दुनिया की सबसे लम्‍बी और गहरी और अद्भुत सुरंग – गॉटहार्ड बेस

594

गॉटहार्ड बेस दुनिया की सबसे लंबी रेलवे सुरंग है। यह आल्प्स पहाड़ के 2.3 किमी. नीचे बनी है। स्विट्जरलैंड में स्थित 57 किमी. लंबी गॉटहार्ड बेस टनल को आम लोगों के लिए खोल दिया गया है। गॉटहार्ड बेस टनल से प्रतिदिन 260 मालगाड़ियां और 65 पैसेंजर ट्रेनें गुजरेंगी। ट्रैक पर ट्रेन 200 किमी./घंटे की स्पीड से दौड़ सकेगी।

इस सुरंग की खासियत

पहाड़ के ऊपर का तापमान जीरो डिग्री व सुरंग के अंदर का तापमान 46 डिग्री रहता है। ज्यूरिख से नॉर्थ इटली के मिलान के बीच अब 2 घंटे चालीस मिनट का समय लगेगा। यह पहले के मुकाबले एक घंटे कम होगा। इस सबसे लंबी रेल टनल को बनाने में करीब 17 साल लगे और इस पर 80 हजार करोड़ रुपये खर्च हुए हैं l

पर्यटक बढ़ौतरी और आमदनी में वृद्धि

ज्यूरिख और मिलान के बीच अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए यात्रा का समय पुराने गॉथर्ड मार्ग के माध्यम से चार घंटे की तुलना में ढाई घंटे तक कम हो जाएगा, जिसमें सुरंगों के माध्यम से चलने वाली ट्रेनें125 मील प्रति घंटे तक की यात्रा करती हैं। इसके खुलने के कुछ  महीनों के बाद यात्रियों की संख्या में 30% की वृद्धि हुई। इस पर ट्रेन यात्रा में एक विशेषज्ञ मार्क स्मिथ जिसे ” द मैन इन सीट 61 के नाम से भी जाना जाता है:- ने कहा कि “हम में से जो लोग पुराने मार्ग को याद करते हैं, वे इस उच्च ऊंचाई वाले गोथर्ड लाइन के सर्पिलों को ‘शीर्ष पर’ याद करेंगे, क्यूंकि यहाँ शानदार दृश्यों के साथ एक सुंदर मार्ग बना हुआ है।

विवादास्पद मेगाप्रोजेक्ट

वियना के दक्षिण में, आल्प्स के सबसे पुराने और सबसे प्रसिद्ध रेलवे को भी बाईपास किया जा रहा है। 17 मील, $ 3.65 बिलियन का सेमरिंग बेस सुरंग 2027 में खुल जायगी। इसके खुलने से ऑस्ट्रियाई राजधानी और मध्य यूरोप से एड्रियाटिक के लिए एक नया और तेज़ रास्ता बन जायगा। 1848 और 1854 के बीच खोला गया, वर्तमान पर्वतीय रेलवे पहले आल्प्स को पार करने के लिए था परन्तु अब यह एक यूनेस्को हेरिटेज साइट है।

इस निर्माण परियोजनाएँ में अनेक आलोचक या कठिनाइयां थी l चाहे राजनीतिक, पर्यावरण या बड़े पैमाने पर निर्माण परियोजनाओं से प्रभावित समुदाय। इसका मुख्य उदाहरण फ्रांस में ल्योन और उत्तरी इटली में ट्यूरिन के बीच विवादास्पद 170 मील का रेलवे है।

आल्प्स के माध्यम से खुदाई

इस परियोजना का पैमाना बहुत बड़ा था। इसके लिए दुनिया भर से 1900 से अधिक लोगों को काम पर लगाया गया था। जिसमें टेकियन, विस्फोट विशेषज्ञ और भारी उपकरण ऑपरेटर शामिल थे। खनिकों को आल्प्स के बाहर 24 मिलियन टन चट्टाने खोदनी थी। इसके लिए श्रमिकों ने दुनिया में सबसे बड़ी सुरंग खोदने वाली मशीनों का इस्तेमाल किया। यह मशीन दिन में 130 फीट से अधिक ठोस क्लस्टर खोद सकती थी। लेकिन अभी भी एक समस्या थी – वह थी पानी। ड्रिलिंग से पहाड़ों के अंदर बहुत सारा पानी जमा हो जाता था। इसके निकास का कोई साधन नहीं था l बाद में इस पानी को फ़िल्टर किया गया और आस – पास की नदियों में पुनर्निर्देशित किया गया।

रोलिंग मोटरवे

कीथ बैरो, कहते हैं, कि गोथर्ड बेस टनल (GBT) और सेनेरी सुरंगें अंतर्राष्ट्रीय महत्वपूर्ण परियोजना हैं। गोथर्ड बेस टनल एक व्यापक परियोजना का हिस्सा है, जिसे आधिकारिक तौर पर नई ट्रांस-अल्पाइन रेलवे के रूप में जाना जाता है। लोट्सबर्ग मार्ग “मोटरवे” के रूप में जानी जाने वाली गाड़ियों पर बड़ी मात्रा में कार्गो पहुंचाता है। खासकर दक्षिणी जर्मनी और उत्तरी इटली के बीच। बेस सुरंगों में लाखों अरबों डॉलर का निवेश किया जा रहा है, जिससे जर्मनी और इटली को जोड़ने वाले मुख्य रेलमार्गों में सुधार हो सके। अल्पाइन क्षेत्रों में सड़क यातायात बढ़ाने और भविष्य में अधिक यातायात की सुरक्षा के लिए, स्विस फेडरेशन जब भी संभव हो, सामान को सड़क से रेलमार्ग पर ले जाने के लिए काम कर रहा है।