जानें दुनिया के अलग-अलग देशों में मनाए जाने वाले होली जैसे त्यौहारों के बारे में!!

434

रंगों का त्यौहार होली पुरे विश्व में मनाया जाता है। ब्रजभूमि मथुरा, वृंदावन, नंदगांव, गोकुल और बरसाना की होली केवल भारत में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में मशहूर हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि दुनियाभर में कई ऐसे देश हैं जहां होली जैसे ही त्यौहार मनाए जाते हैं।

हां यह बात अलग है कि अलग-अलग देशों में इसके रंग अलग-अलग हैं। कहीं ये रंगों से खेली जाती है तो कहीं कीचड़ से, कहीं पानी से तो कहीं टमाटर से।

जिन्हें देखकर लगता है कि रंग 12 नहीं हजार हैं। इस लेख में हम जानेंगे कि दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मनाए जाने वाले होली जैसे त्यौहारों के बारे में। तो चलिए जानते हैं:-

म्यामांर (पानी वाली होली)

भारत के पड़ोसी देश म्यामांर में मेकांग के नाम से पानी का त्यौहार मनाया जाता है। इसे थिंगयान भी कहते हैं। म्यामांर के नववर्ष पर मेकांग मनाया जाता है। इस त्यौहार में देश के सभी लोग भाग लेते हैं। लोग एक-दूसरे पर रंग और पानी की बौछार करते हैं। वहां के लोगों का मानना है कि आपस में एक-दूसरे पर पानी डालकर पाप धोएं जाते हैं।

दक्षिण कोरिया (कीचड़ और ठंडे पानी की होली)

भारत की होली की ही तरह दक्षिण कोरिया में बोरीयोंग मड फेस्टिवल मनाया जाता है। यह पर्व हर वर्ष जुलाई महीने में मनाया जाता है। इस दिन लोग एक-दूसरे के ऊपर मिट्टी लगाते हैं और कीचड़ फेंकते हैं।

इसके अलावा थाईलैंड में होली की ही तरह अप्रैल माह में सोंगक्रन नाम का एक पर्व मनाया जाता है। इस पर्व में सभी एक-दूसरे पर ठंडा पानी डालते हैं और नए साल का स्वागत करते हैं।

इटली (संतरे और टमाटर की होली)

होली की तरह ही इटली में फरवरी माह में बैटल ऑफ द ऑरेंज फेस्टिवल मनाया जाता है। इस पर्व में सभी एक-दूसरे पर ऑरेंज फेंकते हैं।

इसके अलावा स्पेन में होली की ही तरह ला टोमाटीना पर्व मनाया जाता है। इसमें लोग एक दूसरे के ऊपर टमाटर फेंककर अपनी खुशी का इजहार करते हैं।

जापान में होली का बहुत खास रंग

जापान में मनाए जाने वाला यह त्यौहार एक अनोखा त्यौहार माना जाता है। यह अपने अनूठेपन के लिए जाना जाता है। यह उत्सव मार्च अप्रैल के महीने में मनाया जाता है।

इस महीने में मनाए जाने के पीछे एक खास वजह भी है। यह समय चेरी के पेड़ में फूल आने का समय होता है और लोग अपने परिवार के साथ चेरी के बागों में बैठकर एक-दूसरे को बधाई देते हैं।

लोग पेड़ से गिरने वाली फूलों की पंखुड़ियों से सबका स्वागत करते हैं। पूरे दिन चलने वाले इस त्यौहार पर विशेष प्रकार का भोजन और गीत-नृत्य करने का भी रिवाज होता है।

पोलैंड में है भारत जैसा ही होली का रंग

पोलैंड में होली की तरह असना नाम का त्यौहार मनाते हैं। इस अवसर पर लोग एक-दूसरे पर रंग डालते हैं और एक-दूसरे के गले मिलते हैं। पुरानी शत्रुता भूलकर नए सिरे से रिश्ते बनाने के लिए यह श्रेष्ठ उत्सव माना जाता है।

चेकोस्लोवाकिया में भी बलिया कनौसे नाम से एक त्यौहार बिल्कुल होली के ढंग से ही मनाया जाता है। इस अवसर पर लोग आपस में एक-दूसरे पर रंग डालते हैं और नाचते-गाते हैं।

जर्मनी (में रैनलैंड)

जर्मनी में रैनलैंड नाम के स्थान पर होली जैसा त्यौहार एक नहीं बल्कि 7 दिनों तक मनाया जाता है। इस समय लोग अटपटी पोशाक पहनते हैं और अटपटा व्यवहार करते हैं।

बच्चे-बूढ़े सभी एक दूसरे से मजाक करते हैं। इन दिनों किसी तरह के भेदभाव की कोई गुंजाइश नही रहती। इस दौरान किए गए हंसी-मजाक का कोई बुरा नहीं मानता है।

पेरू (होली जैसा इनकान उत्सव)

पेरू में इनकान उत्सव 5 दिनों तक चलता है। इस त्यौहार में पूरा शहर रंगीला हो जाता है। सारे लोग रंगीन परिवेश में पूरे शहर में टोलियों में घूमते रहते हैं। हर टोली की अपनी एक थीम होती है।

टोली में चलने वाले लोग ड्रम की थाप पर नाचते हुए चलते हैं। सभी टोलियों में एक-दूसरे से अच्छे साबित करने की चुनौती होती है। रात में कुजको नाम के एक महल में इकट्ठा होकर एक-दूसरे को शुभकामनाएं दी जाती हैं

ऑस्ट्रेलिया में चारों ओर नजर आते हैं तरबूज

आस्ट्रेलिया में होली की तरह ही एक रोमांचकारी त्यौहार मनाया जाता है। भारत में जैसे होली पर हर तरफ रंग ही रंग दिखाई देते हैं। वैसे ही यहां हर
तरफ तरबूज ही तरबूज दिखाई देते हैं। इस त्यौहार पर ऐसा लगता है जैसे तरबूजों की नदी बहने लगती है। इस त्यौहार में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होते हैं, जिसमें यहां के लोग बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

यह भी पढ़ें :