त्रिपुरा में बसी है खूबसूरत “डमबूर झील”

1171

त्रिपुरा एक बेहद शांत और खूबसूरत स्थान है। यहां घने जंगल, कई खूबसूरत महल, प्राचीन मंदिर और बौद्ध मठ के साथ-साथ कई झीलें भी मौजूद हैं, जिनकी सुंदरता को देखकर सभी प्राकृतिक सौंदर्य से मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। इन्हीं में से एक है “डमबूर झील” जो बेहद खूबसूरत है ।

आज हम आपको त्रिपुरा की सबसे खूबसूरत झीलों में से एक “डमबूर झील” के बारे में बताने जा रहे हैं। तो चलिए जानते हैं इस झील के बारे में :-

डमबूर झील अमरपुर में स्थित है

डमबूर झील त्रिपुरा की राजधानी अगरतला से लगभग 120 किलोमीटर दूर अमरपुर सब डिवीजन में स्थित है।

- Advertisement -

डमरू के आकार की है ये झील

इसका आकार डमरू की तरह है और इसलिए इसे भगवान शिव के डमरू के नाम पर डमबूर झील का नाम दिया गया है।

यह 41 वर्ग किमी में फैली है

लगभग 41 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैली इस झील की सुंदरता बेमिसाल है। प्रकृति प्रेमियों के लिए यह जगह किसी स्वर्ग से कम नहीं है। यह झील खूबसूरत पहाड़ियों से घिरी हुई है। इस झील में 48 छोटे द्वीप भी हैं।

दो नदियों का संगम

यह झील पर्यटकों के लिए आकर्षण का मुख्य केंद्र है। यह स्थान दो नदियों ‘राइमा और साइमा’ का संगम भी है। गोमती नदी इस झील के पास से निकलती है, जो कई जिलों से होकर गुजरती है और बांग्लादेश में मेघना नदी में मिलती है।

झील के पास एक हाइडल प्रोजेक्ट मौजूद है

इस स्थान पर एक हाइडल प्रोजेक्ट भी है, जिसे गोमती हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट के रूप में जाना जाता है।

हर साल मेले का आयोजन

गोमती नदी के उद्गम को तीर्थमुख के नाम से भी जाना जाता है। यहां हर साल 14 जनवरी को पौष संक्रांति मेला आयोजित किया जाता है, जो काफी प्रसिद्ध है।

गोमती वाइल्डलाइफ सेंचुरी

गोमती वाइल्डलाइफ सेंचुरी भी झील के पास स्थित है, जहां आप कई तरह के जानवरों और पक्षियों को देख सकते हैं।  इस झील में आपको हाथी, हिरण, सांभर बाइसन सहित कई अन्य जंगली जानवर आसानी से देखने को मिल जाएंगे।

जंगली जानवरों के अलावा यहां आप प्रवासी पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों को देख सकते हैं, जो ज्यादातर सर्दी के मौसम में दिखाई देते हैं।

यह भी पढ़ें :-