्टीफिकेट मिलता है

गेम के अंत में मिले प्वाइंट्स के आधार पर ‘सर्टीफिकेट आफ ऑसमनैस‘ दिया जाता है। यह गेम खेलने के लिए लैपटॉप या मोबाइल के ब्राऊजर से ‘इंटरलैंड‘ की वैबसाइट पर जाना होगा।

पंजाब केसरी से साभार

यह भी पढ़ें :-