जानें दवाई के बिना उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के उपाय

576

उच्च रक्तचाप की समस्या आज के समय में बेहद आम हो गई है। सिर्फ बढ़ती उम्र में ही नहीं, बल्कि युवा वर्ग को भी हाई बीपी या लो बीपी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

उच्च रक्तचाप कई गंभीर समस्या का कारण बनता है। यह दिल पर गंभीर प्रभाव डालता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में वैसे तो दवाएं फायदेमंद हैं परन्तु कुछ ऐसे उपाय भी हैं जिससे आप उच्च रक्तचाप पर नियंत्रण पा सकते  हैं ।

उच्च रक्तचाप क्या है?

उच्च रक्तचाप जिसे हाइपरटेंशन भी कहते है, जब धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाता है तो दबाव की इस वृद्धि के कारण धमनियों में खून का प्रभाव बनाए रखने के लिए दिल को समान्य से अधिक काम करने की जरूरत पड़ती है।

रक्तचाप में दो माप शामिल होती हैं:- सिस्टोलिक और डायस्टोलिक, जो इस बात पर निर्भर करती है कि हृदय की मांसपेशियों में संकुचन (सिस्टोल) हो रहा है या धड़कनों के बीच में तनाव मुक्तता (डायस्टोल) हो रही है।

आराम के समय पर सामान्य रक्तचाप 100-140 mmHg सिस्टोलिक (उच्चतम-रीडिंग) और 60-90 mmHg डायस्टोलिक (निचली-रीडिंग) की सीमा के भीतर होता है। उच्च रक्तचाप तब होता है यदि यह 90/140 mmHg पर या इसके ऊपर लगातार बना रहता है।

कितना होना चाहिए रक्‍तचाप

आमतौर पर आपका ब्‍लड प्रेशर 120 से कम और 80 (120/80) से ज्‍यादा होना चाहिए। अगर आपका ब्‍लड प्रेशर इतना है तो घबराने की जरूरत नहीं है। अगर इससे ज्‍यादा तो आपको तुरंत डॉक्‍टर की सलाह लेनी चाहिए, क्‍योंकि उच्‍च रक्‍तचाप हृदय रोगों के जोखिम को बढ़ाता है।

लक्षण

हाई ब्‍लड प्रेशर के लक्षणों में सिरदर्द, चक्‍कर आना और दिल की धड़कने बढ़ जाना आदि शामिल हैं। हाई बीपी के रोगियों को अपने खाने में बहुत ही हल्‍का या फिर नाम मात्र का नमक डालना चाहिए।

आइये जानते हैं उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के कुछ उपाय

आहार

यदि आप दवा के बिना अपने रक्तचाप को नियंत्रित करना चाहते हैं, तो अच्छे आहार का पालन करें। आहार में फल, सब्जियां, कम वसा वाले डेयरी उत्पाद और नमक का सेवन कम करें।

मांस कम खाएं

हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए बोनलेस चिकन, मछली, रेड मीट, समुद्री मछली से बचना फायदेमंद है। आहार में ताजे फल और सब्जियों का सेवन अधिक फायदेमंद होता है।

रोज व्‍यायाम करें

रोजाना व्‍यायाम, खासतौर पर कार्डियो करने से ब्‍लड प्रेशर हमेशा नियंत्रित रहता है। आपको रोजाना दौड़ लगानी चाहिए। व्यायाम आपको कई बीमारियों से बचने में मदद करेगा।

आपको शारीरिक रूप से सक्रिय रहने की आवश्यकता है। उच्च रक्तचाप वाले रोगियों के लिए सप्ताह में कम से कम 5 दिन आधा घंटा टहलना बहुत ही आवश्यक है।

वजन कम करें

यदि आप रक्तचाप कम करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आप अपने वजन को कम करें। हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए अधिक वज़न बहुत तकलीफदेह होता है।

नमक का सेवन कम करें

आहार में नमक की मात्रा बढ़ाना उच्च रक्तचाप में वृद्धि के लिए जिम्मेदार है इसलिए ऊपर से नमक वाले नमकीन भोजन, नमकीन खाद्य पदार्थ खाने से बचें।

आपको पैकेट वाले फूड जिनमें ढेर सारा नमक होता है, उससे दूर रहना चाहिए, क्‍योंकि इनमें ढेर सारा नमक रहता है। नमक आपका बीपी बढ़ा सकता है। इसके बजाय पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन बढ़ाएं जैसे:- केला, कद्दू के बीज।

शराब और धूम्रपान से बचें

शराब आपके ब्‍लड प्रेशर को तेजी से बढ़ाती है इसलिए शराब पीने वालों को हार्ट स्‍ट्रोक ज्‍यादा होता है। जिन लोंगो को हाई बीपी है उन्‍हें ना तो शराब पीनी चाहिए और ना ही धूम्रपान करना चाहिये।

डार्क चॉकलेट खाएं

आपको चॉकलेट खाने के लिए कहने की बात सुनकर काफी अजीब लग रहा होगा, लेकिन 2010 के एक अध्ययन में पाया गया कि डार्क चॉकलेट उच्च रक्तचाप को कम करने में बहुत फायदेमंद है।

डार्क चॉकलेट को कोकोट पेड़ के बीज से बनाया जाता है, जिसमें ढेर सारे एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं। इसमें फ्लेवानॉल होता है जो कि ब्‍लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है।