जानिए कैसे समझे कुत्तों की भाषा को

30

जैसे कि आपको पता है कि कुत्ता पालतू जानवरों में से सबसे अधिक वफ़ादार होता है, इसलिए ज्यादातर लोग इस जानवर को अपने घरों में पालते हैं। लेकिन आज हम आपको इन कुत्तों की विशेष बात के बारे में बताने जा रहे हैं। क्या आप जानते हैं कि, कुत्ते भी बोलते हैं? जी हां कुत्तों का बोलना उनकी भावनाओं द्वारा होता है। भौंकना, तथा गुर्राना आदि के माध्यम से कुत्ते अपने मालिक को बहुत कुछ कहते हैं।

वैज्ञानिकों ने भी किया साबित

अब तो वैज्ञानिकों ने भी साबित कर दिया गया है कि कुत्ते बोलते है और उनके पास इस बात के सबूत भी हैं। उनका मानना है कि कुत्ते मनुष्य से बात करने के लिए अपनी भाव-भंगिमाओं का प्रयोग करते हैं। कुत्तों की भाषा का रहस्य खोलने का पहला प्रयास सालफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों द्वारा किया गया था। शोधकर्ताओं ने अध्ययन के लिए 37 कुत्ते लिए, जिनके मालिकों ने उनकी रोजमर्रा की फिल्में बनाई थीं, और अपनी टीम को उसका निरीक्षण करने को कहा।

कुत्तों दुवारा दिए जाने वाले संकेत

जमीन पर लोटना, पंजों को उठाना तथा कूदना उन 19 भाव-भंगिमाओं में शामिल था, जिनका निरीक्षण किया गया था। बालों को सहलाने, दरवाजा खोलने, खिलौना तथा खाना मांगने जैसी कुछ बातें वैज्ञानिकों ने देखीं जिनके लिए कुत्ते विभिन्न विशेष भाव-भंगिमाओं का प्रदर्शन करते थे।

आपको बता दें कि पत्रिका ‘एनीमल कोग्निशन’ में एक अध्ययन प्रकाशित किया गया था जिसमें कहा गया है कि, एक ही विनती के लिए अलग-अलग कुत्ते अलग-अलग संकेतों का इस्तेमाल करते हैं। उदाहरण के लिए यदि एक कुत्ता अपनी पीठ के बल ज़मीन पर लेटता है, तो उसका अर्थ है कि, उसके पेट को खुजलाया जाए। सबसे अधिक जिस भाव-भंगिमा का प्रयोग कुत्ते करते हैं, वह अपने मालिक की ओर देख कर अपनी खाने की कटोरी की ओर देखना जिसका सीधा-सा अर्थ है कि, उन्हें कुछ खाने लिए चाहिए।

यह भी जरूर पढ़ें:-

कैसे रख सकते हैं हम अपने गुर्दों का ध्यान

 

Comments