ब्लैक माम्बा- दुनिया का सबसे फुर्तीला व खतरनाक सांप

61

ब्लैक माम्बा साँपों की सबसे खतरनाक प्रजाति है। अफ्रीका का यह बेहद जहरीला सांप दुनिया के दस सबसे ज़हरीले साँपों में शामिल है। ब्लैक माम्बा अफ्रीका में हर साल औसतन 20 हज़ार मौतों के ज़िम्मेदार है। आइये जानते हैं खौफ के बादशाह के बारे में बेहद रोचक बातें.

बेहद फुर्तीला और आक्रामक

माम्बा रेंगने की गति के मामले में दुनिया के दूसरे साँपों से बहुत आगे है। यह 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भाग सकता है। यह इतना अधिक आक्रामक (aggressive) होता है कि खतरा महसूस होने पर कि यह कुछ ही सेकंड में लगातार 10-12 बार काट सकता है जिसके कारण शिकार के शरीर में 400 मिलीग्राम तक का ज़हर छोड़ देता है। दूसरी विशेषता या है कि ब्लैक माम्बा परिस्थिति के अनुसार अपना रंग बदल सकता है।

ब्लैक माम्बा पूरी तरह से ब्लैक नहीं

यह साँप देखने में भी बेहद ही खतरनाक होता है. वैसे अपने नाम के विपरीत ब्लैक माम्बा पूरी तरह से ब्लैक यानि काला नहीं होता बल्कि थोडा भूरा(ब्राउन) और ओलिव से लेकर ग्रे शेड लिए होता है. वैसे इसे यह नाम इसके मुहं के अन्दर के गहरे नीले (स्याही का रंग) भाग के लिए दिया गया है.

यह सांप जंगल के झाड़ और पेड़ों में रहना पसंद करते है। ब्लैक माम्बा की लम्बाई लगभग 2 मीटर तक होती है पर कई बार 4.5 मीटर लम्बे ब्लैक माम्बा साँप भी जंगल में देखे गए है।

बेहद जहरीला सांप

इसमें कोई शक नहीं कि यह सांप हमारी दुनिया के 10 सबसे ख़तरनाक और जहरीले सांपों की लिस्ट में शामिल है. इसका ज़हर तेजी से प्रक्रिया करने वाला (fast acting neuro toxin) होता है। इसका एक मिलीग्राम ज़हर ही इंसान को मारने करने के लिए काफी होता है. इसके काटते ही इंसान की आँखों के आगे अँधेरा छा जाता है। काटने के 15 मिनट से लेकर 3 घण्टे के अंदर इंसान की मौत हो जाती है। एंटी वेनीम बनने से पूर्व इसका काटा कोई भी इंसान बच नहीं सकता था। अफ्रीका में ये सांप इतना ज़्यादा पाया जाता है कि सांप के काटे व्यक्ति को अस्पताल पहुंचते ही सबसे पहले इसी सांप का एंटीडोट दिया जाता है।

ब्लैक माम्बा एक बार में 6 – 25 अंडे देता है, एक बार अंडा देने के बाद यह साँप उन्हें छोड़ के चली जाती है।  उसके तीन महीने बाद बच्चे बाहर आ जाते है जिनकी लम्बाई 16 – 24 इंच होती है। यह सांप लगभग 11 साल ज़िंदा रहते है।

शिकार करने का तरीका अन्य सांपों से जुदा

यह सांप आमतौर पर छोटे जीव जंतु और पक्षियों का शिकार करना पसंद करते हैं। इस सांप के शिकार करने का तरीका भी अन्य सांपों से बिल्कुल जुदा होता है। सबसे पहले यह अपने शिकार का तेजी से पीछा करके उसे पकड़ता है। फिर उसके अंदर अपना पूरा जहर छोड़ देता है। उसकी नज़र अपने शिकार पर तब तक रहती है, जब तक उसका ज़हर असर दिखाना शुरू नहीं कर देता।

कुछ देर बाद ही जैसे ही उसका शिकार पैरालाइज़ होकर मर जाता है, वैसे ही वह उसे खाने के लिए आगे बढ़ता है। जल्द ही वह अपने शिकार को निगल लेता है। दिलचस्प बात यह है कि यह सांप अपने से चार गुना बड़े जीव को खा सकता है।

 

Comments