जानिये आप में से किस पर होगी धन की बारिश महाशिवरात्रि पर

18434

महाशिवरात्रि हिन्दुओं का प्रमुख त्यौहार है. यह भगवान शिव और माँ गौरी के विवाह का दिन है. इस दिन भगवान शिव और पार्वती की विशेष पूजा अर्चना की जाती है. इस साल 2020  में महाशिवरात्रि 21 फरवरी को है.

महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त:
महाशिवरात्रि की तिथि: 21 फरवरी 2020
चतुर्थी तिथि प्रारंभ: 21 फरवरी 2020 को शाम 5 बजकर 20 मिनट से
चतुर्थी तिथि समाप्‍त:  22 फरवरी 2020 को शाम 7 बजकर 2 मिनट तक

यह पर्व फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है. यह पर्व महादेव शिव और देवी पार्वती के विवाह की वर्षगांठ के रूप में मनाया जाता है. ऐसी भी मान्यता है की इस दिन ही पहला शिवलिंग प्रकट हुआ था. इस दिन ही भगवान् शिव ने ‘कालकूट’ नाम के विष को अपने कंठ में रख लिया था जो कि समुद्र मंथन के समय बाहर आया.

वैसे तो हर महीने त्रयोदशी/चतुर्दशी को शिवरात्रि होती है. यानि साल में कुल 12 शिवरात्रि होती है लेकिन फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी यानी महाशिवरात्रि को सबसे महत्वपूर्ण माना गया है.

इस बार है खास

इस बार शिवरात्रि पर दुर्लभ संयोग बन रहा है। इस साल महाशिवरात्रि सोमवार को है। सोमवार का स्वामी चन्द्रमा है। ज्योतिष शास्त्र में चन्द्रमा को सोम कहा गया है। और भगवान् शिव को सोमनाथ। अतः सोमवार को शिवरात्रि का होना बहुत ही शुभ माना गया है। सोमवार को शिवजी की पूजा करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं।

इस दिन अगर भोलेबाबा और माँ पार्वती की सच्चे मन से भक्ति की जाए तो वो अपने भक्तों की सारी मनोकामना पूरी करते है. मंदिरों में इस दिन बेल पत्र,दूध, दही,जल,फलाहार आदि चढ़ाये जाते है.

किस राशि के लिए है खास

चूंकि इस बार महाशिवरात्रि पर खास योग बन रहे हैं. यह सभी राशि वालों के लिए अत्यंत लाभकारी है. सच्चे मन से व्रत करने पर और जल, विल्वपत्र मात्र से ही पूजा करने पर भगवान शिव प्रसन्न होंगे, ऐसा ज्योतिष के जानकारों का मानना है. साथ ही गरीबों को भोजन कराने और जिनके विवाह नहीं हो रहा उनका विवाह का प्रयत्न करवाने मात्र से ही अभीष्ट फल सिद्धि का भी योग है.

यह भी पढ़ें: