Wednesday, February 28, 2024
23.4 C
Chandigarh

ज्वालामुखी विस्फोट के हैं कई प्रकार

ज्वालामुखी पृथ्वी की सतह पर उपस्थित ऐसी दरार या मुख होता है जिससे पृथ्वी के भीतर का गर्म लावा, गैस, भस्म आदि बाहर आते हैं। वॉल्केनोज यानी ज्वालामुखियों का नामकरण रोमन अग्नि देवता ‘वल्कन‘ के नाम पर किया गया है।

रोमवासियों का मानना था कि ‘वल्कन’ भूमध्य सागर में स्थित ‘वल्केनो’ में एक द्वीप के नीचे रहते हैं। उस समय मान्यता थी कि वे जब देवताओं के लिए हथियार बनाते हैं तब धरती कांपती है और द्वीप बनते हैं।

पृथ्वी के नीचे की ऊर्जा, यानी जियो थर्मल एनर्जी की वजह से वहां मौजूद पत्थर पिघलते हैं। जब जमीन के नीचे से ऊपर की ओर दबाव बढ़ता है, तो पहाड़ ऊपर से फटता है और ज्वालामुखी कहलाता है। ज्वालामुखी के नीचे पिघले हुए पत्थरों और गैसों को मैग्मा कहते हैं। ज्वालामुखी के फटने के बाद जब यह बाहर निकलता है तो वह लावा कहलाता है।

पर्वतों के शिखर से लावा अक्सर किसी भी ज्वालामुखी का विवरण पर्वतों के शिखर से उगलती हुई आग से होता है, कोई भी ज्वालामुखी पृथ्वी की सतह के नीचे से गर्म, तरल चट्टानों, राख और गैसों के रूप में धरती की ऊपरी सतह से अचानक नहीं निकलता, ये पदार्थ पर्वतों या पर्वत समान दरारों में काफी समय बीतने पर निकलते हैं।

ज्वालामुखी के शीर्ष पर एक गड्ढा पाया जाता है, जिसे क्रेटर कहा जाता है। इस गड्ढे का आकार कटोरीनुमा होता है। प्रत्येक ज्वालामुखी के विस्फोट का एक विशिष्ट इतिहास होता है, फिर भी अधिकतर ज्वालामुखियों को उनकी विस्फोट की शैली और उनके निर्माण के आधार पर तीन समूहों में रखा गया है।

सक्रिय ज्वालामुख

जिस ज्वालामुखी से नियमित रूप से लावा निकलता रहता है या उसके संकेत (गड़गड़ाहट, थरथराहट) मिलते रहते हैं, उसे सक्रिय ज्वालामुखी कहा जाता है। एक ज्वालामुखी तब तक सक्रिय रहता है, जब तक उसमें मैग्मा का भंडार होता है।

इटली का एटना ज्वालामुखी सक्रिय ज्वालामुखी का बेहतरीन उदाहरण है, जोकि 2500 वर्षों से सक्रिय है। सिसली द्वीप का स्ट्राम्बोली ज्वालामुखी प्रत्येक 15 मिनट के बाद फटता है और भूमध्यसागर का प्रकाश स्तंभ कहलाता है।

संयुक्त राज्य अमेरिका का सेंट हेलेना तथा फिलिपींस का पिनाट्बो सक्रिय ज्वालामुखी के अन्य उदाहरण हैं। विश्व का सबसे ऊंचा सक्रिय ज्वालामुखी कोटोपैक्सी (5897 मी.) है, जो इक्वेडोर के दक्षिणी भाग में स्थित है और चमकती चोटी (Shining Peak) के नाम से विख्यात है।

प्रसुप्त ज्वालामुखी

इस प्रकार के ज्वालामुखी में लम्बे समय से विस्फोट नहीं हुआ होता है किन्तु इसकी संभावनाएं बनी रहती है। ये ज्वालामुखी जब कभी भी क्रियाशील होते हैं तो जन-धन की अपार क्षति होती है।

