देखिये कितने निराले है ये कुछ समुद्री जीव

डॉल्फिन

एक समुद्री जीव परिपक्व डॉल्फिन रोज 20 से 22 किलो मछली खा लेती है। उनका जीवनकाल 17 से 25 वर्ष तक होता है। खास बात यह है कि वे आईने में देख कर खुद को पहचान सकती हैं। सोनार तकनीक (ध्वनि तरंगों) की मदद से वे पानी में मौजूद चीजों की दूरी, उनके आकार-प्रकार के बारे में जान जाती हैं। डॉल्फिन आमतौर पर एक आंख खुली रख कर सोती हैं।

समुद्री ऊदबिलाव

समुद्री ऊदबिलाव दिन के करीब आधा वक्त अपने फर को संवारते हुए बिताते हैं। इन्हें वे अपनी उंगलियों की मदद से संवारते हैं। उनके मजबूत पंजे फर में कंघी सी करते हैं। इसके बाद वे अपने फर को मुलायम बनाने के लिए पानी में गोलगोल घूमते हैं। । आमतौर पर वे पीठ के बल ही सोते, आराम करते तथा तैरते हैं।

केकड़े

केकड़ों की 10 टांगें होती हैं इसलिए उन्हें ‘डैकापोड्स’ (डैका- दस, पोडा- टांगें) के रूप में जाना जाता है। इनमें से टांगों की पहली जोड़ी पंजों के रूप में मौजूद होती है जिसकी मदद से वे अपने शिकार को पकड़ते तथा खाते हैं।

समुद्री कछुए

समुद्री कछुओं को खानाबदोश भी कहा जाता है क्योंकि वे रोज करीब 1300 मील का सफर तय करते हैं। उनके मांस पर मौजूद कवच पत्थर जैसा सख्त होता है जो उनकी सुरक्षा करता है। एक बार में वे 200 तक अंडे देते हैं।

घोंघे

घोंघे का एक ही पैर होता है। वह पैर की आगे-पीछे होती रहने वाली मांसपेशियों की हरकत से एक तरह से जमीन पर घिसट कर चल पाता है। चलने में सरलता के लिए इसके मुंह के निचले हिस्से में स्थित एक ग्रंथि से लार निकलती रहती है। यह लार इसके पैर के नीचे से गुज़रती है जिससे घोंघा बेहद तीखी चीजों के ऊपर से भी बिना चोटिल हुए आसानी से गुज़र जाता है।

Read more :

पत्नी की याद में पति ने बना दिया Guitar की Shape का जंगल

नवीनतम