सेहत के लिए खतरनाक हो सकती है “वाटर डाइटिंग”

351

एक नई प्रकार की डाइट “वाटर डाइटिंग” आजकल बहुत प्रसिद्ध है. इस डाइट में केवल पानी, चाय तथा कॉफ़ी ली जाती है, और इसमें कुछ खाया पीया नहीं जाता.इस डाइट की मदद से कई युवा पतले होने की कोशिश करने लगे है. हालांकि “वाटर डाइटिंग” के नाम से पुकारी जाने वाली इस डाइट को जानकार वजन कम करने का बेहद खतरनाक तरीका बता रहे है.

“वाटर फास्टिंग” में वजन कम करने के लिए किसी भी तरह का भोजन नहीं किया जाता है और केवल तीन प्रकार के पेय ही पिए जाते है. हाल के दिनों में यह सोशल मीडिया पर ख़ासा लोकप्रिय हुआ है. कई लोगों ने तो हेश्ताग #waterfast के साथ वजन कम करने की अपनी प्रगति के बारे में जानकारी तथा फोटोज पोस्ट करनी शुरू कर दी ताकि अन्य लोग भी इसे आजमानी के लिए प्रेरित हो.

परंतु जानकारों ने चेतावनी दी है कि यह स्वस्थ के लिए बेहद खतरनाक है. इसकी तुलना “एनोरैक्सिया” (वजन बढने के भय से भोजन न करना) जैसी स्थिति से करते हुए वे इससे बचने की सलाह दे रहे है. एक विशेषज्ञ जोआन लैबिनेर कहते है,”यह’वाटर फास्टिंग’ शरीर के अंगों के लिए बेहद बुरा है. एनोरैक्सिया से ग्रस्त लोगों को हार्ट अटैक भी हो सकता है क्यूंकि उनका शरीर दिल से अपनी ज़रूरतें पूरी करने लगता है. शरीर को लगता है कि यह आपात स्थिति है और वह फैट जमा करने पर रोक लगा देता है तथा मांसपेशियों का इस्तेमाल जिंदा रहने के लिए करने लगता है.”

‘वाटर फास्टिंग’ ट्विटर पर भी खासा लोकप्रिय हुआ और कई लोगों ने दावा किया कि केवल पानी के सहारे जिंदा रहने से उनकी त्वचा पर गजब का असर हुआ है और वे कमाल के लगने लगे है. कुछ अन्य ने दावा किया कि उन्हें इससे पहले इतनी अच्छी नींद कभी नहीं आती थी.

हालांकि, एक डाइटर ने इसके विपरीत अपने अनुभव सांझे करते हुए बताया कि “वाटर फास्टिंग” छोड़ने\ पर उसे मजबूर होना पड़ा क्यूंकिकमजोरी की वजह से उसके लिए बिस्तर से उठना भी कठिन हो गया था.अमेरिकी शहर टोरंटो के एक गुर्दा विशेषज्ञ जासन फंग के अनुसार “वाटर फास्टिंग” केवल उन लोगों के लिए उपयुक्त हो सकता है जो बहुत मोटे हों अथवा टाइप-2 डायबिटीज से ग्रस्त हों अथवा टाइप-2 डायबिटीज़ से ग्रस्त हों, वह भी किसी डॉक्टर की निगरानी में.

उनके अनुसार,”यह किया जा सकता है, लोग इसे कर रहे है परन्तु इसे सुरक्षित ढंग से करना चाहिए.  मुझे नहीं लगता कि यह सुरक्षित है. हाँ यदि आप बहुत ज्यादा मोटे है तो यह सबसे खतरनाक काम नहीं है लेकिन पतले या सुडौल शरीर वालों के लिए यह ज्यादा खतरनाक है”

यह भी पढ़ें:-

एनेस्थीसिया से पौधे भी हो जाते है बेहोश

Comments