Home लाइफ क्या सोशल मीडिया हमें बीमार बना रहा है?

क्या सोशल मीडिया हमें बीमार बना रहा है?

क्या सोशल मीडिया साइटस जैसे फेसबुक, ट्विटर और अन्य किसी न किसी रूप में हमें नशे की लत की तरह आदी बना रही हैं? क्या ये स्वास्थ्य की दृष्टि से और भी गंभीर, शारीरिक और मानसिक व्याधियां पैदा कर रही हैं. सोशल नेटवर्किंग हालांकि, दुनिया भर में नए और पुराने दोस्तों को खोजने में योगदान कर तो रही हैं, लेकिन, हमारे सामाजिक कौशल की कीमत पर. यहाँ हम चर्चा करेंगे कि सामाजिक संबंधों के सन्दर्भ में सोशल मीडिया साइटस कैसे हमें प्रभावित कर रही हैं.

1सोशल मीडिया एक तरह की लत है.

अध्ययन में पाया गया है कि अमेरिका के 63% लोग फेसबुक को लोग-इन करते हैं और 40% अमेरिकी दिन में दो बार फेसबुक को खोलते हैं. इसके पीछे बहुत से कारण हो सकते हैं लेकिन सबसे साधारण कारण यही होता है कि वह सिर्फ इसीलिए फेसबुक खोलते हैं कि उनकी फोटो पर कितने लाइक और कमेंट किये गये. जो अपने आप में एक उभा देने वाली बात है. भारत में 143 मिलियन लोग सोशल मीडिया प्रयोग करते हैं और यह संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है.

[source amazonaws=http://s3.amazonaws.com/theoatmeal-img/quizzes/headers/9.jpg]

यह भी पढ़ें: भारत का स्विट्जरलैंड – कोडाइकनाल

2सोशल मीडिया हमें दूसरों से तुलना करने में विवश कर देता है.

सोशल मीडिया पर की गई पोस्टें हमें बता देती हैं कि इस समय दूसरे लोग क्या कर रहे हैं. हमें पता चल जाता है कि चीजें कैसे काम कर रही हैं. अगर सभी लोगों की पोस्ट सोशल मीडिया पर अच्छी आ रही हैं और आपका दिन बहुत बुरा गुजरा है तो यह आप पर नेगेटिव सोशल मीडिया आपके ऊपर बुरा असर डाल सकता है.
[source dailymail=http://i.dailymail.co.uk/i/pix/2009/08/07/article-1205018-01EC2DA9000004B0-955_468x312.jpg]

3सोशल मीडिया हमें बेचैन करता है

जैसे कि हम ऊपर बता चुके हैं कि ज्यादातर लोगों का मानना है कि बिना सोशल मीडिया के हमसे आराम नहीं होता. जिससे उनको एक तरह की बेचैनी सी होने लगती है और लोगों को कभी कभी गुस्सा भी आ जाता है. उनको लगता है कि सोशल मीडिया पर आने से थकान दूर हो जाती है.

यह भी पढ़ें: महासागरों के 4 सबसे खतरनाक हिस्से जो आपकी जान भी ले सकते हैं

4सोशल मीडिया साइबर हमले को भी जन्म देता है

साइबर हमला विशेष तौर पर किशोरों के लिए एक बहुत बड़ा चिंता का विषय है. एक संगठन ने अपने अध्ययन में पाया है कि 95% किशोर जो हर रोज सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं को किसी न किसी साइबर धमकी का सामना करना पड़ता है और 33% किशोर साइबर हमले का शिकार भी हो चुके हैं.

5सोशल मीडिया नशों और शराब को प्रोत्साहित करती हैं

 

एक अध्ययन में पाया गया है कि 12 से 17 वर्ष की आयु के किशोर जो हर रोज सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं इन बच्चों में 70% बच्चों में तम्बाकू सेवन करने की इच्छा कई गुना ज्यादा होती है और शराब पीने की इच्छा में तीन गुना की बढोतरी होती है. इनमें मारिजुआना या चरस का नशा करने में 2 गुना की बढ़ोतरी होती है.

यह भी पढ़ें: भारत की अजीबोगरीब परंपराएँ

6सोशल मीडिया हमें उदास कर सकता है

मिशिगन विश्वविद्यालय की टीम ने अध्ययन किया है किस तरह सोशल मीडिया लोगों की मनोदशा पर प्रभाव डालता है. नतीजों में पाया गया कि जितना लोग सोशल मीडिया का अधिक इस्तेमाल करेंगे उतना वह अधिक उदास रहने लगेंगे. लम्बे समय तक सोशल मीडिया के इस्तेमाल से वह अपनी जिन्दगी से संतुष्ट नही हो पाएंगे.

7सोशल मीडिया के ज्यादा इस्तेमाल पर आप अपने आपको बेकार समझने लगेंगे

इसका अर्थ यह है कि सोशल मीडिया पर आपके चहेते अपने बारे में, उन्होंने कितने मजे किये और वो क्या-2 कर रहे हैं, को बार-2 डालते हैं जिससे आपकी कंडीशन फोमो जैसी हो जाएगी. आपको ऐसा लगने लगेगा कि आपके चहेते आपके बिना बहुत अच्छी जिंदगी बिता रहे हैं और आप अपने आप को बेकार समझने लगेंगे.

यह भी पढ़ें: प्रेरक महिलाएँ जिन्होंने देश को गौरवान्वित किया

8सोशल मीडिया आपको अक्सर मल्टीटास्किंग की ओर ले जाता है

सोशल मीडिया आपको कई बार मल्टीटास्किंग करने को विवश कर देता है. जैसे कि पहले आप फेसबुक का पेज खोलोगे फिर बाद में आप उसके साथ अपना कोई काम का जरूरी पेज खोलोगे. तो एक समय में आप कभी फेसबुक को खोलोगे और दूसरे समय में आप अपने काम करने का पेज जिससे आप अपना फोकस किसी एक पेज पर नही रख पाओगे.

9सोशल मीडिया हमारी कनेक्टिविटी को बढ़ा देता है

सोशल मीडिया हमें अपनी असली दुनिया में नहीं आने देता. सोशल मीडिया रिश्तों को पुनर्जीवित और संभाल के रखने में हमें सहायता करता है. ब्रिटिश साइकोलॉजी सोसाइटी ने एक अध्ययन में पाया है कि कम आत्म-सम्मान वाले लोग, सोशल मीडिया का इस्तेमाल रिश्तों को बनाने में करते हैं.

यह भी पढ़ें: भारत की शीर्ष 10 प्रभावशाली महिलाएं

10सोशल मीडिया सामाजिकरण में मदद कर सकता है

एक अध्ययन में पाया गया है कि शर्माने वाले लोग कंप्यूटर की स्क्रीन के पीछे बैठकर अपनी सोशल जिन्दगी जीते हैं. इस अध्ययन में एक अच्छी बात भी पाई गई है कि जो लोग मीडिया का सहारा लेते हैं वो दूसरों से हमदर्दी भी सोशल मीडिया पर अच्छी तरह से दिखा सकते हैं.

यह भी पढ़ें: भारत में इन 8 जगहों पर आप छू सकते हैं बादलों को