हीरों के बारे में टॉप 10 अद्भुत तथ्य !

अधिकांश लोगों को “साफ सफेद” हीरों के बारे में ही जानकारी होती है, जबकि हीरे कई रंगों जैसे गुलाबी, नीले, बैंगनी, लाल, नारंगी या किसी भी अन्य रंग में भी आते हैं। ये रंग पत्थर में छोटी मात्रा में अशुद्धियों के कारण होते हैं। ये बहुत ही कीमती होते है। जिन्हें आज “फैंसी” हीरे का नाम दिया गया है।

हीरो के बारे में कुछ अद्भुत तथ्य

  1. वैज्ञानिकों को हाल ही में अंतरिक्ष में चन्द्रमा के आकार का हीरा दिखाई दिया है। उन्होंने इस हीरे का नाम “लूसी” रखा है। क्योंकि यह नाम बीटल्स बैंड ग्रुप के गाने में “लूसी इन द स्काई विद डायमंड” में आता है। इस हीरे का भार 5 लाख खरब पौंड है।
  2. हीरे की खोज सबसे पहले भारत में 4,000 साल पहले हुई थी। जब भारत में हीरों का उत्पादन घटता जा रहा था। तो ब्राजील के मीनास गेरेस शहर में इसका उत्पादन बढ़ने लगा था।
  3. मेक्सिको के वैज्ञानिकों ने दावा किया है, कि वह टकीला को हीरे में बदल सकते हैं। लेकिन उनके लिए इतना टकीला जमा करना बहुत मुश्किल है जिससे एक हीरे की अंगूठी बनाई जा सके।
  4. हीरा और कोयला दोनों कार्बन से ही बनते हैं। लेकिन दोनों का अलग-अलग क्रिस्टल ढांचा होता है। आपने देखा होगा कि कार्बन थोड़ी चमकदार होती है।
  5. हमारी धरती पर इतने ज्यादा हीरे हैं कि यहां पर रहने वाले हर एक इंसान को एक कप हीरो का भर के दिया जा सकता है। लेकिन उद्योगों द्वारा ऐसा करने से सख्ती से मना किया गया है।
  6. ज्यादातर मिलने वाले हीरे 1 से 3 अरब साल पुराने होते हैं। जिनको हीरा बनने से पहले जमीन के अंदर 900-1300 डिग्री सेंटीग्रेड की गर्मी में अरबों सालों का समय लगा था।
  7. हीरे दुनिया के सबसे कठोर प्राकृतिक पदार्थ होते हैं। सिर्फ दूसरा हीरा ही हीरे पर खरोंच डाल सकता है।
  8. प्राचीन समय में हिंदू धर्म को मानने वाले लोग अपनी धार्मिक मूर्तियों की आँखों पर हीरों को लगाते थे। उनका यह मानना था कि ऐसा करने भगवान उनको आने वाले खतरे से रक्षा करेंगे।
  9. दुनिया के 80 प्रतिशत हीरों को उद्योगों द्वारा इस्तेमाल में लाया जाता है, क्योंकि दुनिया के 80 प्रतिशत हीरे गहने बनाने के लिए उपयुक्त नहीं होते।
  10. प्राचीन समय में लोग हीरों को अपनी ताकत और साहस दिखाने के लिए पहनते थे।