कम वसा वाले 10 भोजन

शरीर का वजन भोजन से प्राप्त होने वाली कैलोरी और वसा की मात्रा पर निर्भर करता है। यदि खाने में कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों को शामिल कर लिया जाए, तो वजन से बड़ी आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कम वसा वाले 10 भोजनों के बारे में.

काली मिर्च (Black pepper)

काली मिर्च थोड़ी बेस्वाद ज़रूर होती है, लेकिन यह औषधीय गुणों से भरपूर होती है. काली मिर्च में केल्शियम ,आयरन, फास्फोरस, कैरोटिन, थाईमन, फाइट्रोन्यूट्रीयस जैसे पोष्टिक तत्व होते है. इसमें से फाइट्रोन्यूट्रीयस नामक तत्व अतिरिक्त चर्बी को काटता है. काली मिर्च में कैलोरी ना के बराबर होती है. टीस्‍पून काली मिर्च के अंदर केवल 8 कैलोरीज़़ होती हैं. इसलिए काली मिर्च के सेवन से मोटापा कम होता है. काली मिर्च वजन घटाने में लाभदायक तो है, मगर इसके ज्‍यादा सेवन से पेट में जलन भी हो सकती है, इसीलिए केवल एक सीमित मात्रा में ही इसका सेवन करें.

कैसे करें इस्तेमाल-

  • काली मिर्च को पान के पत्ते में डालकर चबाकर खाने से वजन घटता है.
  • काली मिर्च पाउडर को नींबू पानी में मिलाकर पी सकते हैं.
  • अदरक, नींबू, शहद, तुलसी, दालचीनी वाली चाय बनाएं। फिर उसमें आधा या 1 टीस्‍पून ताज़ी कुटी हुई काली मिर्च डाल लें और इसे ब्रेकफास्‍ट करने से पहले पिएं.
  • आप सुबह उठने के बाद एक या दो काली मिर्च को चबाकर पानी पी सकते हैं.

ग्रीन टी (Green Tea)

green-tea
कई अध्ययनों में पाया गया है कि ग्रीन टी आपकी पेट की चर्बी को कम करने में मदद करती है. इस में एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी अधिक होता है, जो शरीर से विषैले प्रदार्थ नष्ट करता है, जिससे बॉडी के इम्युनिटी सिस्टम को ताकत मिलती है और शरीर की बिमारियों से लड़ने की प्रतिरोधक शमता बढ़ती है और हम पेट की बिमारियों से बचे रहते है, पाचन क्रिया दरुस्त होती है, जो मोटापा कम करने में मदद करता है. ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा कॉफी से अधिक होती है, इसीलिए इसे सही मात्रा में और सही समय ही पीना चाहिए.

ग्रीन टी का सही समय-

  • सुबह खाली पेट, रात को सोने से पहले और खाना खाने के बाद एक कप ग्रीन टी पीएं, तो वजन जल्दी कम होता है.
  • मोटापा कम करने के लिए ग्रीन टी दिन में 3 से 4 कप पी सकते हैं.

तरबूज

watermelon
तरबूज एक ऐसा फल है, जिसमें बहुत पानी होता है और इसमें कैलोरी भी कम होती है. आपको जान कर हैरानी होगी कि 100 ग्राम तरबूज में बस 30 कैलोरीज़ ही होती हैं और इसमें 0 प्रतिशत फैट पाया जाता है. इसमें 92 प्रतिशत पानी होता है, इसीलिए तरबूज खाने के बाद आपका पेट काफी भर जाता है, जिसके बाद आप खाने की कम मात्रा ही ग्रहण कर पाते हैं और आपका वजन कम होने लगता है। डेली मेल में प्रकाशित एक खबर के अनुसार इससे रक्त वाहिकाओं के भीतर चर्बी नहीं जमती. शोधकर्ताओं का मानना है कि तरबूज के पोषक तत्वों का राज उसके रस में पाए जाने वाले स्रिटूलाइन रसायन में छुपा है.

तरबूज खाने का सही समय- हमेशा लिमिट में ही तरबूज का सेवन करें, क्‍योंकि ज़रूरत से ज़्यादा तरबूज खाना नुकसानदेह भी हो सकता है।

  • तरबूज खाने का सही समय है, दोपहर 12 से 1 बजे के बीच.
  • प्रति दिन आपको केवल 150 किलो कैलोरीज़ ही तरबूज के जरिए लेनी चाहिए।
  • तरबूज में 92 प्रतिशत तक पानी होता है, इसलिए आप अपने पानी का सेवन कम कर सकते हैं.

नाशपाती और सेब

Pears-and-applesसेब – मोटापा कम करने के लिए सेब के छिल्के में जादुई गुण होते हैं. सेब में हाई-डायट्री फाइबर फीटोस्ट्रॉल, फ्लेवेनॉयड्स, बीटा कैरोटीन औ पेक्टिन आदि तत्व मौजूद होते हैं, जो तेज़ी से वजन कम करने में सहायक होते हैं. एक मीडियम साइज़ के सेब में करीब 50 कैलोरीज़ होती है और इसमें फैट और सोडियम बिलकुल भी नहीं होता है.

नाशपाती – नाशपाती में फाइबर और पानी की मात्रा भरपूर होती है, जिससे भूख कम लगती है. यह पाचन क्रिया में भी सहायक है. यह आपके कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने के अलावा आपके कोरोनोरी हार्ट डिसीजेज और टाइप 2 डायबिटीज होने के खतरे को भी कम कर देती है.

अंडे

eggs
एक अंडे में 75 कैलोरी और 7 ग्राम प्रोटीन होने के साथ-साथ बहुत से पोषक तत्व होते हैं. एक अंडे में इतना कोलेस्ट्रोल होता है, जो आपके पूरे दिन के लिए काफी होता है. अंडे में बहुत कम वसा होती है. उबले अंडे को यदि ब्रेकफास्‍ट में खाया जाए, तो यह पेट को लंबे समय तक भरा रखता है. दरअसल अंडा मेटाबॉलिज्म और फैट गलाने की प्रक्रिया को तेज़ कर देता है.

इस बात का रखें ख्याल –

  • ऑमलेट बनाकर या स्क्रैब्लड रूप में अंडा कभी भी न खाएं, क्योंकि इनसे आपका वजन कम नहीं होगा. उबला हुआ अंडा ही वजन घटाने की प्रक्रिया में सहायता करता है.
  • अंडे की जर्दी का रोज़ सेवन न करें.
  • अगर आप मोटापा घटाने के लिए रोज़ अंडे का सेवन करने की सोच रहे हैं, तो अपनी डाइट का बैलेंस रखें और रोज़ाना 15 मिनट की एक्‍सरसाइज भी करें.

कॉफी

coffee
कॉफी में कैफीन होता है, जो कि शरीर में ऑक्सीटोसिन हार्मोन का उत्सर्जन बढ़ा देता है. इससे फैट जल्दी बर्न होता है और मोटापे पर भी असर देखने को मिलता है. 1 दिन में कैफीन की 400 मिलीग्राम खुराक से ऊर्जा ज़्यादा मिलती है. यह शरीर की मांसपेशियों में जमे फैट को अधिक आसानी से निकालने में मदद करती है.

सलाद

saladसलाद में कैलोरी कम होती है और पानी ज़्यादा होता है, हरी पत्तेदार सब्जियों में पर्याप्त मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स होने के साथ-साथ फाइबर भी पर्याप्त मात्रा में होता है, जो मोटा होने से बचाता है. इसलिए अपने सलाद में हरी और पत्तेदार सब्जियां ज़रूर शामिल करें.

अखरोट

walnutअखरोट या मेवा, भूख पर अंकुश लगाने के लिए एक बेहतर विकल्प है. अखरोट में ओमेगा-3 लिनोलेनिक एसिड मौजूद होता है, जो कि वजन घटाने में अहम भूमिका निभाता है. इसमें प्रोटीन और कैलोरी भी बहुत ज़्यादा होती है. साथ ही अखरोट में अच्छी मात्रा में पोलीफीनोल और फायटोकेमिकल्स होते हैं, जिनमें एंटी-आक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं, जिसकी वजह से अखरोट ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर आदि से बचाता है.

पॉपकॉर्न

Popcornपॉपकॉर्न में ना तो कैलोरी होती है और ना ही वसा. इन्हें खाने से थोड़े समय की भूख खत्म हो जाएगी.

मछली

fishमछली सबसे अच्छे प्रोटीन के स्रोतों में से एक है. मछली में लो फैट होता है, जिससे मोटापा नहीं बढ़ता है. तैलीय मछली में साल्मन, मकरेल, ट्यूना प्रोटीन आदि पोषक तत्व होते हैं और यह चयापचय को बढ़ाती हैं। इसमें वसीय एसिड (ओमेगा 3 एसिड) अधिक होते हैं, जो आपके पेट की चर्बी को जला देते हैं.

यह भी पढ़ें:

नवीनतम