महिलाओं की चोटी काटने की घटनाओं से सहमा दिल्ली-एनसीआर

राजधानी दिल्ली के एक गाँव और इसके आसपास के इलाकों में इन दिनों एक अजीब सी दहशत का माहौल है. छावला के एक गांव में एक ही दिन में तीन महिलाओं की रहस्यमय तरीके से चोटी काटने की घटनाओं ने इलाके में खौफ पैदा कर दिया है. खौफ इस कदर है कि गांव की लड़कियों ने स्कूल जाना तक बंद कर दिया है.

महिलाओं की चोटी काटने की घटनाख़बरों के मुताबिक छावला के कांगनहेड़ी गांव की रहने वाली मुनेश खेत में ज्वार काटने गई थीं। उनके सिर में तेज दर्द हुआ और वह वापस अपने घर आ गईं। वह चक्कर आने की हालत में चारपाई पर लेट गईं। जब उनकी नींद खुली तो देखा कि फर्श पर बालों का गुच्छा पड़ा है।

रविवार रात गांव में दूसरी घटना हो गई। यहां की श्रीदेवी ने बताया कि वह प्लॉट पर काम कर रही थीं। उनके सिर में तेज दर्द हुआ। वह घर में आकर बिना किसी को बताए बिस्तर पर लेट गईं। जब नींद खुली तो उनकी चोटी भी फर्श पर पड़ी मिली।

हरियाणा के मेवात, गुड़गांव और झज्जर जिले के बाद अब दिल्ली में भी चोटी काटने की घटनाओं से लोगों की नींद उड़ी हुई है. कांगनहेड़ी गांव के कुछ लोग इसे चोटी काटने वाला ‘शैतान’ बता रहे हैं, तो कुछ इसे अनदेखी या भुतहा शक्तियों से जोड़कर देख रहे हैं.

गांव में एक के बाद एक हुई तीन चोटी काटने की घटनाओं से ग्रामीण सहमे हुए हैं और पुलिस और प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहे हैं.

यह भी पढ़ें:
गुडगाँव की 7 डरावनी और सच्ची भुतहा घटनाएं!

Comments