जाने क्या है रहस्य ‘किलिंग स्टोन’ का, जिसको तोड़ने के बाद मुक्त हुआ खूंखार प्रेत

1029

इस समय दुनिया में उथल-पुथल मची हुई है। एक तरफ जहां जंग जारी है तो दूसरी तरफ लोगों को भूखमरी का सामना करना पड़ रहा है। कोरोना महामारी ने दुनिया की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है।

दुनिया पहले से ही महंगाई की मार दुनिया झेल रही है ऐसे में रूस-यूक्रेन युद्ध के रूप में एक नई चुनौती दुनिया के सामने है। यह युद्ध पूरी दुनिया को प्रभावित कर रहा है।

अब इसी बीच एक अजीबोगरीब घटना ने लोगों की नींद उड़ा दी है और क्या है वो घटना चलिए जानते हैं इस पोस्ट के माध्यम से :-

जापान में एक पत्थर को दो अलग-अलग हिस्सों टूट गया है जिसे किलिंग स्टोन के नाम से जाना जाता है। जापान में कई लोगों का कहना है कि ‘खूंखार प्रेत‘ करीब एक हजार साल से इस पत्थर में कैद था, जो अब टूटने के बाद मुक्त हो गया है। इसे मानने वालों की चिंता इस घटना के बाद से बढ़ गई है। अब उन्हें किसी बड़े हादसे का डर सता रहा है।

जापान में ऐसी मान्यता है कि जो इस पत्थर के पास जाता है उसकी मृत्यु हो जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस पत्थर का नाम सेशो-सेकी है। इससे स्थानीय लोग दहशत में हैं। उनका मानना ​​है कि पत्थर से बुरी आत्मा निकली है।

माना जाता है कि यह पत्थर तमामो-नो-मै की तब्दील हुई लाश थी, जो एक खूबसूरत महिला थी, जिसे नौ पूंछ वाली लोमड़ी के रूप में जाना जाता था, वह एक दुष्ट डेम्यो के लिए काम कर रही थी, जो सम्राट टोबा को मारने और उसका सिंहासन लेने की साजिश रच रही थी।

ओटोगी-ज़ोशी के अनुसार, जब मिउरा-नो-सुके नामक प्रसिद्ध योद्धा द्वारा नौ पूंछ वाली लोमड़ी को मार दिया गया, तो उसका शरीर सेशो-सेकी बन गया।

एक बार, गेनो नामक एक बौद्ध पुजारी पत्थर के पास आराम करने के लिए रुक गया और तमामो-नो-मै की आत्मा ने उसे डराया।

गेनो ने भूत भगाने की रस्में की और आत्मा से उसे माफ़ करने की भीख मांगी। इसके बाद तमामो-नो-मै ने कभी किसी को न डराने की कसम खाई।

5 मार्च, 2022 को यह बताया गया कि प्राकृतिक अपक्षय के परिणामस्वरूप पत्थर दो भागों में विभाजित हो गया था। कुछ नेटिज़न्स ने इस भूतिया लोमड़ी के बारे में अपना डर ​​व्यक्त किया।

26 मार्च 2022 को, स्थानीय प्रशासन द्वारा पुजारियों को दुष्ट आत्मा को शांत करने के लिए विभाजित चट्टान पर हरेगुशी लहराते हुए प्रार्थना समारोह की मेजबानी की गई और प्रसाद बांटा गया।

समारोह के बाद एक मोटी धुंध ने उस जगह को ढक दिया, जो कुछ लोगों के अनुसार एक अलौकिक घटना थी। यह रहस्यमयी पत्थर नासु में ज्वालामुखी पर्वतों के पास स्थित है। यह पत्थर वर्ष 1957 से एक ऐतिहासिक स्थल के रूप में पंजीकृत है।

लेकिन यहां पहुंचे लोगों ने जब इस पत्थर को दो टुकड़ों में टूटा हुआ देखा तो वे डर गए। इस पत्थर में बंधी रस्सी भी टूट गई थी। जापान में हुई इस घटना के बाद से कई लोग डरे हुए हैं।

यह भी पढ़ें :-