प्रसुप्त ज्वालामुखी में मैग्मा तो होता है, लेकिन उसमें कोई हलचल नहीं होती। जापान का फ्यूजियामा, इटली का विसूवियस तथा इंडोनेशिया का क्राकाताओं प्रसुप्त ज्वालामुखी के उदाहरण हैं।

विलुप्त ज्वालामुखी

इस प्रकार के ज्वालामुखी में विस्फोट प्रायः बन्द हो जाते हैं और भविष्य में भी कोई विस्फोट होने की सम्भावना नहीं होती है। ऐसे ज्वालामुखी के मुख का गहरा क्षेत्र धीरे-धीरे क्रेटर झील के रूप में बदल जाता है, जिसके ऊपर पेड़-पौधे उग आते हैं। म्यांमार का पोपा ज्वालामुखी, एडिनबर्ग का आर्थर सीट, ईरान के देवमन्द एवं कोह-ए-सुल्तान विलुप्त ज्वालामुखियों के उदाहरण हैं।

ज्वालामुखी के प्रकार

ज्वालामुखियों को चार प्रकारों में बांटा गया है: सिंडर शंकु, मिश्रित ज्वालामुखी, ढाल ज्वालामुखी, लावा ज्वालामुखी।

सिंडर कोन

सिंडर शंकु गोलाकार या अंडाकार शंकु होते हैं जो एक ही वेंट से निकले लावा के छोटे टुकड़ों से बने होते हैं। सिंडर शंकु स्कोरिया और पाइरोक्लास्टिक्स के ज्यादातर छोटे टुकड़ों के विस्फोट से उत्पन्न होते हैं जो वेंट के चारों ओर बनते हैं।

अधिकांश सिंडर शंकु केवल एक बार फूटते हैं। सिंडर शंकु बड़े ज्वालामुखियों पर फ्लैंक वेंट के रूप में बन सकते हैं, या अपने आप उत्पन्न हो सकते हैं।

समग्र ज्वालामुखी

मिश्रित ज्वालामुखी खड़ी ढलान वाले ज्वालामुखी होते हैं जो ज्वालामुखीय चट्टानों की कई परतों से बने होते हैं, जो आमतौर पर उच्च-चिपचिपापन वाले लावा, राख और चट्टान के मलबे से बने होते हैं। इस प्रकार के ज्वालामुखी ऊँचे शंक्वाकार पर्वत होते हैं जो वैकल्पिक परतों में लावा प्रवाह और अन्य इजेक्टा से बने होते हैं, यही स्तर इस नाम को जन्म देते हैं।

कवच ज्वालामुखी

शील्ड ज्वालामुखी बीच में एक कटोरे या ढाल के आकार के ज्वालामुखी होते हैं जिनमें बेसाल्टिक लावा प्रवाह द्वारा बनाई गई लंबी कोमल ढलानें होती हैं। ये कम-चिपचिपाहट वाले लावा के विस्फोट से बनते हैं जो एक वेंट से काफी दूरी तक बह सकता है।

वे आम तौर पर भयावह रूप से विस्फोट नहीं करते हैं। चूंकि कम-चिपचिपाहट वाले मैग्मा में आमतौर पर सिलिका कम होता है, ढाल ज्वालामुखी महाद्वीपीय सेटिंग्स की तुलना में समुद्री क्षेत्रों में अधिक आम हैं। हवाई ज्वालामुखी श्रृंखला ढाल शंकुओं की एक श्रृंखला है, और वे आइसलैंड में भी आम हैं।

लावा डोम्स

लावा गुंबद तब बनते हैं जब फूटने वाला लावा प्रवाहित होने के लिए बहुत गाढ़ा होता है और एक खड़ी-किनारे वाला टीला बनाता है क्योंकि लावा ज्वालामुखी के वेंट के पास ढेर हो जाता है। इनका निर्माण अत्यधिक चिपचिपे लावा के धीमे विस्फोट से हुआ है।

