‘आई-दा’- दुनिया की पहली रोबोट पेंटर

1463

‘आई-दा’ नामक खूबसूरत महिला जैसी लगने वाली यह पेंटर दरअसल एक रोबोट है। यह दुनिया की पहली रोबोट पेंटर बन गई है इसने एक कमाल किया है। आइने में खुद को देखकर अपनी पेंटिंग बना डाली। इसके बाद से यह लगातार चर्चा में है।

रोबोट आई-दा की पेंटिंग प्रदर्शनी हाल ही में लंदन के डिजाइन म्यूजियम में लगी। इसे बनाने वाले लोगों ने इसका नाम 19वीं सदी की गणितज्ञ ‘अदा लवलेस’ के नाम पर रखा है। यह दुनिया की पहली ‘अल्ट्रारियलिस्टिक रोबोट’ है जो अपनी आंखों और हाथों के उपयोग से पेंटिंग बनाती है।

- Advertisement -

आई-दा ने अपनी पेंटिंग बनाने के लिए कुछ देर तक खुद को आइने में देखा। सारे ‘कॉर्डिनेट्स’ रिकॉर्ड किए। उनका आकलन आर्टिफिशियल इंटैलीजैंस से किया, उसके बाद उसने अपनी तस्वीर को कैनवास पर उतार दिया।

इंगलैंड के लीड्स स्थित इंजीनियरों ने इसे बनाया है लेकिन इस रोबोट को बनाने का आइडिया ऑक्सफोर्ड आर्ट गैलरी के मालिक एइदान मेलर और क्यूरेटर लूसी सील को आया था। लूसी ने कहा कि इतना तो तय है कि भविष्य में लोग टैक्नोलॉजी आधारित पेंटिंग्स को भी काफी पसंद करने लगेंगे।

आई-दा की पेंटिंग एग्जीबिशन को लेकर एइदान पहले काफी संदेह की स्थिति में थे लेकिन उनका कहना है कि आर्टिफिशियल इंटैलीजैंस आधारित आर्ट मूवमैंट की शुरूआत अगर आई-दा से हो तो लाजवाब होगा।

वह आई-दा का काम दुनिया के सामने रखना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि आई-दा दुनिया की पहली प्रोफैशनल ह्यूमेनॉयड आर्टिस्ट है जो अपनी कलाकृतियां खुद बनाती है।

क्योंकि यह एक रोबोट है इसलिए उसके काम के लिए सोचने का नजरिया भी आर्टिफिशियल इंटैलीजैंस के जरिए ही सम्भव होता है। जो वह रोबोट सोचता है उसे कैनवास पर उतार देता है या फिर जो देखता है उसे।

प्रदर्शनी के दौरान आई-दा ने कुछ सवालों के जवाब भी दिए। प्रदर्शनी में उसके द्वारा बनाई गई ड्रॉइंग्स, पेंटिंग्स, स्कल्पचर्स, वीडियो आर्ट को भी दिखाया जा रहा है ताकि लोगों को पता चल सके कि आर्टिफिशियल इंटैलीजैंस, टैक्नोलॉजी और ऑर्गेनिक लाइफ को मिलाकर क्या कुछ किया जा सकता है।

पंजाब केसरी से साभार

यह भी पढ़ें :-