भाई दूज पर तिलक करते समय इस दिशा में होना चाहिए भाई का मुंह, बहनें भी रखें इन बातों का ध्यान

592

भाई दूज का पर्व कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस साल भाई दूज का पर्व 26 अक्टूबर 2022 को मनाया जाएगा। रक्षाबंधन की तरह यह पर्व भी हर भाई-बहन के लिए बेहद खास है।

इस त्यौहार को भाई दूज, भाई टीका और यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। हर साल भाई दूज दिवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है। कहा जाता है कि भाई दूज के दिन तिलक लगाने से भाई को लंबी उम्र के साथ सुख-समृद्धि का आशीर्वाद मिलता है।

मान्यताओं के अनुसार बहनों को भाई का तिलक करते समय शुभ मुहूर्त के अलावा कुछ अन्य नियमों का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं इन नियमों के बारे में…

तिलक लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान

भाई दूज के दिन बहन रोली का तिलक लगाकर अपने भाई की पूजा करती है, लेकिन तिलक लगाते समय दिशा का ध्यान रखना चाहिए।

वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार तिलक करते समय भाई का मुख या तो उत्तर या उत्तर-पश्चिम दिशा में होना चाहिए और बहन का मुख उत्तर-पूर्व या पूर्व में होना चाहिए। साथ ही भाई दूज के दिन बहन को अपने भाई का तिलक करने से पहले कुछ भी खाना-पीना नहीं चाहिए।

भाई दूज पर ऐसे करें तिलक

भाई दूज के दिन सबसे पहले आटे की लोई बना लें। इसके बाद चौकोर पर लकड़ी की एक डंडी रख दें और उस पर भाई को बिठा दें। ध्यान रहे कि भाई का मुख पूर्व दिशा की ओर हो।

फिर भाई के माथे पर तिलक करें। तिलक लगाने के बाद भाई के हाथ पर कलावा बांधें। इसके बाद दीप जलाकर भाई की आरती करें और उनकी लंबी आयु की कामना करें।

बहन-भाई को भूल कर भी न करें ये गलतियां

  • भाई दूज के दिन बहन और भाई को आपस में बहस या झगड़ा नहीं करना चाहिए।
  • बहन को भाई से मिले उपहार का अनादर नहीं करना चाहिए।
  • भाई दूज के दिन बहन को भाई का तिलक करने से पहले कुछ भी खाना-पीना नहीं चाहिए।
  • इस दिन भूलकर भी बहन और भाई को एक दूसरे से झूठ नहीं बोलना चाहिए।
  • भाइयों को तिलक लगाते समय बहनों को इस दिन भी काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए।