इस भारतीय म्यूजिक कंपोजर ने अब तक नहीं की शादी

लता मंगेशकर भारत की एक सबसे प्रसिद्ध, बेहतरीन और सम्मानित प्लेबैक सिंगर और म्यूजिक कंपोजर है। उनका छ: दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में  सबसे ज्यादा गाने गाए जाने के लिए दर्ज है। आइए जानते है उनके जीवन के बारे में कुछ बातें:

  • लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929 को मध्य प्रदेश के इंदौर में हुआ था। इनके पिता दीनानाथ मंगेशकर, प्रतिभाशाली शास्त्रीय गायक और थिएटर अभिनेता थे, और माँ शुधमती थी, जो कि माई के नाम से भी जानी जाती थी।
  • लता जी अपने माता-पिता की पहली संतान है। इसके साथ ही मीना, आशा भोंसले , उषा और हृदयनाथ उनके भाई-बहन है।
  • लता जी ने केवल 5 साल की उम्र में अपने पिता के मराठी संगीत नाट्य में कार्य किया।
  • जब वह 13 साल की थी, तब 1942 में उनके पिता की हृदय रोग के कारण मृत्यु हो गई थीं और सबसे बड़े होने के कारण, परिवार की वित्तीय जिम्मेदारी लता के कंधों पर आ गई थी।
  • उनको शुरुआती दौर में काफी सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। लता जी ने सन 1942 से 1948 तक 6 मराठी फिल्मों में अभिनय किया और अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को सुधारा।

  • 1942 में मराठी फिल्म “किती हासल” में लता ने पहली बार गाना गाया।
  • लता जी लगभग 20 भाषाओं में 50,000 से अधिक गीत गाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकी है। इसके लिए उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है।
  • लता मंगेशकर कभी शादी नहीं कर पाई हैं और अपने निजी जीवन को एक गुप्त रूप से संरक्षित रखती है। वह कहती है दरअसल घर के सभी सदस्यों की ज़िम्मेदारी मुझ पर थी। ऐसे में कई बार शादी का ख़्याल आता भी तो उस पर अमल नहीं कर सकती थी।
  • अपने भाइयों के बीच सबसे बड़ी बहन के रूप में, उसने हमेशा अपनी छोटी बहनों और भाई के साथ घनिष्ठ संबंध बनाए रखा है।
  • लता जी को संगीत के अलावा खाना पकाने और फोटो खींचने का बहुत शौक़ है। खाना पकाने, पढ़ने, फोटोग्राफी और क्रिकेट के लिए उनका प्यार अच्छी तरह से जाना जाता है।
  • अभी भी गाने की रिकॉर्डिंग के लिये जाने से पहले लता मंगेशकर कमरे के बाहर अपनी चप्पलें उतारती हैं। वे हमेशा नंगे पाँव गाना गाती हैं।
  • संगीत के क्षेत्र में अपनी शानदार उपलब्धियों के लिए उन्हें अनेक राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त हो चुके है। जैसेकि:-

(फिल्म फेर पुरस्कार 1958, 1962, 1965, 1969, 1993 and 1994), (राष्ट्रीय पुरस्कार 1972, 1975 and 1990), (महाराष्ट्र सरकार पुरस्कार 1966 and 1967),  (1969 – पद्म भूषण), (1974 – दुनिया में सबसे अधिक गीत गाने का गिनीज़ बुक रिकॉर्ड), (1989 – दादा साहब फाल्के पुरस्कार), (1993 – फिल्म फेर का लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार), (1996 – स्क्रीन का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार), (1997 – राजीव गान्धी पुरस्कार), (1999 – एन.टी.आर. पुरस्कार, पद्म विभूषण, ज़ी सिने का का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार), (2000 – आई. आई. ए. एफ. का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार), (2001 – स्टारडस्ट का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार,  भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न”, नूरजहाँ पुरस्कार, महाराष्ट्र भूषण)।

read more :

पुणे में बना दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गुंबद

नवीनतम