जानिए सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी की जयंती पर उनके बारे में कुछ विशेष

1871

शुक्रवार, 19 नवंबर को गुरु नानक देव की जयंती है। गुरु नानक देव सिखों के सबसे प्रसिद्ध गुरु और सिख धर्म के संस्थापक है। सिख संप्रदाय के इस पर्व को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है।

सिख धर्म में यह त्यौहार बहुत ही श्रद्धा व ख़ुशी के साथ मनाया जाता है। इस मौके पर शबद कीर्तन, अटूट लंगर एवं गुरु की जीवनी पर प्रकाश डाला जाता है।

इस पोस्ट के माध्यम से हम जानेंगे गुरु नानक देव जी के बारे में कुछ विशेष बातें। तो चलिए जानते हैं।

गुरु नानक देव जी का बचपन

गुरु नानक देव जी का जन्म लाहौर के पास तलवंडी नामक गांव में कार्तिक पूर्णिमा के दिन हुआ। गुरु नानक देव जी के चेहरे पर बचपन से ही अजीब सा तेज दिखाई देता था।

उनका परिवार कृषि करके अपना गुजरा करता था। गुरु नानक देव जी का जन्म जहां हुआ था, वह स्थान आज उन्हीं के नाम से जाना जाता है। जिसे अब ननकाना साहिब कहा जाता है।

ननकाना अब पाकिस्तान में है। बचपन से तीव्र बुद्धिवाले नानक देव जी सिख धर्म के संस्थापक रहे हैं। शादी के 16वें वर्ष के बाद नानक देव जी अपनी पत्नी और दोनों पुत्रों को छोड़कर धर्म के मार्ग पर निकल पड़ें। बचपन से ही उनका मन धर्म और अध्यात्म में लगता था।

गुरु नानक देव जी के आध्यात्म एवं बुद्धिमता की कुछ किस्से

गुरु देव जी की महानता के दर्शन उनके बचपन से ही होने लगे थे। कहा जाता है कि जब बचपन में उनका जनेऊ संस्कार किया जाने लगा और पंडित जी नानक देव जी के गले में जनेऊ धारण करवाने लगे तब गुरु देव जी ने उनका हाथ पकड़कर कहा- ‘पंडितजी, जनेऊ पहनने से हम लोगों का दूसरा जन्म होता है, जिसको आप आध्यात्मिक जन्म कहते हैं। तो इसके लिए जनेऊ भी किसी और किस्म का होना चाहिए, जो हमारी आत्मा को बांध सके। क्योंकि आप जो जनेऊ मुझे दे रहे हो वह तो कपास के धागे का है, जो कि मैला हो जाएगा, टूट जाएगा, मरते समय शरीर के साथ चिता में जल जाएगा। तो फिर यह जनेऊ आत्मिक जन्म के लिए कैसे सहायक होगा? बालक नानक का यह जवाब सुनकर पंडित जी कुछ नहीं कह पाए और नानक जी ने जनेऊ धारण करने से इनकार कर दिया।

सच्चा सौदा

जब गुरु नानक देव जी बड़े हुए तो एक दिन नानक देव जी के पिता ने व्यापार करने के लिए उन्हें 20 रुपए दिए और कहा- ‘इन 20 रुपए से सौदा (व्यापार) करके आओ’।

जब नानक देव जी सौदा करने के लिए निकले तो रास्ते में उन्हें साधु-संतों की मंडली मिली। नानक देव जी ने उस साधु मंडली को 20 रुपए का भोजन करवाया और घर वापस लौट आए।

जब घर आ कर पिताजी ने पूछा- क्या सौदा करके आए? उन्होंने कहा- ‘साधुओं को भोजन करवाया। यही तो सच्चा सौदा है।’

गुरु नानक देव जी के प्रसिद्ध दोहे

अंतर मैल जे तीर्थ नावे तिसु बैकुंठ न जाना।
लोग पतीणे कछु ना होई नाही राम अजाना।।

इसका अर्थ यह है कि अगर मन के अंदर मैल हो तो तीर्थ नहाने का क्या फायदा है? सिर्फ तीर्थ नहाने से मन साफ नहीं हो सकता और व्यक्ति बैकुंठ नहीं जा सकता।

तीर्थयात्रा की महानता चाहे कितनी भी क्यों न हो। यह तीर्थयात्रा सफल हुई है या नहीं, इसका निर्णय हमारे कर्मो पर निर्भर करता है। इसके लिए प्रत्येक मनुष्य को अपने अंदर झांककर देखना चाहिए कि, तीर्थ स्नान करने के बाद भी मन में निंदा, ईर्ष्या, धन-लालसा, काम, क्रोध आदि कितने कम हुए हैं।

भेद भाव की भावना

गुरु नानक देव जी किसी भी व्यक्ति में फर्क नहीं करते थे। वे कहते हैं कि एक बार कुछ लोगों ने नानक देव जी से पूछा- आप हमें यह बताइए कि आपके मत अनुसार हिन्दू बड़ा है या मुसलमान। उन्होंने उत्तर दिया-

अवल अल्लाह नूर उपाइया कुदरत के सब बंदे।
एक नूर से सब जग उपजया को भले को मंदे।।

इसका मतलब यह है कि ईश्वर के सामने सभी एक समान है। न तो हिन्दू कहलाने वाला ईश्वर की नज़र में बड़ा है, न मुसलमान कहलाने वाला। ईश्वर की नज़र में वही इंसान बड़ा है जिसका मन सच्चा और नेक ईमान हो।