भारत में ही नहीं, विदेशों में भी कई लोकप्रिय शिव मंदिर हैं, हर साल लाखों लोग दर्शन के लिए आते हैं।

240

वैसे तो शिव की पूजा कई तरह से और कई जगहों पर की जाती है। मुख्य रूप से भारत और नेपाल में हिंदू धर्म के अनुयायी भगवान शिव को अपने सर्वश्रेष्ठ देवता के रूप में पूजते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत के अलावा कुछ देश ऐसे भी हैं जहां भोलेनाथ के भक्त बड़ी संख्या में हैं। यही कारण है कि यहां पूजा करने के लिए शिव के कई लोकप्रिय मंदिर हैं।

इनमें कई ऐसे मंदिर हैं जो हजारों साल पुराने हैं और आज तक अपना अस्तित्व बनाए हुए हैं। आज हम इस पोस्ट में विदेशों में स्थित शिव मंदिरों के बारे में बताने जा रहें हैं, जो अपनी भव्यता और स्थापत्य शैली के कारण दुनिया में काफी लोकप्रिय हैं।

मुन्नेश्वरम मंदिर, श्रीलंका

श्रीलंका में मुन्नेश्वरम मंदिर शिव भक्तों के बीच बहुत लोकप्रिय है। आपको बता दें कि इस शिव मंदिर का निर्माण रामायण काल ​​में हुआ था और इसके पीछे कई पौराणिक कथाएं हैं।

कहा जाता है कि रावण को हराने के बाद श्री राम ने यहां बैठकर शिव की पूजा की थी। इस मंदिर में पांच मंदिर हैं, जिनमें से सबसे विशाल मंदिर भगवान शिव का है।

इस शिवलिंग की स्थापना स्वयं भगवान राम ने की थी, इसलिए इसे रामलिंगम भी कहा जाता है। मंदिर का निर्माण दक्षिण भारतीय द्रविड़ शैली के मंदिरों की तरह किया गया है।

अरुल्मिगु श्रीराजा कलिअम्मन मंदिर, मलेशिया

मलेशिया के इस शिव मंदिर का निर्माण 1922 में हुआ था, जिसकी खूबसूरती हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करती है। इस भव्य मंदिर की वास्तुकला काफी आकर्षक है और यह मंदिर जोहर बारू के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है।

आपको बता दें कि कांच से बना यह पहला शिव मंदिर है। इस मंदिर की दीवार पर 3,00,000 रुद्राक्ष की मालाएं हैं, जो देखने में बेहद भव्य लगती हैं।

पशुपतिनाथ मंदिर, नेपाल

 

नेपाल में पशुपतिनाथ मंदिर भी बहुत प्रसिद्ध है। दुनिया भर से श्रद्धालु यहां मंदिर दर्शन के लिए आते हैं। भगवान शिव का यह अति प्राचीन मंदिर काठमांडू में स्थित है जो बागमती नदी के तट पर स्थित है।

भगवान शिव यहां के सभी शासकों के अधिष्ठाता देवता रहे हैं। कहा जाता है कि इस मंदिर के दर्शन करने वाले भक्त फिर कभी पशु योनि में जन्म नहीं लेते हैं।

शिवा टैम्पल- ज़्यूरिख़, स्विट्ज़रलैंड

यह एक छोटा लेकिन सुंदर शिव मंदिर है। यहां के गर्भ गृह में शिवलिंग के पीछे भगवान शिव की नटराज स्वरूप में और देवी पार्वती की शक्ति से रूप में मूर्तियां स्थित है। इस मंदिर में भगवान शिव से जुड़े हुए सभी त्योहार बहुत ही धूम-धाम से मनाए जाते हैं।

शिवा-विष्णु मंदिर- मेलबोर्न, ऑस्ट्रेलिया

भगवान शिव और विष्णु को समर्पित इस मंदिर का निर्माण लगभग 1987 के आस-पास किया गया था। मंदिर के उद्घाटन कांचीपुरम और श्रीलंका से दस पुजारियों ने पूजा करके किया था।

इस मंदिर की वास्तुकला हिन्दू और ऑस्ट्रेलियाई परंपराओं का अच्छा उदाहरण है। मंदिर परिसर के अंदर भगवान शिव और विष्णु के साथ-साथ अन्य हिंदू देवी-देवताओं की भी पूजा-अर्चना की जाती है।

शिवा मंदिर- ऑकलैंड, न्यूजीलैंड

न्यूजीलैंड के ऑकलैंड में स्थित शिव मंदिर भी वाकई में बेहद खूबसूरत है। न्यूजीलैंड के इस मंदिर की स्थापना का मुख्य कारण लोगों के बीच हिंदू धर्म के प्रति आस्था और विश्वार बढ़ाना था।

कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी शिवेंद्र महाराज और यज्ञ बाबा के मार्गदर्शन में हिन्दू शास्त्रों के अनुसार किया गया था।

यहां भगवान शिव नवदेश्वर शिवलिंग के रूप में विराजमान हैं। आपको बता दें कि 2004 में पहली बार इस मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले गए थे।

यह भी पढ़ें :-