राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट में दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक चरखा स्थापित किया गया है। लकड़ी के बने इस इलेक्ट्रॉनिक चरखे को गांधी जी के अहिंसक आंदोलन के सिम्बल के तौर पर विदेशों से आने वाले टूरिस्ट और गेस्ट को दिखाया जाएगा। आइए जानते है क्या खास है इस चरखे में:

  • इस इलेक्ट्रॉनिक चरखे की ऊंचाई6 फीट और चौड़ाई 31 फीट है।
  • लकड़ी और मेटल से बने इस चरखे का वजन 5 टन है।
  • इस चरखे में सूत की कताई तो नहीं होती लेकिन ये इलेक्ट्रॉनिक मोटर से घूमता है।
  • इस चरखे को मुंबई के जेजे स्कूल ऑफ आर्ट कॉलेज के 12 छात्रों ने 20 दिनों में तैयार किया है।
  • छात्रों ने ये चरखा कॉलेज के प्रोफेसर श्रीकांत खैरनार के मार्गदर्शन में तैयार किया।
  • बता दें इससे पहले भी दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर लकड़ी का चरखा लगाया गया था।
  • वह चरखा 15 फीट ऊंचा और 27 फीट चौड़ा है और उसमें 4 टन लकड़ी का इस्तेमाल किया गया है। उस चरखे को 26 कारीगरों ने 40 दिनों में बनाया था।

 

नवरात्रि कलश स्थापना का खास मुहूर्त