आखिर क्यों कहा जाता है इस जंगल को “सुसाइड पॉइंट “!!

838

दुनिया बहुत सी अनगिनत रहस्य्मय जगहों से भरी पड़ी है। जिनके बारे में इंसान तो क्या बल्कि वैज्ञानिक भी पता नहीं लगा पाए हैं। आज के इस लेख में हम आपको एक ऐसी रहस्यमयी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे ‘सुसाइड फॉरेस्ट या सुसाइड पॉइंट” के नाम से जाना जाता हैं तो चलिए जानते हैं :-

कहाँ पर है ये फॉरेस्ट

सुसाइड फॉरेस्ट माउंट फूजी के नॉर्थवेस्ट में स्थित है। यह इलाका प्राकृतिक रूप से बेहद खूबसूरत है, यहां करीब 300 साल पुराने अद्भुत पेड़ हैं। यह 35 स्क्वेयर किमी के बड़े एरिया में फैला हुआ है। यह जंगल इतना घना है कि इसे पेड़ों का सागर भी कहते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि इस जंगल में जो एक बार चला गया उसका वापस लौटकर आना बेहद मुश्किल है। यहां आने के बाद लोग आत्महत्या कर लेते हैं। इस वजह से इस जंगल को ‘सुसाइड फॉरेस्ट‘ कहा जाता है।

- Advertisement -

इसे सुसाइड प्वाइंट में दूसरा स्थान मिला है। यह जापान की राजधानी टोक्यो से महज दो घंटे से भी कम दुरी पर है।

यह भी पढ़ें :- जानें दुनिया के सबसे डरावने भुतहा जंगल के बारे में, दिन में भी जाने से डरते हैं लोग!

क्या है कारण आत्महत्या का

ओकिघारा सुसाइट फॉरेस्ट आत्महत्या करने के लिए यह दुनिया की सबसे मशहूर जगह है। यहां 2002 में ही 78 लोगों ने आत्महत्या की थी। कहा जाता है कि एक बार प्राचीन जापान में जब कुछ लोग अपना भरण-पोषण करने में असमर्थ थे तो उन्हें ओकिघारा के इस जंगल में छोड़ दिया गया था,

जहां पर उन सबकी भूख, प्यास से मौत हो गई थी और वही भूत इस जंगल में आज शिकार करते हैं। कहा तो यह भी जाता है कि जिन लोगों ने यहां सुसाइड किया है उनकी आत्माओं का भी यहां वास है।

जापान के ज्योतिषियों का कहना है कि जंगलों में आत्महत्या के पीछे पेड़ों पर रहने वाली शक्तियों का हाथ है, जो इस तरह की घटनाओं को अंजाम देती रहती हैं।

ऑफिशल रेकॉर्ड्स के अनुसार 2003 से यहाँ पर करीब 105 डेडबॉडीज खोजी जा चुकी हैं इनमें से ज्यादतर बुरी-तरह सड़ चुकी थीं, और कुछ को जानवरों ने खा लिया था।

जंगल के एंट्री पर लगे बोर्ड़ पर लिखा है अजीब मैसेज

इस जंगल के एंट्री पर एक बोर्ड लगा हुआ है जिसमें लिखा है- ‘ध्यान से अपने बच्चों, परिवार और अपने जीवन के बारे में सोचें जोकि आपके माता-पिता का दिया अनमोल तोहफा है’।

अब ऐसे अजीबो गरीब मैसेज पढ़ने के बाद हर कोई डर जाता है और हैरानी वाली बात तो यह है कि इस जंगल में कोई भी मॉडर्न टेक्नॉलजी जैसे कम्पस, मोबाइल फोन काम नहीं करते।

यह भी पढ़ें :-