वे कभी-कभी पिछले ज्वालामुखी विस्फोट के क्रेटर के भीतर बनते हैं। एक मिश्रित ज्वालामुखी की तरह, वे हिंसक, विस्फोटक विस्फोट पैदा कर सकते हैं, लेकिन उनका लावा आम तौर पर मूल वेंट से दूर नहीं बहता है।

ज्वालामुखी विस्फोट के प्रकार

ज्वालामुखी विस्फोट के प्रकार विभिन्न कारकों पर निर्भर करते हैं जैसे मैग्मा का रसायन, तापमान, चिपचिपाहट, आयतन, भूजल की उपस्थिति, पानी और गैस सामग्री।

ज्वालामुखी विस्फोट के विभिन्न प्रकार निम्नलिखित हैं:

हाइड्रोथर्मल विस्फोट: इन विस्फोटों में राख शामिल है न कि मैग्मा। वे हाइड्रोथर्मल सिस्टम के कारण होने वाली गर्मी से संचालित होते हैं।

फ़्रीटिक विस्फोट: यह तब होता है जब मैग्मा की गर्मी पानी के साथ संपर्क करती है। इन विस्फोटों में मैग्मा नहीं बल्कि केवल राख शामिल है।

फ़्रीटोमैग्मैटिक विस्फोट: यह विस्फोट तब होता है जब नवगठित मैग्मा और पानी के बीच परस्पर क्रिया होती है।

स्ट्रोमबोलियन और हवाई विस्फोट: हवाई विस्फोट में आग के फव्वारे होते हैं जबकि स्ट्रोमबोलियन विस्फोट में लावा के टुकड़ों के कारण विस्फोट होते हैं।

वल्कनियन विस्फोट: ये विस्फोट थोड़े समय के लिए होते हैं और 20 किमी की ऊंचाई तक पहुंच सकते हैं।

सबप्लिनियन और फिनियन विस्फोट: सबप्लिनियन विस्फोट 20 किमी की ऊंचाई तक पहुंचते हैं, जबकि प्लिनियन विस्फोट 20-35 किमी तक पहुंचते हैं।

अन्य ग्रहों पर भी ज्वालामुखी

पृथ्वी के अलावा अंतरिक्ष में जीवन को तलाशने के दौरान इस बात का पता चला कि पृथ्वी के समान अन्य ग्रहों पर भी ज्वालामुखी हो सकते हैं। चांद पर देखे गए अंधकारमय भू-खंड मारिया पर क्षुद्र चंद्र घाटियों और गुंबदी ज्वालामुखियों की उपस्थिति की संभावना व्यक्त की गई है।

माना जाता है कि शुक्र ग्रह की सतह के आकार निर्धारण में ज्वालामुखी सक्रियता की भूमिका है। नासा के मेजैलेन अंतरिक्ष यान (1990-1994) द्वारा लिए गए शुक्र ग्रह की सतह के चित्रों के विश्लेषण से पता लगता है कि इसकी अधिकतर सतह ज्वालामुखी पदार्थों से बनी है। इसके अलावा मंगल, बृहस्पति, वरुण और शनि ग्रह पर भी ज्वालामुखी के संकेत मिले हैं।

वायुमंडल का निर्माण

पृथ्वी की सतह का 80 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सा ज्वालामुखियों के फटने का नतीजा है। माना जाता है कि ज्वालामुखी से निकली गैसों से वायुमंडल की रचना हुई।

दुनिया भर में अभी 500 से ज्यादा सक्रिय ज्वालामुखी हैं, इनमें से आधे से ज्यादा ‘रिंग ऑफ फायर‘ का हिस्सा हैं। यह प्रशांत महासागर के चारों ओर हार जैसा है, इसलिए इसे ‘रिंग ऑफ फायर’ कहते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

15,988FansLike
0FollowersFollow
110FollowersFollow
- Advertisement -

MOST POPULAR

RSS18
Follow by Email
Facebook0
X (Twitter)21
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram20
WhatsApp