कॉमिक्स : हमारे बचपन के साथी, जाने कब और कैसे हुई इनकी शुरुआत

617

एक ऐसा वक्त भी था, जब दुनिया आज की तरह तकनीक के इशारों पर नहीं नाचती थी। तब बच्चों की सबसे प्यारी दोस्त कॉमिक्स हुआ करती थी। गर्मी की छुट्टी का मतलब ढेर सारी कॉमिक्स और मस्ती हुआ करती थी।

लेकिन वक्त बदलने के साथ बच्चों के दोस्त और पसंद भी बदलने लगी है। वह भले ही अब गुजरे जमाने की बात हो, लेकिन कॉमिक्स से लोगों का जुड़ाव कम नहीं हुआ है।

जब हम कॉमिक्स की बात करते हैं तो सबसे पहले याद आती है सुपरहीरोज पर बनी कॉमिक्स की, जो बच्चों को बेहद पसंद है आज इस पोस्ट में हम इन्हीं कॉमिक्स के बारे में बात करने जा रह हैं तो चलिए जानते हैं :-

- Advertisement -

मार्वल कॉमिक्स

पल्प मैगजीन के पब्लिशर मार्टिन गुडमैन ने सन् 1939 में एक कॉमिक्स कंपनी टाइमली पब्लिकेशन बनाई, जिसे बाद में मार्वल कॉमिक्स के नाम से जाना गया।

इसके बाद आधुनिक मार्वल कॉमिक बनाने का श्रेय फेमस राइटर स्टैन ली को जाता है, उन्होंने सन् 1961 में द फैंटास्टिक फोर के साथ मार्वल कॉमिक्स की शुरुआत की थी।

इसमें अवेंजर्स, एक्स-मैन, फैंटास्टिक फोर और गार्जियन्स ऑफ गैलेक्सी जैसे सुपरहीरोज की टीम भी शामिल है। साथ ही डॉक्टर डूम, ग्रीन गोब्लिन, मैगनेटो, गेलेक्ट्स, थानोस, अल्ट्रॉन, डॉक्टर ऑक्टोपस, लोकी, वेनॉम, एपॉकेलिप्स, किंगपिन और रेड स्कल जैसे खलनायक शामिल है। इसके सारे पात्र काल्पनिक हैं।

मार्वल में स्पाइडर-मैन, द एक्स मैन, आयरन मैन, द हल्क, थॉर, कैप्टन अमेरिका, वूल्वरिन (कॉमिक्स), ब्लैक पैंथर, ह्यूमन टॉर्च ,ऐंट-मैन, डॉक्टर स्ट्रेंज, वास्प, डेडपूल, हॉकआई, ब्लैक विडो, स्टार-लॉर्ड, डेयरडेविल, कैप्टन मार्वेल और पनिशर जैसे सुपर हीरो की कॉमिक्स शामिल हैं। ज्यादातर कैरेक्टर पर हॉलिवुड में मूवी भी बन चुकी हैं, लेकिन कॉमिक की अपनी एक जगह और फैन हैं।

यदि आप यह कॉमिक्स खरीदना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें :-

डीसी कॉमिक्स

यह डीसी एंटरटेनमेंट की प्रकाशन इकाई है, जो वार्नर ब्रदर्स की एक सहायक कंपनी है। यह अमेरिका की सबसे बड़ी और सबसे पुरानी कॉमिक पुस्तक कंपनियों में से एक है, जिनमें बैटमैन, सुपरमैन, वंडर वूमन और साथ में कुछ खलनायक जैसे- लेक्स लुथर, जोकर, केटवोमेन आदि शामिल हैं।

सुपरमैन डीसी कॉमिक्स द्वारा प्रकाशित एक काल्पनिक सुपरहीरो या महानायक है। लेखक जेरी सीगल एवं आर्टिस्ट जॉय शस्टर ने इसकी रचना की थी।

वर्ष 1938 में 30 जून को सुपरमैन पहली बार कॉमिक्स के पन्नों पर नजर आया था। उसके बाद सुपरमैन दुनियाभर के बच्चों का पसंदीदा किरदार बन गया और इसे आज भी पसंद किया जाता है।

भारत में बनी कॉमिक्स

भारत में कॉमिक्स प्रकाशन की शुरुआत देखें तो शरू में विदेशों के कॉमिक्स पात्रों को हिन्दी में ट्रांसलेट करके पब्लिश किया था, जिसमें सर्वप्रथम नाम आता है ‘इंद्रजाल कॉमिक्स’ का, जिसने 1964 में ‘द फैंटम्स बेल्ट’ के नाम से महान कॉमिक्स लेखक और चित्रकार ली फॉक के फेमस कैरेक्टर फैन्टम की कॉमिक्स प्रकाशित की थी।

इसके बाद बात आती है हिंदी कॉमिक की, जिसमें बहादुर को पहला भारतीय कॉमिक हीरो माना जाता है। केसरिया कुर्ता और नीली डेनिम पहनने वाला बहादुर डाकुओं से लड़ता था।

इस किरदार के रचयिता हैं आबित सुरती जो मुंबई में रहते हैं। इसे इंद्रजाल कॉमिक्स द्वारा सबसे पहले 1976 में पब्लिश किया गया था।

साठ के दशक में अमर चित्र कथा प्रकाशन का जन्म हुआ, जिसमें पौराणिक कथाओं का जिक्र होता था। मशहूर कार्टूनिस्ट प्राण ने 1971 में चाचा चौधरी कार्टून की रचना की।

इसके अलावा उन्होंने श्रीमती जी, पिंक, बिल्लू और रमन जैसे किरदारों को जन्म दिया, जिसे बच्चों में आज भी पसंद किया जाता है। इसके बाद डायमंड कॉमिक्स, मधु मुस्कान, आदर्श चित्र कथा, गोवरसंस कॉमिक्स आदि हैं।

यह भी पढ़ें :-