कंदोवन- दुनिया का एक ऐसा अजीबोगरीब गांव, जहां लोग घोंसलों में रहते हैं

884

दुनिया भर में आपको बहुत से अजीबोगरीब लोग और जगहें देखने को मिलेंगी। अगर किसी से पूछा जाए कि घोंसले में कौन रहता है, तो लगभग सभी का जवाब होगा -“पक्षी”। लेकिन अगर कोई कहे कि इंसान भी घोंसले में रहते हैं तो इस पर कोई भी यकीन नहीं करेगा क्योंकि हर इंसान का एक आलीशान घर का सपना होता है।

हर कोई चाहता है कि उसका अपना घर हो और उसमें सारी सुख-सुविधाएं उपलब्ध हों। लेकिन इस लेख में हम आपको इंसानों के एक ऐसे घर के बारे में बताने रहे हैं, जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे। इसे गाँव का नाम है कंदोवन। तो चलिए जानते हैं।

कंदोवन – पुरानी परम्परा

दरअसल, ईरान के कंदोवन गांव के लोगों के बीच घोंसलानुमा घरों में रहने की परंपरा काफी पुरानी है। यह गांव अपनी परंपरा और अद्भुत रहन-सहन के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है। इस गांव के लोग पक्षियों की तरह मिट्टी के घोंसलेनुमा घर बनाकर रहते हैं।

कंदोवन नाम कंदो के बहुवचन जिसका मतलब मधुमक्खियों का घोंसला होता है, पर रखा गया है। दिलचस्प बात यह है कि यहाँ लोग एक दो साल से नहीं बल्कि पिछले 700 सालों से इन्हीं घोंसलानुमा घरों में रहते आ रहे हैं। ये लोग कई पीढ़ियों से इन घरों में रह रहे हैं।

 

क्यों बनाये गए हैं ऐसे घर

कंदोवन के प्रारंभिक निवासी यहां हमलावर मंगोलों से बचने के लिए आए थे।  दरअसल यहां मंगोलों का दहशत काफी समय पहले से ही थी। यहां के पूर्वजों ने मंगोलों के हमले से अपनी जान बचाने के लिए दूरदराज़ के इस क्षेत्र में ऐसे घर बनाए थे।

हमलावर मंगोलों से बचने के लिए इन लोगों के पूर्वजों ने ज्वालामुखी की चट्टानों को खोद डाला और इसे ही अपना स्थायी घर बना लिया।

वातावरण के अनुकूल

इन घरों की एक खास बात यह भी है कि यह घर वातावरण के अनुकूल रहते हैं। यहां ठंड के मौसम में गर्मी और गर्मी में ठंडक का अहसास होता है। यह घर देखने में तो काफी अजीब लगते हैं लेकिन काफी आरामदायक होते हैं। 700 साल पुराने इस गांव के लोगों को ठंड में हीटर और गर्मी में एसी की जरूरत नहीं पड़ती।

कंदोवन – पर्यटन के लिए हो रहा मशहूर

कंदोवन अब यह ईरान के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। चट्टानों को खोदकर बने घर, यहां आने वालों पर्यटकों के लिए अद्भुत नजारा प्रस्तुत करते हैं। कंदोवन के निवासियों का मुख्य पेशा कृषि और पशुपालन है। दुनिया भर में यह गांव अपने अनोखे घरों के लिए पहचाना जाने लगा है।

अब ईरान के इस गांव ने एक बड़े कस्बे की शक्ल ले ली है। खास बात यह है कि इनमें ज्यादातर मकान चार मंजिला हैं। यहां के लोगों की कमाई का जरिया कृषि, भेड़ पालन है। लेकिन अच्छी कमाई टूरिज्म से ही होती है। यहां के लोग हैंडीक्रॉफ्ट बनाकर बेचते हैं। लोगों ने अपने घरों को हेरिटेज होटल में बदल दिया है।

कंदोवन वीडियो

यह भी पढ़ें: