“द नाइफ एंजल” अनोखी मूर्ति जो बनी है एक लाख चाकुओं से!

463

द नाइफ एंजेल” (हिंसा और आक्रामकता के खिलाफ राष्ट्रीय स्मारक के रूप में भी जाना जाता है) एक समकालीन मूर्तिकला है, जो इंग्लैंड के ओसवेस्ट्री में स्थित कलाकार अल्फी ब्रैडली और ब्रिटिश आयरनवर्क्स सेंटर द्वारा बनाई गई है।

दुनिया भर कई ऐसी मूर्तियाँ बनाई गई हैं  जिन्हें देखकर हर कोई आश्चर्यचकित रह जाता है जो अपनी अनूठी और खास विशेषताओं के लिए जानी जाती हैं।

आज हम आपको जिस अनोखी मूर्ति के बारे में बताने जा रहे हैं वो 1 लाख चाकुओं से बनाया गया है जो करीब 27 फीट ऊंची है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि इस प्रतिमा में लगा हर चाकू एक अपराध से जुड़ा है, जिसके कारण इसे दुनिया की सबसे अनोखी मूर्ति माना जाता है।

तो चलिए जानते हैं इस अनोखी मूर्ति के बारे में :-

द नाइफ एंजेल में छिपा है एक सन्देश

इस मूर्ति को डिजाइन करने और बनाने में डेढ़ साल का समय लगा, इसका विचार ब्रैडली को आया, जब वह ब्रिटिश आयरनवर्क सेंटर में मूर्तिकार के रूप में काम कर रहे थे।

2018 में मूर्तिकला के पूरा होने के बाद इसके निर्माण के पीछे हिंसा विरोधी संदेश को उजागर करने के लिए एक राष्ट्रव्यापी दौरे की शुरुआत हुई।

दरअसल ब्रिटेन के आसपास चाकू की हिंसा की घटनाओं में वृद्धि के बाद, ब्रैडली एक ऐसी मूर्ति बनाना चाहते थे जो इस विषय के बारे में जनता को जागरूक करे।

इस मूर्ति का निर्माण चाकू के अपराध को उजागर करने और हानिकारक प्रभाव वाले हिंसक व्यवहार के युवा लोगों को  शिक्षित करने के लिए मूर्तिकला का निर्माण किया गया था।

“सेव ए लाइफ, सरेंडर योर नाइफ” नामक एक परियोजना के हिस्से के रूप में, केंद्र ने अपनी लागत पर 200 चाकू बैंकों का आयोजन किया गया जिसमें व्यक्ति गुमनाम रूप से अपने चाकू दान करते हैं और पुलिस द्वारा जब्त किए गए चाकू को भी शामिल किया गया था। चाकू की हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार मूर्तिकला के हजारों ब्लेडों में से एक पर एक संदेश उकेर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-