क्या हम अपने दिमाग का 1-2% प्रतिशत ही इस्तेमाल करते हैं?

बहुत सारी क्रांतिकारी खोजों के लिए प्रसिद्ध साइंटिस्ट अल्बर्ट आइंस्टीन ने अपने दिमाग का 13 प्रतिशत उपयोग किया था जबकि सामान्य व्यक्ति सिर्फ 1-2 प्रतिशत का उपयोग कर सकता है।

यह वास्तव में एक बहुत प्रसिद्ध मिथक है जो 19वीं शताब्दी के शुरू में पैदा हुआ था। सच्चाई यह है कि मनुष्य केवल 10% मस्तिष्क का उपयोग नहीं करते हैं. मस्तिष्क वास्तव में हमेशा सक्रिय रहता है और मनुष्य अपने ज्ञान, अनुभव, क्षमता और विवेक के साथ पूरा का पूरा इस्तेमाल करता है.

जानिए कैसे दूसरों से अलग था अल्बर्ट आइंस्टीन का दिमाग

10% के मिथक की बात वैज्ञानिक कार्ल लैशली के अध्ययन के दौरान उत्पन्न हुई, जब वे मस्तिष्क में मेमोरी इग्राम पर शोध कर रहे थे। उन्होंने एक भूलभुलैया पर चलाने के लिए चूहों को प्रशिक्षित और उनकी दिमागी गतिविधिओं को नोट किया.

मानव के दिमाग के बारे में अदभुत तथ्य

यह गलत धारणा तब बनी जब हार्वर्ड विश्वविद्यालय के दो मनोवैज्ञानिक विलियम जेम्स और बोरिस सिडिस एक बहुत ही उच्च बुद्धि IQ वाले बालक विलियन सिडिस नामक एक के बच्चे का अध्ययन कर रहे थे जिसका IQ व्यस्क होने पर 250-300 था.  इस शोध के दौरान इन मनोवैज्ञानिकों ने कहा कि लोग अपनी मानसिक क्षमता का केवल कुछ भाग ही उपयोग करते हैं। उनकी यह स्टेटमेंट समय के साथ-2 मिथक के रूप में प्रसिद्ध हो गयी।

वास्तव में, यह साबित हो चुका है कि मनुष्य अपने दैनिक जीवन के विभिन्न कार्यों के लिए अपने दिमाग के सभी भागों का उपयोग करते हैं।

Comments