Wednesday, June 5, 2024
32.2 C
Chandigarh

अयोध्या के 5 प्रसिद्ध मंदिर, यदि घूमने जा रहे हैं तो इन मंदिरों में भी टेकें माथा!

अयोध्या भगवान राम का जन्मस्थान है। त्रेता युग ले लेकर अब तक अयोध्या अपनी ऐतिहासिक और पौराणिक कहानियों, सुंदर मंदिरों, हिंदू महाकाव्य रामायण और विष्णु से जुड़ी किंवदंतियों के लिए प्रसिद्ध है। आध्यात्मिक महत्व का शहर होने के नाते, अयोध्या में घूमने के लिए बहुत सारे सुंदर और प्रसिद्ध मंदिर हैं जो शहर की धार्मिक और सांस्कृतिक विरासत को समृद्ध करने में अपना योगदान देते हैं।

यदि आप अयोध्या घूमने का मन बना रहे हैं तो इन मंदिरों को अपने टूर प्रोग्राम का हिस्सा बना सकते हैं।  तो आईये जानते हैं इन प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जो अयोध्या आने पर आपके स्वागत के लिए तैयार हैं।

राम मंदिर अयोध्या

हिन्दू मान्यता के अनुसार त्रेता युग में भगवान विष्णु के सातवें अवतार श्रीराम के रूप ने अयोध्या में राजा दशरथ के पुत्र के रूप में जन्म लिया। श्रीराम अपना बचपन अयोध्या में सरयू नदी के पास बिताया था। भगवान श्रीराम को मर्यादा पुरूषोतम भी कहा जाता है जिनके राज में बाघ और बकरी एक घाट पर पानी पीते थे। इसके मतलब यह भी है कि हर कोई अपनी मर्यादा में रहता था क्योंकि भगवान राम स्वयं मर्यादा पुरूषोतम थे जिन्होंने अपने पिता के वचन के लिए १४ वर्ष वनवास सहर्ष स्वीकार कर लिया। वहीं पत्नी सीता को इसलिए त्याग दिया क्योंकि अयोध्या के एक आम नागरिक ने देवी सीता के चरित्र पर उँगली उठाई थी।

ram jambhoomi ayodhya

राम जन्मभूमि स्थल 500 सालों तक विवादों में रहा। माना जाता है मुगल बादशाह बाबर के सेनापति मीर बाँकी ने सन १५२८ में तत्कालीन राम मंदिर को ध्वस्त करके वहाँ पर बाबरी मस्जिद का निर्माण करवा दिया था।  तब से लेकर विभिन्न हिंदू और राष्ट्रवादी संगठनों ने राम मंदिर को पुन: स्थापित करने के लिए दशकों तक संघर्ष किया। अंतत: अक्टूबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर बनाने के लिए जमीन को ट्रस्ट को सौंपने का आदेश दिया।

२२ जनवरी २०२४ को भव्य राम मंदिर में भगवान राम के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा के साथ ही यह मंदिर आगंतुको के लिए खुल गया। निर्माण की नागर शैली मैं बना यह मंदिर अपने आप में अनूठा है जिसकी विश्व भर में कोई मिसाल नहीं है। माना जा रहा है कि आस्था प्रेरित पर्यटन के लिहाज़ से यह मंदिर विश्व में नम्बर एक स्थान पर क़ाबिज़ होने वाला है, इसमें जरा भी संदेह नहीं है।

हनुमान गढ़ी

हनुमान गढ़ी, 10वीं शताब्दी में बना एक मंदिर है और साईं नगर के पास स्थित है। यह मंदिर भगवान हनुमान जी को समर्पित है। अयोध्या में राम मंदिर जाने से पहले हनुमान गढ़ी जाना आम बात है, जो इसे शहर के सबसे प्रमुख मंदिरों में से एक बनाता है। किंवदंती के अनुसार, भगवान हनुमान मंदिर के मैदान में रहते थे और दूर से अयोध्या पर नजर रखते थे।

Hanumangarhi temple ayodhya

पहाड़ी पर स्थित मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार तक 76 सीढ़ियाँ बनी हुई हैं। मंदिर परिसर की एक आंतरिक गुफा में भगवान हनुमान और उनकी मां अंजनी की अनगिनत मूर्तियां हैं। हर साल, सैकड़ों भक्त भगवान हनुमान और भगवान राम के जन्म का जश्न मनाने के लिए हनुमान गढ़ी जाते हैं।

नागेश्वरनाथ मंदिर

अयोध्या में नागेश्वरनाथ मंदिर थेरी बाज़ार के ठीक बगल में है। यह मंदिर क्षेत्र के संरक्षक देवता भगवान नागेश्वरनाथ को समर्पित है।

Nageshwarnath Temple

पौराणिक कथा के अनुसार, इस मंदिर का निर्माण भगवान राम के छोटे बेटे कुश ने करवाया था, जो महाकाव्य रामायण के एक महत्वपूर्ण पात्र थे।

एक बार कुशा ने सरयू नदी में स्नान करते समय अपना ताबीज खो दिया और उसे खोजने की बहुत कोशिश की लेकिन उसके सभी प्रयास विफल रहे।

लेकिन वह ताबीज वास्तव में एक नाग कन्या ने उठाया था जो उस पर मोहित हो गई थी। जब उसने युवा योद्धा को ताबीज लौटाया, तो उसने उसकी सराहना और प्रशंसा जीत ली। क्योंकि नाग कन्या भगवान शिव की प्रबल अनुयायी थी, कुश ने उसकी याद में अयोध्या में नागेश्वर मंदिर बनवाया था।

कनक भवन मंदिर

कनक भवन अयोध्या में राम जन्मभूमि, रामकोट के उत्तर-पूर्व में है। कनक भवन अयोध्या के सबसे बेहतरीन और प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि यह भवन भगवान श्री राम से विवाह के तुरंत बाद रानी कैकेयी ने देवी सीता को उपहार में दिया था।

कनक भवन मंदिर अब भगवान राम और सीता के भक्तों के लिए सबसे अच्छे आकर्षणों में से एक है। यह स्थान भक्तों के बीच काफी प्रसिद्ध है। इस मंदिर में हर महीने भारी संख्या में श्रद्धालु आते हैं।

kanak-bhawan-temple

सुमतिनाथ मंदिर

अयोध्या को न केवल हिंदू बल्कि जैन समुदाय भी तीर्थ के रूप में मानता है। यह मंदिर प्रसिद्ध जैन तीर्थक सुमतिनाथ को समर्पित है। सुमतिनाथ वर्तमान युग (अवसर्पिणी) के पांचवें जैन तीर्थंकर थे। कहा जाता है कि फैजाबाद के नवाब के कोषाध्यक्ष केसरी सिंह ने यहां कुछ जैन तीर्थंकरों के जन्मस्थान की स्मृति में इस मंदिर का निर्माण कराया था। यह जैन समुदाय के लिए अयोध्या में घूमने के लिए सबसे पवित्र स्थानों में से एक है।

 

Sumatinath Temple

राम की पैड़ी

राम की पैड़ी सरयू नदी के तट पर घाटों की एक श्रृंखला है। नदी का किनारा विशेष रूप से रोशनी वाली रात में एक उत्कृष्ट परिदृश्य प्रस्तुत करता है। ऐसा कहा जाता है कि ये भक्तों के लिए मंच के रूप में काम करते हैं, जो नदी में डुबकी लगाकर अपने पाप धोने आते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

15,988FansLike
0FollowersFollow
110FollowersFollow
- Advertisement -

MOST POPULAR

RSS18
Follow by Email
Facebook0
X (Twitter)21
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram20
WhatsApp