जानिए तांबे के बर्तन में पानी पीने का सही समय

1153

आपने कई लोगों को तांबे के बर्तन में पानी पीते देखा होगा और कहते भी सुना होगा, कि तांबे के बर्तन में रखा पानी स्वास्थ्य के लिहाज से बेहद फायदेमंद होता है परन्तु इसका फायदा तभी होगा जब हम इसे सही समय पर इस्तेमाल करेंगे।

आज इस पोस्ट में हम जानेगें ताम्बे के बर्तन में पानी पीने का सही समय के बारे में, तो चलिए जानतें हैं :-

शरीर को बैक्टीरिया से बचाता है तांबा

तांबे के बर्तन की रोगाणुओं, विशेष रूप से बैक्टीरिया को नष्ट करने की क्षमता है। वास्तव में, तांबा ई.कोली और एस.ऑरियस (दो प्रकार के बैक्टीरिया जो दस्त और पेचिश का कारण बन सकते हैं) से निपटने के लिए उत्कृष्ट है।

मस्तिष्क के लिए फायदेमंद

कॉपर एक धातु है जो माइलिन के निर्माण में मदद कर सकती है। जो तंत्रिका कोशिकाओं (nerve cells) की सुरक्षा करती है और आपके सभी कॉग्निटिव फंक्शन के लिए महत्वपूर्ण है।

बैलेंस करता है मेटाबॉलिक एनर्जी

आयुर्वेद के अनुसार, हर किसी के पास एक प्रमुख चयापचय ऊर्जा (dominant metabolic energy) होती है। इन्हें वात, पित्त और कफ के नाम से जाना जाता है।

यदि इन ऊर्जाओं में कोई असंतुलन है, तो आपको चिकित्सा संबंधी समस्याओं और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। आयुर्वेद मानता है कि इसका पानी पीने से इन सभी तरह की एनर्जी को बैलेंस करने में मदद मिलती है।

कैसा होना चाहिए बर्तन

  • ऐसा बर्तन चुनें जो पूरी तरह से तांबे से बना हो और अन्य धातु के साथ मिश्रित न हो, अन्यथा आपको तांबे के उपयोग का पूरा लाभ नहीं मिलेगा।
  • इस बर्तन का इस्तेमाल करने से पहले उसे नींबू और पानी से धो लें। किसी डिशवॉशिंग साबुन का उपयोग न करें, क्योंकि यह बहुत नुकसानदायक हो सकता है।

पानी पीने का सही तरीका

  • बर्तन में पानी भरकर अपने पलंग के पास रख दें और सुबह सबसे पहले इसे पिएं। ऐसा करने से पानी का स्वाद थोड़ा धात्विक लग सकता है लेकिन आपको समय के साथ इसकी आदत हो जाएगी।
  • इसके अलावा, सुबह सबसे पहले शरीर को ऊर्जावान बनाने के लिए एक गिलास साफ, ठंडे पानी से अच्छा कुछ नहीं है।

क्या नहीं करना चाहिए तांबे के बर्तनों के साथ?

आयुर्वेद तांबे के बर्तन से दिन में केवल दो बार पीने की सलाह देता है और इससे ज्यादा नहीं।

इसके बर्तन से पानी पीना बिल्कुल ठीक है लेकिन उनमें खाना न पकाएं। कॉपर टॉक्सिटी एक वास्तविकता है। तांबे के बर्तन में खाना पकाने से हमारे भोजन में और हमारे सिस्टम में तांबे का रिसाव हो सकता है।

यदि आपके 5 शरीर में अत्यधिक मात्रा में तांबा चला गया, तो आपको मतली और दस्त का लग सकते हैं।

यदि आप तांबे में खाना बनाना जारी रखते हैं, तो आप अपने लिवर को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाने के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। यही कारण है कि खाना पकाने के बर्तन स्टेनलेस स्टील या टिन के साथ बने होते हैं।

यह भी पढ़ें :-

तांबे के बर्तन में पानी पीने के आजमाए हुए फायदे!