ये हैं 90 के दशक में दूरदर्शन पर आने वाले मशहूर सीरियल, जिन्हें देखने के लिए लोग अपना काम तक छोड़ देते थे

1405

भारतीय टेलीविज़न का इतिहास बहुत पुराना है। हमारे देश में एक दौर ऐसा भी था, जब घर की छत पर लगा एंटीना प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता था। जब घर में रखे टेलीविज़न के आसपास एक पूरा परिवार साथ बैठकर कुछ हल्के-फुल्के कार्यक्रमों से अपना मनोरंजन करता था। उस दौर में दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले पांच भारतीय टीवी सीरियल ऐसे हैं, जो बहुत मशहूर थे जिन्हें देखने के लिए लोग अपना काम तक छोड़ देते थे। तो चलिए जानते हैं :-

शक्तिमान

शक्तिमान उस दौर का ऐसा शो था जिसने सबसे ज़्यादा बच्चों को अपना दीवाना बनाया। अभिनेता मुकेश खन्ना के जीवंत अभिनय ने इस किरदार को अमर कर दिया।

शो के खत्म होने के बाद छोटी-छोटी मगर मोटी बातें खूब पसंद किया जाता था। शक्तिमान को भारत का पहला सुपरहीरो भी कहा जाता था। यह एक खास तरह से हाथ घुमाकर आसमान में उड़ जाया करता था।

चंद्रकांता

1994 में शुरू किए गए इस शो में विजयगढ़ की राजकुमारी चंद्रकांता और नौगढ़ के राजकुमार वीरेंद्र सिंह की कहानी को काफी कलात्मक ढंग से दिखाया गया था। इस सीरियल में क्रूर सिंह का अभिनय करने वाले अखिलेश मिश्र को तो बाद में बॉलीवुड ने हाथों-हाथ लिया।

उन्होंने 100 से अधिक फिल्मों का काम किया प्रकाश झा कि फिल्मों अपहरण, राजनीति आदि में उनके किरदार बहुत सराहा भी गया। एक और सितारा इस सीरियल में था, जो अब लोगों का चहेता बना हुआ है, उसका नाम है इरफान खान। लोगों को सीरियल देखने के लिए बड़ी बेसब्री से रविवार की सुबह का इंतजार रहता था।

चित्रहार

चित्रहार दुनिया में टेलीविजन इतिहास का यह सबसे लंबा प्रसारित होने वाला प्रोग्राम था। यह सन् 1960 के दशक में शुरू हुआ था और 1970 के दशक तक आते-आते लोकप्रियता के चरम पर पहुंच गया। हर शुक्रवार को प्राइम टाइम में तकरीबन 30 मिनिट तक चलने वाले इस कार्यक्रम में बॉलीवुड के नये पुराने गीत बजाए जाते थे।

एक दौर में जबकि भारत में रेडियो अपनी लोकप्रियता के चरम पर था तब गीतों को उनके ऑडियो सहित वीडियो फॉर्म में सिनेमा के अलावा टीवी पर देखना नया अनुभव था। चित्रहार आज भी चल रहा है।

रामायण

रामानंद सागर की प्रस्तुति रामायण देश का पहला टीवी धारावाहिक था। रामायण के कुछ-कुछ एपिसोड इतने मार्मिक हैं कि लोग देखने के घंटे-घंटे भर बाद तक आंसू बहाते रहे।

भारत के लोकप्रिय टीवी धारावाहिकों के बारे में जब कभी लिखा-पढ़ा जाएगा तुलसीदास लिखित रामचरित मानस का टीवी रूपांतर प्रस्तुतिकरण ‘रामायण‘ नाम पहली पंक्ति में आएगा। इसका प्रभाव इतना गहरा था कि इस टीवी सीरियल के पोस्टर को लोग अपने घरों में लगाकर पूजा करने लगे थे।

यह भी पढ़ें :-वाल्मीकि जयंती : जानिए महर्षि वाल्मीकि के जीवन से जुड़ी कुछ रोचक बातें

महाभारत

रामायण की तरह ही दूरदर्शन पर महाभारत सीरियल ने भी जमकर धूम मचाई। इस सीरियल का सबसे खास हिस्सा ‘मैं समय हूं’ था। महाभारत में पांडव और कौरवों के बीच युद्ध को दिखाया गया था। लोगों ने केवल चंद पन्‍नों में दर्ज अपनी आस्‍था की किताब और उसके महाविशाल कथानक को पहली बार टीवी नाम के डिब्‍बे में देखा।

यह भी पढ़ें :-