विश्व ऊर्जा संरक्षण के बारे में कुछ विशेष

487

भारत में हर साल 14 दिसम्बर को राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस मनाया जाता है। भारत में ऊर्जा संरक्षण अधिनियम वर्ष 2001 में ऊर्जा दक्षता ब्यूरो द्वारा लागू किया गया था। ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (BEE) एक संवैधानिक संस्था है जो भारत सरकार के अधीन आती है। यह संस्था ऊर्जा के उपयोग को कम करने के लिए नीतियों और रणनीतियों के विकास में मदद करती  है।

क्या है ऊर्जा संरक्षण ?

ऊर्जा संरक्षण का अर्थ ऊर्जा के अनावश्यक उपयोग को कम करना है। जिससे की हम कम-से-कम ऊर्जा का उपयोग करें ताकि भविष्य में उपयोग के लिए ऊर्जा के स्रोतों को बचाया जा सके।

 उद्देश्य

  • यह लोगों के बीच जीवन के हर क्षेत्र में ऊर्जा संरक्षण के महत्व का संदेश देने के लिए मनाया जाता है।
  • ऊर्जा संरक्षण की प्रक्रिया को बढावा देने के लिये पूरे देश में बहुत से कार्यक्रमों जैसे: विचार विमर्श, सम्मेलनों, वाद-विवाद, कार्यशालाओं, प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है।
  • अत्यधिक और फालतू ऊर्जा के उपयोग के स्थान पर कम ऊर्जा के प्रयोग के लिये लोगों को प्रेरित किया जाता है।

 उपाय

  • घरो में पानी की टंकियो में पानी पहुँचाने के लिए टाइमर का उपयोग करके पानी के व्यर्थ उपयोग को रोककर विद्युत ऊर्जा की बचत की जा सकती है।
  • साधारण 100  वाट के बल्ब के स्थान पर कम्पेक्ट फ्लोरोसेंट लैंप (सी.एल.एफ) का प्रयोग कर 75  से 60  प्रतिशत तक बिजली बचाई जा सकती है
  • आई.एस.आई. वाले निशान के उपकरणों का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • शादी विवाह जैसे सामाजिक, धार्मिक कार्यक्रम जहाँ तक हो सके दिन में करने चाहिए।
  • दिन में सूर्य के प्रकाश का अधिक उपयोग करे।
  • मकान  के निर्माण के दौरान प्लाट के चारो तरफ़ बची हुई जगह में पेड़ पौधे लगाएं। ऐसा करने से हम मकानों को गर्म होने से बचा सकते है। इससे सीलिंग फैन और कूलर इत्यादि का कम से कम उपयोग करना पड़ेगा।
  • कमरे की दीवार की अंदर की तरफ  हलके रंगों का प्रयोग करे ऐसा करने से कम वाट के प्रकाश उपकरणों से कमरे को उचित रूप से प्रकाश हो सकता है।
  • कमरे के लिए हल्के रंग के पर्दों का प्रयोग करें।
  • खाना बनाने के लिए बिजली के स्थान पर सोलर कुकर व पानी गर्म करने के लिए गीजर के स्थान पर सोलर वाटर हीटर का उपयोग करें।
  • बल्व व ट्यूबलाइट पर जमी धूल को समय समय पर साफ़ करते रहना चाहिए।
  • पंखो की ब्लेड को साफ करते रहना चाहिए और समय समय पर ग्रीसिंग आयलिंग करते रहना चाहिए।
  • पुराने किस्म के रेगुलेटर के स्थान पर नए टाईप के इलेक्ट्रानिक्स रेगुलेटर लगवाएं।
  • फ्रिज का दरवाजा बार-बार खोलने बंद करने से बिजली अधिक खर्च  होती है।