हर शुभ काम की शुरुआत होती है इन पंचदेवों की पूजा के साथ, इन्हीं में शामिल हैं दुर्गा मां भी

283

आश्विन मास की नवरात्रि 26 सितंबर से शुरू हो रही है। कभी-कभी तिथियों की भिन्नता के कारण नवरात्रि आठ दिनों तक चलती है, लेकिन इस बार नवरात्रि पूरे नौ दिनों की होगी और महानवमी 4 अक्टूबर को है। इन नौ दिनों में मां दुर्गा की पूजा की जाएगी।

नवरात्रि और देवी दुर्गा के बारे में जानने के लिए उज्जैन के ज्योतिषी पं. मनीष शर्मा बताते हैं कि ‘पंचदेवों का उल्लेख शास्त्रों में किया गया है, इन पंचदेवों में गणेश जी, शिव जी, विष्णु जी, सूर्य देव और देवी दुर्गा शामिल हैं।

किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत इन पांच देवताओं की पूजा से होती है। ऐसी मान्यता है कि इन पूजाओं को करने से कठिन से कठिन कार्य भी बिना किसी रुकावट के पूरे हो जाते हैं और यदि कोई बाधा हो तो उसका सामना करने का साहस हमें मिलता है।

नवरात्रि में दुर्गा जी से पहले करनी चाहिए गणेश पूजा

गणेश जी प्रथम पूज्य देवता हैं और शिव जी ने उन्हें यह वरदान दिया था। इसलिए किसी भी देवता की पूजा से पहले गणेश पूजा की जाती है। नवरात्रि भले ही दुर्गा भक्ति का पर्व है, लेकिन दुर्गा पूजा से पहले गणेश पूजा जरूर कर लेनी चाहिए। अन्यथा पूजा अधूरी मानी जाती है।

माँ दुर्गा की पूजा में आप इन मंत्रों का जाप कर सकते हैं

दुर्गा मां को लाल फूल, लाल वस्त्र आदि अर्पित करें। मिठाई, चावल, नारियल अर्पित करें। धूप-दीप जलाएं, आरती करें। आप देवी मां के दू दुर्गायै नमः मंत्र का जाप कर सकते हैं। आप चाहें तो इस मंत्र का जाप भी कर सकते हैं-

सर्वमंगल मंगलये शिवसरार्थ साधिके।

शरयेत्रयंबके गौरी नारायणी नमस्ते।

इस मंत्र का जाप कम से कम 108 बार करना चाहिए। जाप के बाद पूजा में हुई गलतियों के लिए देवी मां से क्षमा मांगनी चाहिए।

नवरात्रि में देवी मंदिरों के दर्शन करें

नवरात्रि में देवी मां के शक्तिपीठों के दर्शन करने की परंपरा है। देवी मां के कुल 51 शक्तिपीठ हैं। हमें अपने समय और क्षमता के अनुसार नवरात्रि के दौरान देवी मंदिरों में जाना चाहिए।

यदि आप लंबे समय तक यात्रा नहीं कर सकते हैं, तो आप अपने शहर के आसपास के शक्तिपीठ में देवी मां के दर्शन कर सकते हैं। यदि शहर के पास कोई शक्तिपीठ नहीं है तो कोई अन्य देवी मंदिर जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-