कैसे बचें टाल-मटोल की आदतों से

98

वैसे तो काम से बचने के लिए हम सब ही टाल-मटोल करते रहते है। लेकिन, यह आदत हमारे लिए बहुत बुरी होती हैं.  समय के साथ टाल मटोल की आदतें व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य, उसके संबंधों और उसकी सम्पूर्ण कुशलता के लिए भी हानिकारक साबित होती है। अगर आप टाल-मटोल की आदतों से बचना चाहते हैं तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें।

आपको बता दें कि हमारे दिमाग का एक हिसा ‘लिम्बिक सिस्टम’ होता है जो कि हमारी इस आदत के लिए जिम्मेदार होता है। यही हिसा हमारे दिमाग की सोच को नकारात्मक करता है और हमको वो काम करने से रोकता है, जिसमें मेहनत ज्यादा लगती है। इसी हिस्से पर हमारी भावनाएं तथा हमारी प्रतिक्रियाएं निर्भर करती हैं।

हालांकि, यह आवश्यक नहीं है कि, हमेशा आपका दिमाग आपको टाल-मटोल करने पर मजबूर कर दे । हमारे दिमाग में एक और हिसा ‘प्रीफ्रंटल कोटेंक्स एरिया’ भी होता हैं, जो जटिल कार्यों को करने में हमारी मदद करता है।

दो रणनीतियों के तहत आप टाल-मटोल की आदत से हमेशा के लिए बच सकते हैं।

पहली रणनीति

आपको बता दें कि एक रिसर्च से पता चला है कि, लोग उन कार्यों को पूरा करने में ज्यादा दिलचस्पी लेते हैं, जो अधूरे हों। ऐसे में दिमाग को थोड़ी सी जानकारी देने से ही यह मन ही मन में उस काम पर विचार करने लगेगा और काफी सम्भावना है कि, आप उस काम को वक्त पर खत्म करने का प्रयास शुरू कर देंगे।

दूसरी रणनीति

तनाव तथा दिमाग में एक जटिल संबंध होता हैं। तनाव कम हो तो दिमाग लापरवाह बना रहता है। बहुत ज्यादा तनाव होने पर दिमाग सुन्न जाता हैं।

दूसरी ओर तनाव का स्तर यदि एक उपयुक्त सीमा तक रहे तो दिमाग में ‘स्ट्रैस हार्मोन्स’ का इतना स्तर बना रहता है कि, दिमाग को काम पर पूरा ध्यान लगाने, तथा पूरी क्षमता से कार्य करने की ताकत मिलती रहती है।